विदा हो गईं ‘लम्बी जुदाई’ वाली सूफी गायिका रेशमा

Share Button
Read Time:6 Second

उनकी मखमली आवाज जब फ़िज़ा में गूंजती थी तो थार मरुस्थल का ज़र्रा-ज़र्रा कुंदन सा चमकने लगता… वे राजस्थान के शेखावाटी अंचल के एक गांव में पैदा हुईं थीं लेकिन उनका गायन कभी सरहद की हदों में नहीं बंधा.

reshmaa-3novअपने ज़माने की मशहूर पाकिस्तानी गायिका रेशमा ‘लम्बी जुदाई’ का गाना सुनाकर हमेशा के लिए जुदा हो गई. रेशमा के निधन की ख़बर उनके जन्म स्थान राजस्थान में बहुत दुःख और अवसाद के साथ सुनी गई.

संगीत के कद्रदानों के लिए पिछले कुछ समय में ये दूसरा दुःख भरा समाचार है. पहले शहंशाह–ग़ज़ल क्लिक करें मेहंदी हसन विदा हुए और अब रेशमा ने भी दुनिया को अलविदा कह दिया.

रेशमा राजस्थान में रेगिस्तानी क्षेत्र के चुरू जिले के लोहा में पैदा हुई और फिर पास के मालसी गाव में जा बसी. भारत बंटा तो रेशमा अपने परिवार के साथ पाकिस्तान चली गई. लेकिन इससे ना तो उनका अपने गांव से रिश्ता टूटा न ही लोगों से.

मिट्टी से रिश्ता: रेशमा को जब भी मौका मिला वो राजस्थान आती रहीं और सुरों को अपनी सर-ज़मी पर न्योछावर करती रहीं. लोगों को याद है जब रेशमा को वर्ष 2000 में सरकार ने दावत दी और वो खिंची चली आईं तब उन्होंने ने जयपुर में खुले मंच से अपनी प्रस्तुति दी और फ़िज़ा में अपने गायन का जादू बिखेरा.

रेशमा ने न केवल अपना पसंदीदा ‘केसरिया बालम पधारो म्हारे देश’ सुनाया बल्कि ‘लम्बी जुदाई’ सुनाकर सुनने वालो को सम्मोहित कर दिया था.

इस कार्यक्रम के आयोजन से जुड़े अजय चोपड़ा उन लम्हों को याद कर बताते हैं जब रेशमा को दावत दी गई तो वो कनाडा जाने वाली थीं और कहने लगी उनको वीसा मिल गया है.

मगर जब उनको अपनी माटी का वास्ता दिया गया तो रेशमा भावुक हो गईं. अजय चोपड़ा बताते हैं कि रेशमा को उनकी माटी के बुलावे का वास्ता दिया वो ठेठ देशी मारवाड़ी लहजे में बोलीं, “अगर माटी बुलाव तो बताओ फेर मैं किया रुक सकू हूं?”

 ये ऐसा मौका था जब राजस्थान की माटी में पैदा पंडित जसराज,  जगजीत सिंह, मेहंदी हसन और रेशमा जयपुर में जमा हुए और प्रस्तुति दी.

इस वाकये के बारे में अजय चोपड़ा बताते हैं होटल में रेशमा ने राजस्थानी ठंडई की ख्वाहिश ज़ाहिर की तो ठंडई का सामान मंगाया गया और रेशमा ने खुद अपने हाथ से ठंडई बनाई.

अजय ने बताया, ”वो अपने गांव, माटी और लोगों को याद कर बार-बार जज़्बाती हो जाती थीं. रेशमा ने मंच पर कई बार अपने गांव- देहात और बीते हुए दौर को याद किया और उन रिश्तों को अमिट बताया.”

विनम्र स्वभाव : राजस्थानी गीत संगीत को अपनी रिकॉर्डिंग के काम से ऊंचाई देने वाले केसी मालू का गांव रेशमा के पुश्तैनी गांव से दूर नहीं है.

केसी मालू को मलाल है रेशमा की चाहत के बावजूद भी वो उनके गीत गायन को रिकॉर्ड नहीं कर सके. खुद रेशमा ने उनसे ‘पधारो म्हारे देश’ गीत रिकॉर्ड करने को कहा था.

