योगा डे एक साजिश :ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

Share Button
Read Time:2 Minute, 45 Second

 Yoga-Muslim-Modiराजनामा.कॉम। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव ने एक चिट्ठी जारी कर योग का विरोध करने का आव्हान किया है। चिट्ठी में लिखा है, “योग और सूर्य नमस्कार ब्राह्मण धर्म और वैदिक कल्चर को प्रमोट करने की कोशिश हैं। शुक्रवार को जुमे की नमाज के दौरान इमामों को बाकी लोगों के साथ इस बारे में विचार कर आंदोलन के लिए तैयार करना चाहिए।”

 यह पहली बार है जब एआईएमपीएलबी सीधे मुस्लिम ऑर्गनाइजेशंस, इमामों और मस्जिदों को लेटर लिखकर उन्हें हिंदू ताकतों के प्रति सावधान कर रहा है।

एआईएमपीएलबी मुसलमानों की वह संस्‍था है जो मुस्लिम कानून और शरीयत से संबंधित मामले देखता है। मौलाना वली रहमानी इसके महासचिव हैं। उन्‍होंने अपने लेटर में आरोप लगाया है कि 21 जून को मनाया गया इंटरनेशनल योगा डे आरएसएस की एक साजिश थी, क्योंकि इसी दिन संघ के पहले सरसंघचालक हेडगेवार की वर्षगांठ होती है।

रहमानी ने संगठनों और पदाधिकारियों को लिखे लेटर में कहा है कि उन्हें इस्लाम की शिक्षाओं के बारे में अपने समुदाय के लोगों को जागरूक करते रहना चाहिए। बोर्ड ने योग, सूर्य नमस्कार और वंदे मातरम को प्रमोट करने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि यह मुस्लिम विचारधारा के खिलाफ है।

रहमानी के लिए इस लेटर में एक बात पर गौर करना जरूरी है।

दरअसल, अपने इस लेटर में रहमानी ने ‘हिंदू धर्म’ की जगह ‘ब्राह्मण धर्म’ शब्द का इस्तेमाल किया है। माना जा रहा है कि इसका मकसद दलित हिंदुओं तक पहुंच बनाना है। रहमानी ने गीता के छठवें अध्याय का उल्लेख करते हुए कहा कि योग रिलीजियस एक्टिविटी है जो ब्राह्मण धर्म और वैदिक कल्चर का हिस्सा है।

लेटर में योगा डे को प्रमोट करने को संविधान का उल्लंघन बताया गया है। रहमानी ने लिखा है कि संविधान सरकार को रिलीजियस एक्टीविटी के प्रमोशन की इजाजत नहीं देता। – एजेंसी   

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

गुमला में बन रहा है फर्जी आधार कार्ड
बिहार आईएस एसोसिएशन के आंदोलन से नीतिश के गुड गवर्नेंस पर उठे सबाल
डॉक्टर ने पांच परिजनों को जहर की सूई देकर मार डाला!
डीएम और एसपी के अनुदेश को यूं ढेंगा दिखा रहे हैं नालंदा पुलिस-प्रशासन के नुमाइंदे
खुद अव्वल दर्जे के विवादित छवि के हैं राजगीर के ये कथित जनर्लिस्ट !
फैक्स पर निकाल जाता था स्विस बैंक से पैसा
सुशासन बाबू के कुशासित नालंदा में यूं 'कैद' हुआ जमशेदपुर का टीवी रिपोर्टर
अरविंद केजरीवाल की ईमानदारी पर NDTV के रवीश का जवाब
अपने-अपने 'औरा' को लेकर टकरा रहे हैं मोदी और प्रियंका !
दैनिक भास्कर ने उठाया ‘नो निगेटिव टास्क' का रिस्क !
चुप्पी तोड़िये प्रधानमंत्री जी !
अलग झारखंड के अगुआ शिबू सोरेन बीमार, मेदांता में भर्ती
हमारे पत्रकार संगठन का हर विवाद अंदरुनी मामलाः IFWJ अध्यक्ष
प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर का राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि को लेकर ऐतिहासिक आदेश
आग लगी हमरी झोपड़िया में-हम गावैं मल्हार
शोसल नेटवर्किंग का विस्तार और मानवीय अलगाव के खतरे
भैया, मैं जरा बौद्धिक गरीब हूं
वाह री नालंदा पुलिस ! साजिशन हमले के शिकार पत्रकार को ही बना डाला मुख्य आरोपी
महंगा पड़ा हरियाणा सीएम से जनहित सवाल, जी न्यूज ने रिपोर्टर को निकाला
पढ़ियेः बरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र का क्या था फेसबुक पोस्ट, जिस पर हुआ FIR
किरण नहीं, सुरजीत थीं देश की प्रथम महिला आइपीएस ?
ताला मरांडी के बेटे की शादी पर उठा राजनीतिक भूचाल
देश को चोट पहुंचाती है वाणी की हिंसा : महामहिम राष्ट्रपति
पूर्व प्रबंधक के बयान से सिकिदिरी में उबाल, किसने कराया 17 लाख का काम ?
झारखंड में मस्ती मार लौट रहे बिहार में धराये यूपी के दयाशंकर !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...