समाज सेवा पेशा से जुड़े हरिनारायण सिंह बन गये कथित द रांची प्रेस क्लब के उपाध्यक्ष !

Share Button

राजनामा.कॉम। तथाकथित द रांची प्रेस क्लब के निबंधन में भारी गड़बड़ियां बरती गई है। जहां एक तरफ निबंधन कार्यालय ने उन गड़बड़ियों को नजरअंदाज किया है वहीं, इस कथित क्लब के रहनुमाओं ने अपनी ही नियमावली को ताक पर रख दिया है।

राजनामा.कॉम के पास उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार कथित द रांची प्रेस क्लब संस्था की सदस्यता की मूल शर्त है कि जो पत्रकारिता से जुड़ा है।

कार्यकारिणी समिति का गठन में साफ उल्लेख है कि संस्था की कार्यकारिणी समिति में पदाधिकारियों सहित कुल सात सदस्य होगें, जिनका कार्यकाल 2 वर्ष का होगा। सदस्यों की संख्या असीमित बताई गई है और 11 आकांक्षी सदस्य बताये गये हैं।

उपरोक्त दस्तावेज कथित द रांची प्रेस क्लब के सचिव द्वारा न्यायालीय शपथ पत्र के साथ निबंधन कार्यालय को निबंधन प्रक्रिया के दौरान सौंपे थे।

निबंधन कार्यालय को सौंपे गये नियमावली में कार्यकारिणी समिति का कार्य क्लब के प्रति दिन का कार्य देखना और सभी तरह के पदों को भरना बताया गया है, वहीं पदाधिकारियों का कार्य एवं अधिकार में क्लब के सभी प्रकार के कार्य  को देखना एवं किसी भी सदस्य को सदस्यता प्रदान एवं समाप्त करने का जिक्र है।

उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार कथित संस्था की कार्यकारिणी समिति के 7 सदस्यों की सूची के प्रथम पृष्ठ पर क्रम संख्या-3 में कोकर चौक, ओल्ड हजारीबाग रोड, रांची निवासी हरिनारायण सिंह पिता स्व. खेमराज सिंह की शैक्षणिक योग्यता-बीए पास, पेशा- समाज सेवा और पद नाम उपाध्यक्ष बताया गया है।

यही नहीं हरिनाराण सिंह के नाम का उल्लेख 11 आकांक्षी व्यक्ति की सूची एवं विवरण में भी है।

इस विवरणी पत्र में भी क्रम संख्या-3 पर ही श्री सिंह को कोकर चौक, ओल्ड हजारीबाग रोड, रांची निवासी हरिनारायण सिंह पिता स्व. खेमराज सिंह की शैक्षणिक योग्यता-बीए पास, पेशा- समाज का उल्लेख है। यहां पर उनका पदनाम की कोई चर्चा नहीं है।

अब सबाल उठता है कि जब कथित द रांची प्रेस क्लब की नियमावली के अनुसार जब सदस्यता की मूल शर्त है कि जो पत्रकारिता से जुड़ा है। तो फिर समाज सेवा पेशा से आने वाले हरिनारायण सिंह को सीधे उपाध्यक्ष कैसे बना दिया गया।

और तो और श्री सिंह को कथित संस्था की कार्यकारिणी समिति के 7 सदस्यों की सूची के साथ हीं 11 आकांक्षी व्यक्ति की सूची एवं विवरण में जिक्र किये जाने के पीछे राज़ क्या है।

Share Button

Relate Newss:

न्यूज पोर्टलो में निष्पक्षता का अभाव
नालंदा में मुखिया की चचेरे भाई समेत गोली मार कर दिनदहाड़े हत्या
सुशील मोदी ले जाएं नीतीश को, अपनी बहन की शादी कराएं :राबड़ी देवी
सड़क पर गजराज, समझिये इनके गुस्से
महादलित महिला के काटे बाल, मुंह पर पोती कालिख, गले में चप्पल डाल सरेआम घुमाया, भीड़ तमाशबीन
बदलाव की आंधी में उड़े या खुद को नहीं आंक पाये सुदेश ?
नरेन्द्र मोदी अलोकतांत्रिक और अहंकारी हैं ‘अमित शाह!
‘दुर्ग’ की रिहाई पर बाड़मेर में बंटी मिठाईयां,  तेज हुई CBI जांच की मांग ‘
एक साल में चार वर्षों की दिशा तय की :रघुवर दास
Delhi journo to become first to be arrested for Twitter trolling
मीडिया की परेशानी और चुनौतियों को भारत सरकार तक पहुंचाए पीआईबी
सादगी के पर्याय हैं झारखंड के मंत्री सरयू राय !
सभी हाइवे से सरकार हटाए शराब की दुकानें  : सुप्रीम कोर्ट
ऐय्याश-भगोड़ा विजय माल्या को भारत लाना दूर की कौड़ी, गिरफ्तारी के 3 घंटे बाद ही रिहा
जानिए विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई की अलग कहानी, संतोष भारतीय की जुबानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...