राहुल के खिलाफ मोदी ने क्यों नहीं लड़ा चुनाव: मायावती

Share Button

mayawati _bspराजनामा.कॉम। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी चीफ मायावती ने मोदी के बनारस रोड शो पर चुनाव आयोग से कार्रवाई करने की मांग की है।

मायावती ने कहा कि गुरुवार को जिस ढंग से मोदी के नामांकन और रोड शो को लेकर मीडिया के जरिए बीजेपी की पूरे देश में एकतरफा हवा बनाई गई वह उचित नहीं था। निर्वाचन आयोग को चाहिए कि वह इस पर स्वतरू संज्ञान ले। माया ने कहा कि गुरुवार को छठे चरण का पूरे देश और यूपी में मतदान हो रहा था ऐसे में रोड शो का लाइव प्रसारण जनमत को प्रभावित किया होगा। उन्होंने कहा कि बनारस में नरेंद्र मोदी का रोड शो जनहित में नहीं था।

मायावती ने कहा कि कांग्रेस अपने प्रधानमंत्री पद के अघोषित उम्मीदवार राहुल गांधी को जबकि बीजेपी अपने घोषित प्रत्याशी मोदी को सामने रखकर चुनाव लड़ रही है। मोदी को अगर उत्तर प्रदेश से चुनाव लड़ना ही था तो उन्हें राहुल के खिलाफ लड़ना चाहिए था। मुसलमानों को आरक्षण देने के कांग्रेस के वादे के बारे में पूछे जाने पर बीएसपी अध्यक्ष ने कहा कि यह पार्टी मुस्लिमों को बरगला रही है। उन्होंने कहा कि 1995 में बीएसपी ने सबसे पहले पिछड़े मुसलमानों को आरक्षण दिया था। अगर कांग्रेस को मुसलमानों को वाकई आरक्षण देना ही था तो उसे पहले ही दे देना चाहिए था। दरअसल, उसे मुसलमानों के हितों का कभी ख्याल ही नहीं था।

माया ने कहा कि मोदी के रोड शो को लेकर काफी गलत प्रचार प्रसार किया गया। सच यह है कि रोड शो में स्थानीय कम बाहरी लोग ज्यादा थे। उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया के जरिए बीजेपी ने मोदी के रोड शो को काफी बढ़ा-चढ़ाकर प्रचारित कराया। ऐसा बीजेपी ने अगले चरणों के मतदान में विशेष रूप से पूर्वांचल में ज्यादा लाभ के लिए करवाया। हालांकि, उन्होंने कहा कि बीजेपी अपने नापाक इरादों में कामयाब नहीं होगी।

मायावती ने कहा कि मीडिया के जरिए बीजेपी, कांग्रेस और एसपी चुनावी हवा बनाने के लिए जमकर खर्च कर रही है। बीएसपी अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में तीन चरणों का मतदान बाकी है और समाजवादी पार्टी, बीजेपी इसे हिन्दू-मुस्लिम रंग देने की कोशिश कर सकती हैं। उन्होंने कहा,  चुनाव आयोग से आग्रह करती हूं कि वह ना सिर्फ बनारस, बल्कि पूर्वांचल के सभी मंदिरों और मस्जिदों की सुरक्षा पर खास ध्यान दे। इन धर्मस्थलों की हिफाजत की जिम्मेदारी राज्य पुलिस के हाथों में नहीं बल्कि केंद्रीय बलों के हवाले होनी चाहिए। अगर वाराणसी में कोई हरकत होती है तो उसका असर पूरे देश पर पड़ेगा। (साई फीचर्स)

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.