रांची कॉलेज को डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी बनाने गवर्नर की सहमति

Share Button

रांची। राज्य का सबसे पुराना और प्रीमियर रांची कॉलेज अब डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी के नाम से जाना जाएगा। उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के रांची कॉलेज को डॉ. श्याम प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी बनाने के प्रस्ताव पर राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने सहमति जता दी है।

यूनिवर्सिटी का दर्जा देने से संबंधित प्रस्ताव विधानसभा में पहले ही पास हो चुका है। इसके बाद शिक्षा विभाग द्वारा विश्वविद्यालय बनाने से संबंधित प्रस्ताव राजभवन भेजा था।

झारखंड राज्य विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक-2017 के तहत रांची कॉलेज को यूनिवर्सिटी का दर्जा दिया जा रहा है। रांची यूनिवर्सिटी का रांची कॉलेज पहला कॉलेज है, जिसे स्टेट यूनिवर्सिटी का दर्जा मिला है।

रांची कॉलेज के नाम से 110 एकड़ जमीन है, जिस पर डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी के इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए 55 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। इसमें से 50 प्रतिशत 27.5 करोड़ का आवंटन रांची कॉलेज को हो गया है। कॉलेज प्रबंधन ने भवन निर्माण के लिए यह राशि बिल्डिंग कॉरपोरेशन को दे दी है। कॉरपोरेशन की ओर बिल्डिंग निर्माण की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

रुसा के माध्यम से कॉलेज प्रबंधन को मिली राशि से एकेडेमिक बिल्डिंग, कंप्यूटर टेक्नोलॉजी भवन, गेस्ट हाउस, एडमिनिस्ट्रेटिव बिल्डिंग, हॉस्टल, कैंटीन निर्माण की डीपीआर तैयार कर ली गई है। एक-दो दिनों में टेंडर जारी करने की संभावना है।

श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी में सरकार की ओर से अन्य स्टेट यूनिवर्सिटी की तरह सभी वैधानिक पद सृजित किए जाएंगे। इसमें कुलपति, प्रतिकुलपति, फाइनेंस एडवाइजर, डीएसडब्ल्यू, फाइनेंस अफसर, रजिस्ट्रार, परीक्षा नियंत्रक, डिप्टी रजिस्ट्रार, असिस्टेंट रजिस्ट्रार के पद सृजित किए जाएंगे। वीसी-प्रोवीसी की नियुक्ति सर्च कमेटी के माध्यम से होगी।

उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के निदेशक मीना ठाकुर ने बताया कि रांची कॉलेज को यूनिवर्सिटी का दर्जा देने संबंधी प्रस्ताव पर राजभवन ने स्वीकृति दे दी है। अब सरकार के गजट में प्रकाशन किया जाएगा। इसके बाद उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग नोटिफिकेशन जारी करेगा । यह प्रक्रिया एक सप्ताह में पूरी कर ली जाएगी।

रांची कॉलेज की स्थापना 1926 में हुई थी। तब सिर्फ इंटर की पढ़ाई होती थी। वर्ष 1946 से डिग्री की पढ़ाई होने लगी। तब रांची यूनिवर्सिटी अस्तित्व में नहीं था। रांची यूनिवर्सिटी की स्थापना 1960 में हुई है। वर्तमान में रांची कॉलेज में 10,000 स्टूडेंट्स पढ़ते हैं। कॉलेज को यूजीसी से ऑटोनोमस का दर्जा प्राप्त है। ट्रेडिशनल विषयों के अलावा दो दर्जन से अधिक प्रोफेशनल कोर्स की पढ़ाई होती है।

Share Button

Relate Newss:

प्रबंधन की विशाल असफलता है नोटबंदी :मनमोहन सिंह
बाल ठाकरे को आतंकवादी बताने वाले तहलका पर मुकदमा !
मोदी सरकार की नई विज्ञापन नीति को लेकर जंतर-मंतर पर धरना
पर्यावरण को यूँ नष्ट कर रहे हैं खनन माफिया
खनन माफियाओं के खिलाफ कोई नहीं सुनता
किस लालच-दबाव में रिपोर्टर नीरज के पिछे पड़ी है नालंदा पुलिस?
बिहार में शराबबंदी कानून, कठिन डगर है नालंदा पनघट की
वेशक चार आने की धनिया है “एशिया” के ये लफंगे पत्रकार
न्यूज वेब साइट पोर्टल को फर्जी कहने वाले की करें शिकायत, वे सीधे नपेगें
 जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया,देखो अँधेरा जग में कहीं अब रह न जाये
नए राजनीतिक समीकरण के साथ बिहार में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल
बसपा के अभद्र नारों की हो रही चौरतफ़ा आलोचना
कर्नाटक के सीएम ने कहा, मैं अब से खाऊंगा बीफ़
मप्र किसान उग्र आंदोलन में ABP न्यूज के पत्रकार पर हमला...
अपने ही मुल्क में दफ्न होती ज़िंदगियां ! और कितनी शहादत ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...