वैध नहीं है हिंदू महिला और ईसाई पुरुष के बीच शादी :हाईकोर्ट

Share Button

madras high courtमद्रास हाईकोर्ट ने गुरुवार को एक अहम फैसला देते हुए कहा कि हिंदू महिला और ईसाई पुरुष की शादी तब तक वैध नहीं है, जब तक दोनों में से कोई एक धर्म परिवर्तन नहीं करता।

कोर्ट ने यह फैसला महिला के परिजनों द्वारा दायर याचिका पर दिया।

हिंदू महिला के परिजनों द्वारा दाखिल बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका को खारिज करते हुए जस्टिस पी.आर शिवकुमार और वी.एस रवि ने कहा कि यदि यह जोड़ा हिंदू रिवाजों के अनुसार शादी करना चाहता था तो पुरुष को हिंदू धर्म अपनाना चाहिए था।

यदि महिला ईसाई रिवाजों के अनुसार शादी करना चाहती थी तो उसे ईसाई धर्म ग्रहण करना चाहिए था।

साथ ही पीठ ने यह भी कहा कि यदि वे दोनों अपना-अपना धर्म बनाए रखना चाहते थे, तो विकल्प के रूप में उनकी शादी विशेष विवाह अधिनियम 1954 के तहत पंजीकृत कराई जानी चाहिए थी।

Share Button

Relate Newss:

क्या इन्सान नहीं हैं नेवरी और पीपरा चौड़ा के मुसलमान ?
नीतिश कुमार ने निभाया अहम वादा, बिहार में शराबबंदी की घोषणा
रिपोर्टर ने पूछा रात का रेट तो सनी लियोनी ने जड़ा थप्पड़ !
बिहार-झारखंड, यहां जदयू-भाजपा सरकार की आत्मा जिंदा कहां है ?
कोल्हान DIG से पीड़ित पिता की गुहार, ऐसे अफसरों-पत्रकारों पर कार्रवाई करें हुजूर
प्रेस कांफ्रेंस में पत्रकार से बोले राष्ट्रपति- ‘तुम बेहूदा रिपोर्टर हो’
नए राजनीतिक समीकरण के साथ बिहार में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल
अखिलेश सरकार के लिये बड़ी नसीहत यादव सिंह प्रकरण
बीबी के गहने और अपनी जमीनें पाने के लिए मंत्री बनेगें नवीन!
मैग्सेस पुरस्कार पाने वाले 11वें भारतीय हैं रवीश कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...