राजगीर एसडीओ की यह लापरवाही या मिलीभगत? है फौरिक जांच का विषय

Share Button
Read Time:3 Second

राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि की अतिक्रमण कर बनाये गये सफेदपोशों के अवैध होटलों-मकानों से बिजली-पानी कनेक्शन तक हटाने में विफल है प्रशासन !

नालंदा (ब्यूरो न्यूज)। विश्व प्रसिद्ध नालंदा जिले के राजगीर नगर में पुरातन सांस्कृतिक, धार्मिक व ऐतिहासिक विरासत को हड़पने वाले सफेदपोशों के प्रति शासन-प्रशासन के लोग लापरवाह ही नहीं हैं अपितु, उनकी मिलीभगत के प्रमाण भी सामने आये हैं।

यह बात स्पष्ट हो गई है कि राजगीर मलमास मेला की जमीन से लेकर अन्य कई क्षेत्रों में सरकारी भूमि पर अनेक लोगों ने कब्जा कर अपनी व्यवसायिक अट्टालिकाएं खड़ी कर ली है। और अब यहां जो सब हो रहा है, वह प्रशासनिक जानकारी में हो रहा है।

राजनामा.कॉम के पास इस तरह के पक्के दस्तावेज उपलब्ध कराये गये हैं, जो यह चीख-चीख कह रहा है कि इसमें प्रशानिक महकमा पूरी तरह से संलिप्त है या फिर सफेदपोशों के आगे नतमस्तक है।

एक वादी ने नालंदा जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी की न्यायालय में 24 जनवरी,2016 को यह परिवाद दर्ज किया था कि राजगीर मलमास मेला सैरात की भूमि पर नियम-कानून को ताक पर रख कर बिजली कनेक्शन देने वाले कार्यपालक पदाधिकारी, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग-राजगीर, टेलीफोन कनेक्शन देने वाले जेटीओ-राजगीर एवं इनमें शामिल अन्य सभी दोषी लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई सुनिश्चित करवाई जाये।

इस वाद को लेकर उक्त न्यायालय ने क्रमवार सात तिथियों की गहन सुनवाई के उपरांत 24 मार्च, 2017 को अपना यह अंतिम निर्णय में राजगीर अनुमंडल पदाधिकारी को एक माह के भीतर वाद का वास्तविक निष्पादन सुनिश्चित करने के स्पष्ट निर्देश निर्गत किये।

इसके पूर्व पटना प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर ने भी राजगीर अनुमंडल पदाधिकारी को चिन्हित अतिक्रमणकारियों का बिजली-पानी का कनेक्शन तत्काल प्रभाव से काटने को निर्देशित किया गया था।

अब सबाल उठता है कि मलमास मेले की सैराती जमीन पर चिन्हित अतिक्रमणकारियों के व्यवसायिक-गैर व्यवसायिक आलीशान होटलों, मकानों आदि में बिजली-पानी के कनेक्शन क्यों नहीं काटे गये, जिसमें उल्लेख नाम,पता आदि के उपयोग सरकारी कार्यों में धड़ल्ले से होता है।

जाहिर है कि उपलब्ध साक्ष्यों के अनुसार इसके लिये राजगीर एसडीओ सीधे कटघरे में नजर आते हैं। क्योंकि इस मामले में उनके द्वारा अब तक की लापरवाही, जिसे लोग उनकी मिलीभगत भी मानते हैं, नियमारुप कोई कार्रवाई करने में विफल साबित करती है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

झारखंड में भी लागू हो पत्रकार सुरक्षा कानून  : JJA
नीतिश के लिए काल बन सकते हैं मोदी के प्रशांत !
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन
बिहार रिपोर्टिंग बैन पर SC बोला- खबर पर रोक गलत,सरकार को नोटिश
मोहर्रम जुलूस में बुर्का पहन महिला से छेड़छाड़ करते धराया VHP नेता !
कोई भी धर्मग्रंथों पर ट्रेडमार्क अधिकार का दावा नहीं कर सकता :सुप्रीम कोर्ट
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
फर्जी फेसबुक प्रोफाइल-पेजों में अव्वल हैं हेमंत सोरेन !
पत्रकार जगेंद्र के आश्रित को 30 लाख रुपए और दो नौकरी का वादा !
फेसबुक के बजाय जमीन पर काम करें मोदी : अखिलेश
पीएम मोदी ने लाल किले की प्राचीर से अपने भाषण की ये प्रमुख बातें
दैनिक लोकसत्य को जरूरत है मीडियाकर्मियों की
एग्जिट पोल मामले में जागरण.कॉम के संपादक शेखर त्रिपाठी गिरफ्तार
मोदी-चीन डील में अडानी और भारती समूह की बल्ले-बल्ले
इंडिया टीवी की एंकर तनु शर्मा सुसाइट नोट से हड़कंप
निलंबित विधायक पर बोले नीतिश, कानून से उपर कोई नहीं
नहीं भुलाए जा सकते महापुरुष कलाम के ये 10 अनमोल बचन
सीएम रघुबर दास की इस हरकत पर कानून के साथ मीडिया भी नंगी
आमिर खान को 818 रुपये की लगान वसुली का नोटिस
एसपी के ग्रेडिंग में सुशासन बाबू के गृह थाना हरनौत को मिला ग्रेड "D"
बड़कागांव में रैयत-पुलिस भिड़ंत में 3 की मौत, दर्जनों घायलः परंपरागत हथियार ले सड़क पर उतरे लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।