विधायक, सेल्फी और दैनिक प्रभात खबर की पत्रकारिता

Share Button

रांची (मुकेश भारतीय)। सब अखबार की अपनी-अपनी सोच होती है। खास कर उससे जुड़े समाचार लेखक और संपादकों की। दैनिक प्रभात खबर पर टारगेट जर्नलिज्म के आरोप लगते रहे हैं। कई ऐसे उदाहरण सामने आये हैं, जोकि अखबार की मानसिकता पर कड़े सबाल उठाते हैं। यही कारण है कि अखबार नहीं आंदोलन का दंभ भरने वाली इस अखबार के प्रसार-प्रतिष्ठा में तेजी से गिरावट आई है।

दैनिक प्रभात खबर के 20 जनवरी (रांची संस्करण) के प्रथम पेज पर “ गौर से देखिये, साथी का शव लेकर जा रहे हैं ये? ” शीर्षक से लीड न्यूज प्रकाशित किया गया है। रोजमर्रा की जिंदगी की घटनाओं पर आधारित फोटो लेकर प्रमुख समाचार प्रकाशित करना संपादक की मानसिकता पर निर्भर करता है।

फोटो में नजर आ रहे एक युवा विधायक (झामुमो के सिल्ली विधायक अमित महतो) ने फेसबुक पर गंभीर टिप्पणी की है, जो प्रभात खबर की पत्रकारिता को आयना दिखाता है।

विधायक ने अपनी फेसबुक वाल पर लिखा है....

“दैनिक अखबार प्रभात खबर के पत्रकार साथियों एवं सम्पादक महोदय, यह भी सेल्फी की ही तस्वीरें हैं, सेल्फी लेने का ये आशय यह नहीं होता है कि सिर्फ सुखद क्षणों को ही कैमरे में कैद किया जाना, बल्कि दुःखद क्षण भी शामिल होते हैं महोदय, चेहरे के भाव को समझिए, मेरी इच्छा थी कि मैं अलग झारखंड राज्य के क्रांतिकारी योद्धा व साथी श्री अनिल दा के अंतिम यात्रा के पलों की कुछ तस्वीरें कैद कर लूँ!

तस्वीरें मैं इसलिए शेयर करता हूँ कि लोग मेरी गतिविधियों को जान पाएँ, परन्तु आपकी नजरीये को देख मुझे काफी ताज्जुब हुआ, पिछले 17 वर्षों के राजनीतिक सफर में कभी भी आपने कोई जगह नहीं दिया और अचानक दिया तो महामहिम राष्ट्रपति, श्री प्रणव मुखर्जी, माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी से उपर!

माँ ने अहले सुबह अखबार दिखाया और कहा अमित दाल में काला है, मैंने देखा तो कहा काला में दाल है माँ, Paid News मत बनाइए, मेरी बुराईयों की तलाश करें, क्योंकि मुझे मालूम हो चुका है कि मेरी अच्छाइयां आपलोगों से देखी……… जाती, रिक्त स्थान को झारखण्डी जनता भरेगी,सधन्यवाद ”

अपने फेसबुक वाल पर अपनी पोस्ट के साथ अनेक सेल्फी फोटों भी डाले हैं, जिसे देखकर प्रतीत होता है कि वे अखबार को चिढ़ा रहे हैं कि लो, और लो। जितना छापना है छाप लो।

उल्लेखनीय है कि झामुमो के युवा विधायक डॉ अनिल मुर्मु को लो ब्लड प्रेशर के बाद गंभीर स्थिति में दुमका सदर अस्पताल भर्ती कराया गया था, जहां डॉक्टरों की टीम उन्हें मृत घोषित कर दिया था। उसके उपरांत उनके शव को झारखंड विधान सभा एवं झामुमो पार्टी कार्यालय में श्रद्दाजंलि देने हेतु दुमका से रांचा लाया गया था।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...