राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी

Share Button

राजनामा.कॉम। देश के शुमार वरिष्ठ संपादक-पत्रकार ओम थानवी राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार सम्पादक का ज़िम्मा संभाल लिया। पत्रकारिता की विधिवत शुरुआत उन्होंने पत्रिका से ही की थी 1980 में, संस्थापक कर्पूरचंद कुलिश के बुलावे पर। तीस वर्ष पहले पत्रिका से आकर ही वे चंडीगढ़ में जनसत्ता का सम्पादक हुये। वहाँ से दिल्ली आये। एक तरह से आज उनकी घर वापसी हुई।

इस बीच पत्रिका समूह बहुत व्यापक हो गया है। अख़बार, टीवी, रेडियो, डिज़िटल आदि विभिन्न मीडिया क्षेत्रों में उसकी अपनी जगह है। दैनिक पत्रिका का प्रकाशन अब राजस्थान के अलावा दिल्ली, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ, गुजरात, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक और तमिलनाडु से भी होता है। 33 संस्करण छपते हैं। कोई 1 करोड़ 29 लाख पाठक इसे पढ़ते हैं। बीबीसी-रायटर के एक सर्वे में देश के सर्वाधिक विश्वसनीय तीन अख़बारों में पत्रिका एक था।

बकौल ओम थानवी, उनके लिए पत्रिका का प्रस्ताव स्वीकार करने की एक बड़ी वजह रहा समूह का जुझारू अन्दाज़। संघर्ष की ललक और सत्ता के समक्ष न झुकने का तेवर। इसकी एक वजह शायद यह है कि मीडिया ही इस समूह का मुख्य व्यवसाय है। इससे समझौते की जगह लिखना अहम हो जाता है।

हाल में राजस्थान सरकार ने मीडिया को क़ाबू करने के लिए जिस काले क़ानून को थोपने की कोशिश की, वह पत्रिका के मोर्चा लेने के कारण ही आंदोलन बना और अंततः सरकार झुकी। क़ानून का इरादा हवा हुआ।

पत्रिका के प्रधान सम्पादक गुलाब कोठारी केंद्र सरकार के कामकाज पर तीखे संपादकीय नाम से लिखते आए हैं। उनके सम्पादक भी स्वतंत्र भाव से लिखते हैं। जब पत्रकारों-संपादकों में बिछने की चाह बलवती हो, पत्रिका की इस भूमिका ने भी उन्हें उससे जोड़ा है। समूह के अनेक पत्रकारों के साथ उन्होंने पहले भी काम किया है। उनका मुख्यालय दिल्ली (कहिए एनसीआर) रहेगा।

Share Button

Relate Newss:

बौराई वसुंदरा सरकार, मॉल्स में बेचेगी शराब
बिहार सरकार के सचिव ने दैनिक जागरण के मुंगेर संस्करण का दिया जांच का आदेश
अलविदा! बीबीसी हिन्दी रेडियो सर्विस, लेकिन तेरी वो पत्रकारिता....✍
दैनिक प्रभात खबर का अमन तिवारी क्राईम रिपोर्टर है या क्राईम मैनजर !
बिहार महासंग्राम में मोदी का 53 तो सोनिया का 100 रहा चुनावी स्ट्राइक रेट
सूचना नहीं देता है झारखंड सूचना एवं जन संपर्क विभाग
घोड़ासहन रेलवे ट्रैक पर प्रेशर कुकर बम से यात्रियों में हड़कंप, हादसा टला
बिहार में रंग लाई लालू-नीतीश की दोस्ती
रांची सांसद ने रघु'राज में जारी ट्रांसफर-पोस्टिंग कारोबार पर उठाए सवाल
प्रिंट मीडिया के लिये यह है आत्म-चिंतन का समय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...