राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से अतिक्रमण हटाने में भेदभाव, आत्मदाह करेगें महादलित

Share Button
Read Time:3 Minute, 50 Second

 ” यहां पुलिस-प्रशासन ने कानून का इस्तेमाल गरीब और अमीर के लिए अलग-अलग किया गया। अगर बड़े लोगों पर कार्रवाई नहीं हुई तो अनुमंडल कार्यालय के समक्ष सामूहिक आत्मदाह करेंगे।

नालंदा (न्यूज ब्यूरो)। प्रमंडलीय आयुक्त सह लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी आनंद किशोर द्वारा 17-18 जुलाई को राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि को अतिक्रमण आदेश  के बाद हटाए गए अतिक्रमण में भेदभाव का आरोप लगा दर्जनों महादलित परिवार ने प्रदर्शन कर स्थानीय प्रशासन के खिलाफ जम कर नारेबाजी करते हुये सामूहिक आत्मदाह करने की चेतावनी दी है।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे लोग वर्षों से झुग्गी-झोपड़ी बनाकर सैरात की भूमि पर रह रहे थे। उनकी झुग्गी झोपड़ी तो हटा दिया गया, लेकिन बड़े-बड़े होटल, धर्मशाला, मकान और बाउंड्री बाल को टच नहीं किया गया।

उन लोगों का साफ कहना है कि यहां पुलिस-प्रशासन ने कानून का इस्तेमाल गरीब और अमीर के लिए अलग-अलग किया गया।

प्रदर्शनकारियों में शामिल भूषणडोम, सुनील मांझी, नागेन्द्र चौधरी, रामलखन मांझी, कुंदन चौधरी, अमर डोम, देवा डोम, अजय डोम, चांदो मांझी, पप्पू कुमार, राजो चौधरी, रोहन देवी, राधा देवी, लीला देवी, पूनम देवी, सोनी देवी, पिंकी देवी, मारो देवी, सोनी देवी, उषा देवी, कालो देवी, ज्योति देवी, ललिता देवी, फुलमतिया देवी, बबीता देवी, पालो देवी, शीला देवी, मनोरमा देवी, सुनैना देवी आदि ने कहा कि वे लोग झोपड़ी बनाकर जीवन-यापन कर रहे थे। उसे नष्ट कर दिया गया है। बारिश के मौसम में भी खुले आसमान में रहने को मजबूर हैं। सैरात की भूमि पर ही अभी बड़े लोगों का कब्जा बना हुआ है। बहुत सारे जगहों पर घेराबंदी कर जमीन को कब्जा किया हुआ है। जिसे छुआ तक नहीं गया है।

इन लोगों ने कहा कि अगर बड़े लोगों पर कार्रवाई नहीं हुई तो अनुमंडल कार्यालय के समक्ष आत्मदाह करेंगे।

सबों ने एक सुर में कहा कि जाली कागज और रसीद के बल पर धोखा दिया जा रहा है।  इस अमानवीय खेल में जिम्मेवार पदाधिकारियों की संलिप्ता भी स्पष्ट तौर पर शामिल है।

हालांकि राजगीर के सीओ सतीश कुमार कहते हैं कि जो सरकारी प्रक्रिया है, उसी के अनुसार काम किया गया है। किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं हुआ है। जिन छह लोगों के विरुद्ध कार्रवाई नहीं हो सकी है उनकी जमीन भी मेला सैरात की ही है लेकिन न्यायालय से स्टे ले लिए जाने के कारण कार्रवाई रोकनी पड़ी। जैसे ही न्यायालय का आदेश प्राप्त होगा इन लोगों से भी मेला सैरात की भूमि को अतिक्रमण मुक्त किया जाएगा। किसी भी हाल में कोई भी अतिक्रमणकारी नहीं बचेंगे।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

मौलिक पत्रकारिता से जुड़े सवाल
पीपरा चौड़ा में धुल रहा “सबका साथ, सबका विकास ” का दंभ
गीता प्रेस के कर्मचारियों की हड़ताल प्रबंधन के शर्तों पर हुई खत्म
हे आर्य, तेनु काला चसमा सजदा हे देव जँचता जी रुखड़े मुखड़े पे
संदर्भ दिग्गी-अमृता विवाहः इस स्थिति में क्या करेंगे आप?
डीजीपी ने सभी एसपी को मीडियाकर्मियों की सुरक्षा-सहयोग करने का दिया लिखित निर्देश
चुनावी राजनीति के फिल्मी ग्लैमर खिलाड़ी
राबड़ी के कटाक्ष ने पहना दी आरएसएस को फुलपैंटः लालू
6 जुलाई खत्म, राजगीर मलमास मेला सैरात की अतिक्रमण भूमि पर चलेगा बुल्डोजर
नाबालिग छात्रा की थाने में जबरिया शादी मामले को यूं उलटने में जुटे कतिपय लोकल रिपोर्टर
सीएम नीतिश को मुंह चिढ़ाता जैविक उर्वरक संयंत्र का यह शिलापट्ट
दैनिक हिंदुस्तान के जिलावार अवैध संस्करणों में सरकारी विज्ञापन पर रोक
कानू सान्याल की तस्वीर से मचा हड़कंप
आलोक जी, भड़वे और दलाल हैं हम पत्रकार !
बिहारी बाबू ने कहा कि 'आप' सब दलों का बाप हो गया है
'महाभारत': नीतीश 'अर्जुन' और शरद बने 'कृष्ण'
भाजपा का चुनावी झंडा ढो रहा है झारखंड सरकार का लापता सचिव
बड़ा सेलीब्रेटी फीगर है ‘आसरा’ की संचालिका, कई ब्यूरोक्रेट्स-लीडरों का है संरक्षण
अमिताभ,रजनीकांत,श्याम बेनेगल जैसों पर भारी गजेंद्र चौहान?
अजीत डोभाल का इंटरव्यू से इन्कार, भास्कर डॉट कॉम पर जारी ऑडियो क्लिप अस्पष्ट
दरभंगाः SBI ATM कांड मे बैंक व्यवस्था की खुली पोल
'ईटीवी' की रिलाचिंग की तैयारी, 'ईटीवी भारत' होगा सेटेलाइट चैनल
पटना जनता दरबार में नीतिश के मांझी पर जुता फेंका
बाहुबली डीपी यादव की पटना में है करोड़ों की संपत्ति
झारखंड में भी लागू हो पत्रकार सुरक्षा कानून  : JJA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...