राजगीर एसडीओ की यह लापरवाही या मिलीभगत? है फौरिक जांच का विषय

Share Button

राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि की अतिक्रमण कर बनाये गये सफेदपोशों के अवैध होटलों-मकानों से बिजली-पानी कनेक्शन तक हटाने में विफल है प्रशासन !

नालंदा (ब्यूरो न्यूज)। विश्व प्रसिद्ध नालंदा जिले के राजगीर नगर में पुरातन सांस्कृतिक, धार्मिक व ऐतिहासिक विरासत को हड़पने वाले सफेदपोशों के प्रति शासन-प्रशासन के लोग लापरवाह ही नहीं हैं अपितु, उनकी मिलीभगत के प्रमाण भी सामने आये हैं।

यह बात स्पष्ट हो गई है कि राजगीर मलमास मेला की जमीन से लेकर अन्य कई क्षेत्रों में सरकारी भूमि पर अनेक लोगों ने कब्जा कर अपनी व्यवसायिक अट्टालिकाएं खड़ी कर ली है। और अब यहां जो सब हो रहा है, वह प्रशासनिक जानकारी में हो रहा है।

राजनामा.कॉम के पास इस तरह के पक्के दस्तावेज उपलब्ध कराये गये हैं, जो यह चीख-चीख कह रहा है कि इसमें प्रशानिक महकमा पूरी तरह से संलिप्त है या फिर सफेदपोशों के आगे नतमस्तक है।

एक वादी ने नालंदा जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी की न्यायालय में 24 जनवरी,2016 को यह परिवाद दर्ज किया था कि राजगीर मलमास मेला सैरात की भूमि पर नियम-कानून को ताक पर रख कर बिजली कनेक्शन देने वाले कार्यपालक पदाधिकारी, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग-राजगीर, टेलीफोन कनेक्शन देने वाले जेटीओ-राजगीर एवं इनमें शामिल अन्य सभी दोषी लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई सुनिश्चित करवाई जाये।

इस वाद को लेकर उक्त न्यायालय ने क्रमवार सात तिथियों की गहन सुनवाई के उपरांत 24 मार्च, 2017 को अपना यह अंतिम निर्णय में राजगीर अनुमंडल पदाधिकारी को एक माह के भीतर वाद का वास्तविक निष्पादन सुनिश्चित करने के स्पष्ट निर्देश निर्गत किये।

इसके पूर्व पटना प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर ने भी राजगीर अनुमंडल पदाधिकारी को चिन्हित अतिक्रमणकारियों का बिजली-पानी का कनेक्शन तत्काल प्रभाव से काटने को निर्देशित किया गया था।

अब सबाल उठता है कि मलमास मेले की सैराती जमीन पर चिन्हित अतिक्रमणकारियों के व्यवसायिक-गैर व्यवसायिक आलीशान होटलों, मकानों आदि में बिजली-पानी के कनेक्शन क्यों नहीं काटे गये, जिसमें उल्लेख नाम,पता आदि के उपयोग सरकारी कार्यों में धड़ल्ले से होता है।

जाहिर है कि उपलब्ध साक्ष्यों के अनुसार इसके लिये राजगीर एसडीओ सीधे कटघरे में नजर आते हैं। क्योंकि इस मामले में उनके द्वारा अब तक की लापरवाही, जिसे लोग उनकी मिलीभगत भी मानते हैं, नियमारुप कोई कार्रवाई करने में विफल साबित करती है।

Share Button

Relate Newss:

पूर्व-ब्यूरो चीफ के बीच आफिस में मारपीट के बाद काउंटर एफआईआर!
डीडी पटना के पहले समाचार संपादक एम ज़ेड अहमद सम्मानित
धक्का देने के बाद हुई थी जयललिता की मौत: पी.एच. पंडियन
फोर्ब्स मैंगजीन की 1000 ताकतवर लोगों की सूची में 9 वें स्थान पर पहुंचे मोदी
रांची प्रेस क्लब इलेक्शन वनाम हरिशंकर परसाई की ‘भेड़ें और भेड़ियें ’
अब सोनी टीवी पर प्रसारित ‘कॉमेडी नाइट विद कपिल’ !
स्कूल संचालक पर 'माही का बेटा' के कलम की धार
फर्जी फेसबुक प्रोफाइल-पेजों में अव्वल हैं हेमंत सोरेन !
दैनिक हिन्दुस्तान के भी कथित अवैध मुगेर संस्करण के जांच का आदेश
आयकर आयुक्त है या सड़क छाप गुंडा? सुनिए ऑ़डियो टेप
स्वंय प्रकाश सरीखे चरणपोछु संपादक हो सकते हैं, पत्रकार नहीं
नालंदा के नगरनौसा में पूर्व मुखिया को मारी गोली
..और अब यूं वेब न्यूज पोर्टल चलाएंगे वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष
श्रीकृष्ण प्रसाद को मातृशोकः नहीं रहीं मुंगेर की 81वर्षीय महिला पत्रकार सावित्री देवी
एसपी ने दिया दुर्गा पूजा पंडालों में जरुरी आपात उपकरण रखने के निर्देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...