लोग गाय, सुअर, भैंस..कुछ भी का मांस खा सकते हैं :केरल भाजपा अध्यक्ष

Share Button

गोमांस खाने को लेकर चल रही बहस के बीच बीजेपी के नेता वी. मुरलीधरन ने सोमवार को कहा कि लोग कुछ भी खाने के लिए स्वतंत्र हैं और ये गोमांस, भैंस का मांस या सुअर का मांस भी हो सकता है.

BJP leader V Muraleedharanवी. मुरलीधरन बीजेपी की केरल इकाई के अध्यक्ष हैं. उन्होंने कहा, “कुछ भी खाया जा सकता है. चाहे गोमांस हो या फिर भैंस या सुअर का मांस. यह निजी पसंद का विषय है.”

उत्तर भारत के अपने पार्टी नेताओं से इतर मुरलीधरन ने कहा कि बीजेपी कभी भी लोगों को यह निर्देश नहीं देती कि क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.

आपको बता दें कि नोएडा के दादरी में गोमांस की अफवाह के बाद हत्या से उठे इस मुद्दे पर अब तक बहस चल रही है. नेताओं की बयानबाजी जारी है. कोई गोमांस पर प्रतिबंध की बात कर रहा है तो कोई कह रहा है कि अगर गोमांस खाना है तो मुस्लिमों को देश छोड़ना होगा.

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने दो टूक कहा था कि देश में मुस्लिमों को रहना है तो बीफ छोड़ना होगा.

कश्मीर में भी करीब 10 दिनों पहले ऊधमपुर कस्बे में एक भीड़ ने एक खड़े ट्रक पर पेट्रोल बम फेंका था. इस भीड़ को इस ट्रक में गोमांस होने का शक था.

इस हमले में घायल जाहिद भट्ट की मौत हो गई है. कश्मीर में इसे लेकर विरोध जारी है.

बीजेपी के विवादास्पद सांसद साक्षी महाराज ने गोवध के दोषियों को मृत्युदंड के प्रावधान वाला कानून बनाये जाने की मांग कर चुके हैं.

Share Button

Relate Newss:

बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में पुलिस-कैदी का यह कैसा सुराज? देखिये वीडियो
अर्थव्यवस्था में नकदी भ्रष्टाचार और कालेधन का बड़ा स्रोत : पीएम मोदी
सरकार की मजबूरियों को नहीं ढोएगा हिन्दू समाजः भागवत
अत्याचार जारी रहा तो उठेगी दलितस्तान की मांग : श्याम रजक
हिन्दुस्तान रिपोर्टर पर हमला, हुआ काउंटर केस, खतरे में आंचलिक पत्रकारिता
बिहार की 'निर्भया' की नीति और नियत पर उठे सबाल
कर्नाटक के सीएम सिद्दारमैया ने कमिश्नर को सरेआम चांटा मारा
अब असम के राज्यपाल बौराए, कहा- सिर्फ हिन्दुओं का है हिन्दुस्तान
सच को दबाने की वैधानिक साज़िश
अंततः कोर्ट के आदेश से दर्ज हुआ इंजीनियरों पर गबन का FIR
खूंटी में विकास के ये कैसे रास्ते हैं ?
IPRD MEDIA व्हाट्सअप ग्रुप ने शुरु की नौकरशाहों की आरती उतारने की महान परंपरा
गद्दार हैं ‘70 वर्षों में देश में कुछ नहीं हुआ’ कहने वाले
सरकारी विज्ञापनों में अब नहीं दिखेगा पांच साल तक सिर्फ पीएम का चेहरा
हिंदी पत्रकारिता दिवस: बिहार में साहित्यिक पत्रकारिता का विकास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...