लालू के दावत-ए-इफ्तार में रुबरु हुये नीतीश-मांझी

Share Button

पटना। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के दावत-ए-इफ्तार में शुक्रवार को जबरदस्त राजनीतिक जामावड़ा दिखा। घोर राजनीतिक विरोधियों का भी जुटान रहा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी एक साथ बैठकर इफ्तार करते दिखे। दोनों ने आपस में गुफ्तगू भी की।

महागठबंधन सरकार के मंत्री से लेकर विधायक और कार्यकर्ताओं के साथ रोजेदारों की भी भीड़ जुटी थी। इफ्तार का आयोजन 3-देशरत्न मार्ग में किया गया था। यह आवास लालू प्रसाद के बड़े बेटे और राज्य के स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप को आवंटित है। परिसर बड़ा है। लिहाजा दावत-ए-इफ्तार के लिए इस आवास को चुना गया था।

नई सरकार बनने के बाद इस आवास में यह पहला बड़ा आयोजन था। मुख्य अतिथियों के लिए एक अलग पंडाल बना था जहां लालू प्रसाद, राबड़ी देवी,राज्य सभा की सदस्य मीसा भारती, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और तेज प्रताप मेहमानों के स्वागत में लगे थे।

विधान परिषद के सभापति अवधेश नारायण सिंह, विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, सांसद व वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी और राजद-जदयू सरकार के मंत्री और विधायक-विधान पार्षद पंडाल में बैठ चुके थे।

इसी बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे। लालू ने उनका स्वागत किया। उन्हें मलमल की टोपी पहनाई और सोफे पर अपने बगल में बिठाकर फिर एक बार क्राउड मैनेजमेंट में जुट गए। कुछ पल बाद ही पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी भी पहुंच गए। लालू ने उनका भी स्वागत किया और नीतीश के ठीक बगल में बिठाया। अब तक लगभग पूरा पंडाल भर चुका था।

लंबे समय के बाद नीतीश और मांझी भी आपस में बतियाते रहे। अरसे बाद मांझी से मुलाकात पर बोले नीतीश ने कहा- ऐसे आयोजनों में सभी लोग आते हैं। इफ्तार अलग तरह का आयोजन है। सभी एक दूसरे को बुलाते हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि रमजान के पाक महीने में दावत-ए-इफ्तार के कार्यक्रम में सम्मिलित हुआ हूं। इस तरह से आयोजन से साम्प्रदायिक सद्भाव बढ़ता है। यह विभिन्नता में एकता का प्रतीक है।

नीतीश- मांझी की मुलाकात पर लालू ने कहा कि जीतनराम मांझी उनके पुराने भाई है। वे भी उनके यहां गये थे। बिहार बीजेपी के नेता उनके यहां आने से डरते हैं। सीएम नीतीश से मुलाकात के बाद मांझी ने मीडिया से कहा  कि इसमें कोई बड़ी बात नहीं। नीतीश सीएम हैं, उनसे बात होती रहती है। सियासत अपनी जगह, मुलाकात अपनी जगह।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.