लालू ने दी अपने विधायकों को स्टिंग, अनुशंसा और भोग से बचने की नसीहत

Share Button

lalu-rabri

लालू ने नए विधायकों को समझाया कि ऐसा कोई काम मत करना जिससे स्टिंग में फंसे। लालू ने पहली बार निर्वाचित हुए अपनी पार्टी के विधायकों को प्रतिबंधित लाल बत्ती नहीं लगाने, स्टिंग ऑपरेशन में फंसने लायक काम नहीं करने तथा तबादले सहित किसी प्रकार की अनुशंसा वाला पत्र लिखने से बचने आदि की भी नसीहत दी।

आपको बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव में नवनिर्वाचित आरजेडी एवं जेडीयू के कुछ विधायकों के अपनी पसंद का सरकारी आवास हड़पने की रिपोर्ट के बीच आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद ने विधायकों को कडे शब्दों में याद दिलाया कि भारी जनादेश ने उनके कंधों पर बडी भारी जिम्मेदारी सौंपी है।

पटना में आज अपनी पार्टी की एक बैठक के दौरान लालू ने कहा, ‘विधायक आवास के लिए संघर्ष क्यों? सभी को नियम के अनुसार घर मिलेगा।’

मीडिया में आयी रिपोर्ट के अनुसार आरजेडी और जेडीयू के कुछ नवनिर्वाचित विधायकों आरजेडी विधायक अरूण कुमार यादव एवं अनिल कुमार यादव तथा जदयू विधायक आर एन सिंह ने आवंटन के पूर्व अपनी पसंद के आवासों पर दावा पेश करने के लिए वहां अपना नेम प्लेट लगवा दिया है।

लालू ने अपने 1990 में मुख्यमंत्री बनने पर पटना के वेटनरी कालेज के चपरासियों के लिए आवंटित क्वार्टर में चार महीने तक रहने के बारे बताते हुए कहा कि उस दौरान उन्होंने वहां जनता दरबार भी आयोजित किया था।

उन्होंने अपने छोटे पुत्र और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की उक्त टिप्पणी कि जनता ने भोग के लिए जनादेश नहीं बल्कि काम करने के लिए दिया का उल्लेख करते हुए अपनी पार्टी के विधायकों को उनकी जिम्मेदारी का एहसास दिलाया।

Share Button

Relate Newss:

यहां टेंडर मैनेज कराने वाले सीएम क्या रोकेगें भ्रष्टाचार : बाबू लाल मरांडी
अखिलेश सरकार के लिये बड़ी नसीहत यादव सिंह प्रकरण
पत्रकार को फंसाने वाली मुखिया के खिलाफ यूं फूटा ग्रामीणों का गुस्सा
अमित-मोदी के लिए डैंजर सिम्बल बन कर उभरे हैं लालू
सीएम के प्रेस एडवाइजर को शोभा नहीं देता ऐसा प्रोफाइल फोटो लगाना
पीएम मोदी को दी मीडिया एडवाइजर रखने की सलाह
धनबाद प्रेस क्लब का निर्णय-300 रुपये दें और सदस्य बनें
बिल्डर अनिल सिंह केबहुत ऊंचे हैं राजनीतिक कनेक्शन
संदर्भ पीपरा चौड़ा कांडः बाहरी और भीतरी के आगोश में झारखंड
सेना कैंटीन का स्वलाभ लेते यूं कैद हुये ईटीवी (न्यूज 18) के एक वरिष्ठ पत्रकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...