वैध नहीं है हिंदू महिला और ईसाई पुरुष के बीच शादी :हाईकोर्ट

Share Button

madras high courtमद्रास हाईकोर्ट ने गुरुवार को एक अहम फैसला देते हुए कहा कि हिंदू महिला और ईसाई पुरुष की शादी तब तक वैध नहीं है, जब तक दोनों में से कोई एक धर्म परिवर्तन नहीं करता।

कोर्ट ने यह फैसला महिला के परिजनों द्वारा दायर याचिका पर दिया।

हिंदू महिला के परिजनों द्वारा दाखिल बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका को खारिज करते हुए जस्टिस पी.आर शिवकुमार और वी.एस रवि ने कहा कि यदि यह जोड़ा हिंदू रिवाजों के अनुसार शादी करना चाहता था तो पुरुष को हिंदू धर्म अपनाना चाहिए था।

यदि महिला ईसाई रिवाजों के अनुसार शादी करना चाहती थी तो उसे ईसाई धर्म ग्रहण करना चाहिए था।

साथ ही पीठ ने यह भी कहा कि यदि वे दोनों अपना-अपना धर्म बनाए रखना चाहते थे, तो विकल्प के रूप में उनकी शादी विशेष विवाह अधिनियम 1954 के तहत पंजीकृत कराई जानी चाहिए थी।

Share Button

Relate Newss:

एक आरटीआई एक्टिविस्ट ने हिला डाली सुशासन बाबू की चूल !
पीएम मोदी के सामने डरते-कांपते पंजाब केसरी के मालिक!
JUJ ने राजभवन का घेराव कर दिया एकदिवसीय धरना
भगवान बिरसा जैविक उद्दान ओरमांझीः चतुर्थवर्गीय पदों की नियुक्ति में भारी अनियमियता
बिहार में भाजपा की लंका जलाने में मोदी-शाह के विभिषण प्रशांत की रही अहम भूमिका
इधर केंद्रीय गृहमंत्री की बैठक, उधर राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या
झारखंडी आदिवासी का असली दुश्मन
16 टन का भार दांतो से खींचने वाले राजेन्द्र ने दी खुली चुनौती
अब पुराने घर-दल कांग्रेस में वापस लौटेंगे तारिक अनवर
‘दुर्ग’ की रिहाई पर बाड़मेर में बंटी मिठाईयां,  तेज हुई CBI जांच की मांग ‘
हे मां लक्ष्मी🙏  इस धनतेरस व दिवाली को मेरे घर मत आना✍
मंगनीलाल मंडल पर कार्रवाई, रामविलास पर क्यों नही !
बड़कागांव गोली कांडः पुतला दहन जुलूस के बीच सीएम ने दिये जांच के आदेश
बीडीओ को निशाना बनाकर विधायक ने करा ली अपनी किरकिरी
हिन्दी के ही एफएम चैनल कर रहे हैं हिन्दी का बेड़ा गर्क :राहुल देव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...