केसी मालू कहते हैं, “हमने राजस्थान की लोक गायकी और पारम्परिक गीतों की कोई चार हज़ार रिकॉर्डिंग की हैं मगर हमें आज अफ़सोस है हम रेशमा के सुर रिकॉर्ड नहीं कर सके. उनकी रेकॉर्डिग के बिना हमारा संकलन अधूरा सा लगता है.”

अरसे पहले ये नामवर गायिका अपने परिजनों के साथ जोधपुर आईं तो उनके साथ रेशमा के जेठ भी थे. वे रेशमा की भूरि-भूरि प्रंशसा कर रहे थे.

उन्होंने बताया, ” रेशमा बहुत बड़ी गुलकार हैं मगर घर-परिवार में छोटे-बड़े का अदब करना कभी नहीं भूलतीं.”

 उनके जेठ ने बताया कि उनके घर में जीवन, रस्मों-रिवाज़ और व्यवहार वैसा है जैसा राजस्थान में रहते था.

 संगीत से जुड़े श्री मालू कहते हैं रेशमा अपने गांव से बहुत लगाव रखती थीं. वे बताते हैं, “उस वक्त उनका गांव सड़क से नहीं जुड़ा था. रेशमा को इसका बहुत दर्द था. उनकी इस बात को सरकार तक पहुंचाया और सड़क बन गई तो रेशमा बहुत खुश हुईं.”

रेशमा अब नहीं रहीं. दमादम मस्त कलंदर सुनाकर वो चली गईं. आखिरी बार जब रेशमा ने जयपुर में ‘लम्बी जुदाई’ सुनाया तो कौन जानता था कि ये जुदाई बहुत लम्बी होने वाली है, इतनी लंबी कि फिर न मिले. रेशमा न सही मगर फिज़ा में बिखरे उनके बोल उनकी मौजूदगी की गवाही देते रहेंगे.  (बीबीसी)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

प्यार के साइड इफेक्ट्स के बाद अब शादी के साइड इफेक्ट्स !
अब परदे पर दिखेगा गौ हत्या के पीछे का सच !
ऐसा रोल करना चाहती हूं जो नारी को सम्मान दिलाए :रिचा सिंह
यूपी के बाद बिहार में भी 'पीके' हुआ टैक्स फ्री !
आई वांट टू बोल्ड रोल्स, हीरोइन या आइटम सांग्सः सिमरन सिंह
शाहरुख खान को लेकर अनाप-शनाप न बोलें BJP के नेता :अनुपम खेर
रुला जाती है इस रिकार्डधारी राजेन्द्र कुमार साहु की संघर्ष कहानी
साझा संस्कृति की विरासत हैं राम-लीलाएं
अब टीवी चैनल पर कॉमेडी करेगें बाबा रामदेव
आकर्षण का केन्द्रः बनी ममता बनर्जी की किताबें-पेंटिंग्‍स
संघर्ष और जुनून का दूसरा नाम है युवराज कुमार
'बिहारी बाबू' ने की 'बिग बी' को राष्ट्रपति बनाने की वकालत
पुलिस तंत्र के खौफ की कहानी है 'द ब्लड स्ट्रीट'
अनिल कुशवाहा लेकर आ रहे हैं “कच्चे धागे”
अमरीकाः आप कैसा योग पसंद करेंगे- ताकतवर या हॉट ?
गोड्डा में दिखेगी शंकर सम्राट का हैरतअंगेज जादू
अलविदा सचिन 'रिकॉर्ड' तेंदुलकर
अश्‍लील फिल्म नहीं है 'रज्जो'
सन ऑफ सरदार: मनभावन हंसी-ठिठोली
गायन-अभिनय की 'संगम' का नाम है खुशबू-प्रवीण उत्तम !
भारतीय मंदिर, जो कभी दिखता है तो कभी गायब हो जाता है
पत्रकार बलबीर दत्त और कलाकार मुकुंद नायक को पद्मश्री सम्मान
टैटू बनवाएं लेकिन जरा संभल कर
हर कलाकार अपना फैलाव चाहता है :मनोज पांडे
मैं बोल्ड हूं....वल्गर नहीं :रीहा वशिष्ठ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।