राजगीर में युवक को घर में घुस कर मारी गोली, पुलिस की निष्ठा पर उठे सबाल

Share Button

ग्रामीणों की मांग है कि डीएम और एसपी को घटनास्थल पर बुलाया जाए। अपराधियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाय । राजगीर पुलिस की कार्रवाई से वे संतुष्ट नहीं हैं या उनके कार्रवाई पर भरोसा नहीं है। समाचार लिखे जाने तक मृतक का शव मृतक के घर में पड़ा है ।”

नालंदा ( वरीय संवाददाता)। जिले के हसनपुर हत्या कांड यह सोचने पर मजबूर करता है कि राजगीर के ग्रामीण अब अपने घरों में भी सुरक्षित नहीं हैं । एक तरफ पुलिस चुस्ती और सघन गस्ती के दावे किए जा रहे हैंं। दूसरी तरफ घर में घुस कर अपराधी गोलीमार कर आराम से चलते बनता है ।

हसनपुर के स्वर्गीय राजेंद्र प्रसाद के एकलौते बेटे अजय कुमार (36 वर्ष) की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई है। यह घटना सोमवार सुबह की है।

बताया जाता है कि अपराधियों ने इस घटना का अंजाम उनके घर में घुसकर दिया है । इससे पता चलता है कि अपराधियों के हौसले कितने बुलंद हैं । अपराधियों ने अजय के गले में दाहिने तरफ गोली मारी है । अजय की तत्काल घटना स्थल पर ही मौत हो गयी ।

घटना के समय घर में अकेले थे। पत्नी अनिता देवी ननद के डिलेवरी को लेकर बिहारशरीफ गयी थी। माँ भी घर में नहीं थी। मृतक अजय को एक बेटा है जिसका नाम मोनू है। मृतक की मां और पत्नी घटना की सूचना मिलते ही घर वापस आ गई हैं । वे दहाड मारकर रो रहीं हैं ।

वह कहती है कि उनकी जिन्दगी अब किसके सहारे कटेगी। पति की मौत के बाद वह बेटा के सहारे जी रही थी। अब उनको कौन सहारा देगा। दोनों विधवा सास पुतोह के विलाप से पुरा माहौल गमगीन है।

मृतक अजय के चाचा बिन्देश्वरी प्रसाद बताते हैं कि वे दोनों चाचा-भतीजा करीब 9:30 बजे एक ही साथ खाना खाये थे। खाना खाने के बाद वे कृषि कार्य से खेत पर चले गए। उनके खेत पर जाने के बाद अपराधी उनके घर में घुस गया और गर्दन में गोली मार दी। अजय की तत्काल घटनास्थल पर ही मौत हो गई और अपराधी आराम से निकल भागने में सफल रहा ।

मृतक के परिवार बताते हैं कि अजय कुमार बीएड की डिग्री हासिल किए हुए था। वह कल ही आयोजित टीईटी की परीक्षा में शामिल हुआ था। टीईटी परीक्षा के रिजल्ट आने के पहले ही वह इस दुनिया से चला गया। शायद उसके नसीब में शिक्षक बनना नहीं था। अजय की पत्नी और मां का रो रोकर बुरा हाल है ।

इस घटना के बाद पूरे गांव में मातम छा गया है। मातम के साथ ग्रामीणों में आक्रोश छलक रहा है। ग्रामीण लाश को उठाने से पुलिस को रोक रहे हैं। हालांकि डीएसपी संजय कुमार घटनास्थल पर पहुंचकर घटना की जांच पड़ताल में जुटे हैं । फिर भी ग्रामीण मृतक की लाश को उठाने से मना कर रहे हैं ।

ग्रामीणों की मांग है कि डीएम और एसपी को घटनास्थल पर बुलाया जाए। अपराधियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाय । राजगीर पुलिस की कार्रवाई से वे संतुष्ट नहीं हैं या उनके कार्रवाई पर भरोसा नहीं है।

यही कारण है कि ग्रामीणों का आक्रोश थमने का नाम नहीं ले रहा है। समाचार लिखे जाने तक मृतक का शव मृतक के घर में पड़ा है । डीएसपी संजय कुमार घटनास्थल पर कैंप कर रहे हैं । ग्रामीण डीएम और एसपी को बुलाने की मांग पर अड़े हैं ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...