वरिष्ठ संपादक हरिनारायण जी ने यूं उकेरी उषा मार्टिन एकेडमी के छात्र की पीड़ा

Share Button
Read Time:4 Minute, 55 Second

साथियो आज मैं बहुत ही चिंतित हूं। चिंता का कारण कोई व्यक्तिगत नहीं, बल्कि एक छात्र की पीड़ा है, जिसे सुन कर मैं विचलित हूं। आप भी सुनिये उस पीड़ा को।

गढ़वा का एक छात्र 2011 में जिमखाना क्लब पहुंचा। वहां पर उसने उषा मार्टिन एकेडमी का बोर्ड देखा। वह उस तरफ आकर्षित हुआ। कैंपस में पहुंचा। वहां बताया गया कि उषा मार्टिन एकेडमी बीबीए, बीसीए, बीएसीआइटी, एमबीए, एमसीए का रेगुलर कोर्स कराती है। उस बच्चे ने वहां एडमिशन ले लिया। एडमिशन में 30 हजार रुपये लगे।

उसे बताया गया कि 2014 में उसे रेगुलर डिग्री मिल जायेगी। उषा मार्टिन एकेडमी के नाम पर वह छात्र प्रभावित हुआ। उस जैसे हजारों छात्र प्रभावित हुए। वह रांची में रह कर पढ़ाई करने लगा। रेगुलर क्लास होने लगा। छह सेमेस्टर में उसने 1.20 लाख रुपये जमा किये। रांची में रहने में उसे हर माह दस हजार रुपये खर्च हो रहे थे। तीन साल में उसने साढ़े तीन लाख रहने, खाने में खर्च किये।

उसके परिजनों ने जमीन बेच कर फीस दी। उसे 2014 की जगह 2015 में डिग्री दी गयी। उसे उषा मार्टिन एकेडमी की तरफ से करेक्टर सर्टिफिकेट मिला। उसे उषा मार्टिन एकेडमी की तरफ से मनी रिसिप्ट दी गयी। डिग्री देख वह अवाक हो गया। डिग्री पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी की थी।

खैर, उसने सोचा कि चलिए वही सही, रेगुलर डिग्री तो है। लेकिन आज उस बच्चे के ऊपर पहाड़ टूट पड़ा। आज यानी भगवान बिरसा मुंडा की पुण्यतिथि 9 जून को वह पिस्का मोड़ स्थित एक्सिस बैंक में इंटरव्यू देने गया। वह खुश था। भगवान बिरसा मुंडा को भी मनन कर रहा था। सोच रहा था, नौकरी पाकर उसकी तकदीर संवर जायेगी। उसका इंटरव्यू हो गया। मैनेजर आलोक प्रकाश बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने कहा कि आप अपनी डिग्री जमा कर दें और ज्वाइन कर लें।

लेकिन जब उसने डिग्री दिखायी, तो उसे बताया गया कि यह रेगुलर डिग्री नहीं, बल्कि डिस्टेंस कोर्स की डिग्री है। न हम आपको नौकरी दे सकते हैं और न ही सरकारी बैंक। यह सुन छात्र रोने लगा। घर आया। उसके पिता मेडिका में एडमिट हैं। उसने सोचा था कि जिस पिता ने अपनी कमाई खर्च कर, जमीन बेच हमें पढ़ाया, हम उनके काम आयेंगे, लेकिन वह अब अपने को असहाय महसूस कर रहा है।

वह बरियातू थाने गया। उसने लिखित शिकायत की है। उसके बाद वह आजाद सिपाही कार्यालय आया। अपनी पीड़ा कहते-कहते वह रोने लगा। उसका सवाल था: इतनी बड़ी कंपनी उषा मार्टिन और उसके मालिकों ने हमारे साथ धोखाधड़ी क्यों की? अगर उन्हें डिस्टेंस कोर्स ही कराना था, तो उन्होंने उषा मार्टिन एकेडमी के बोर्ड पर डिस्टेंस कोर्स का जिक्र क्यों नहीं किया। वहां पावर्ड बाइ उषा मार्टिन इंडस्ट्री क्यों लिखा गया?

अखबार में भी जो बड़े बड़े विज्ञापन दिये गये, उसमें कहीं भी पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी और डिस्टेंस कोर्स का जिक्र नहीं था। पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी का डिस्टेंस कोर्स तो छह हजार रुपये में होता है। रांची में उसके कई ब्रांच हैं, जहां छात्र जाते ही नहीं। और हमें अगर डिस्टेंस कोर्स ही करना होता तो फिर रांची में रह कर प्रति महीने हम दस हजार रुपये खर्च क्यों करते। फिर तो घर पर रह कर यहां आकर परीक्षा दे देते। उसने कहा, क्या हमें न्याय मिलेगा? क्या मुझे अब नौकरी मिल पायेगी?
मित्रो, आप भी कुछ कहिए ताकि हम उस छात्र को आपकी तरफ से कोई सुझाव दे सकें।

 …………….. अपने फेसबुक वाल पर दैनिक आजाद सिपाही के प्रधान संपादक हरिनारायण सिंह

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

भ्रष्ट बीडीओ की गिरफ्तारी का मामला खोल रही रघु’राज की जीरो टालरेंस की पोल !   
दैनिक ‘तरुणमित्र’ मचा रहा बिहार में तहलका !
सदस्यता के नाम पर लाखों वसूल रहा इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन
धनपशुओं की मात्र दुकान बन गई हैं ऐसे न्यूज़ चैनल
मैं न होता तो बिपीन मिश्रा रात में ही टपक जाताः श्वेताभ सुमन
सीएम-गवर्नर को गाली देता है गुरुजी का पीए
महिला पत्रकार को महंगा पड़ा फेसबुक पर मदरसा में यौन शोषण का मामला उठाना
आमिर खान को 818 रुपये की लगान वसुली का नोटिस
ऐसी नौटंकी से क्या दूर होगा बाल विवाह और दहेज की कुप्रथा !
रघुवर दास के बेटे के 'SEX AUDIO' पर हाईकोर्ट में याचिका
CBI DIG के इस नए खुलासे में केन्द्रीय मंत्री से लेकर अजीत डोवल तक फंसे
नीतिश सरकारः मीडिया में महज चेहरा चमकाने पर फूंक डाले 500 करोड़
डौंडिया खेड़ा किले से खजाना का पीपली लाइव जारी !
सड़क पर गजराज, समझिये इनके गुस्से
झारखंड में मस्ती मार लौट रहे बिहार में धराये यूपी के दयाशंकर !
पाटलिपुत्रः भाजपा के लिये मुसाबत बने लालू के 'हनुमान'
......तो तुम गरीब कैसे हुए ?
राबड़ी के कटाक्ष ने पहना दी आरएसएस को फुलपैंटः लालू
जी न्यूज़ का "काला पत्थर"
CIC ने किया PMO के अफ़सरों को तलब, क्यों नहीं दे रहे नोटबंदी से जुड़ी सूचनाएं
केजरीवाल जी, इन 20 लोगों में कहां है आम आदमी
सावधान ! नई दिल्ली से हर तरफ फैला है पत्रकार बनाने का यह गोरखधंधा
'भारत रत्‍न' हो गए प्रो. राव और सचिन तेंदुलकर
इंटर काउंसिल छात्रों का हंगामा, पुलिस ने चटकाई लाठियां
अध्यक्ष अमित शाह के नसीहत पर भाजपा की झाड़ू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...