यह आराधाना नहीं, अमानुषिक कृत्य है !

Share Button
Read Time:0 Second

pashu baliहमारा हिंदुत्व ऐसा बिलकुल नहीं है। अगर आपका है तो आपको बिलकुल मुबारक न हो. हमने धृति, क्षमा आदि धर्म के के दस लक्षण पढ़े हैं, उसमें ऐसा कुछ भी नहीं बताया गया है।

india-animalहमने प्रथम भगति संतन कर संगा आदि भक्ति के नौ प्रकार भी पढ़े हैं। कहीं भी कभी भी इस तरह का वीभत्स कृत्य धर्म के नाम पर करने का जिक्र नहीं देखा।

hindu baliअगर परंपरा के नाम पर है ये तो सती प्रथा, विधवा विवाह, बाल विवाह, बहु विवाह, नारी शिक्षा, जाति आधारित छूआछूत अदि हर मामले में हमने खुद को बदला है।

ज़ाहिर है कि हमें सभ्य और सही अर्थों में आधुनिक बनने के लिए पूजा के नाम पर फैले ऐसे अनाचार का भी विरोध भी करना ही होगा।

तय मानिए, आप अन्य मजहबों के कथित कुर्बानी आदि का विरोध करने का नैतिक हक तब तक नहीं पायेंगे, जब तक खुद आपके यहाँ यह सब होता रहेगा।

eedqurbaniदूर कीजिये ऐसी दर्दनाक प्रथाओं का। कम से कम ईश्वर को बदनाम मत कीजिये, ये कहते हुए कि आपके बच्चे को स्वस्थ करने के लिए इश्वर ने आपसे बकरी के बच्चे का घूस माँगा है।

यह आराधाना नहीं अन्याय है। अशालीनता-असभ्यता है। अमानुषिक कृत्य है ये।  मानवता के नाम पर कलंक है ये।

भगवान आपको ऐसे कृत्यों के लिए बिलकुल माफ नही करेंगे क्यूंकि, आपको पता है कि आप क्या कर रहे हैं।

 

 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

झारखंड में ‘सरकार’ है पुलिस मुख्यालय
मध्यप्रदेश में कांग्रेस के खिलाफ सरकारी खुफिया तंत्र सक्रीय
कंटेंट को फिल्टर-ब्लॉक करना प्रैक्टिकली असंभव :गुगल
ये वन-कोयला नहीं, वन-घोटाला है मौनी बाबा !
बात सुबोधकांत और अर्जुन मुंडा की
बिकनी पहना खुश हो रहे
चुस्त गूगल की दुरुस्त सेवाएं
दीपावली की पूर्व सूचना देता है धनतेरस
विरोधियों की बौखलाहट का फल है खगड़िया की घटना
न्यू मीडिया की जिम्मेदारी बढ़ी
पत्रकारिता अब कमीनों का कमीसन हो गयी
संसद मार्ग स्थित हिंडाल्को के दफ्तर से 25 करोड़ रुपये नकद बरामद
मोदी समर्थकों की बुद्धि पर चढ़ती चर्बी
काफी चमत्कारी औषधीय पौधा है एलोवेरा
अन्ना की राम लीला में खो गया जटायु
हमेशा भ्रम में जीता है सीज़ोफ़्रेनिया रोगी
भाजपाई मंत्री 'बाटुल' की साख पर बट्टा
बाबा रामदेव को सेक्स,ड्रग्स और मर्डर के मामले फंसने का डर!
गर्व है कि हमारे एक स्वयंसेवक ने दिल्ली में सरकार बनाई :अन्ना हजारे
कोल माफिया मनोज को अर्जुन मुंडा की खुली पनाह
रांची केन्द्रीय जेल में एन्ज्वॉय
आदिवासी भी इसी मुल्क के हैं न
रांची हाई कोर्ट के ताजा फैसले से उठे कई सबाल
नहीं रहे मशहूर व्यंग्यकार और लेखक पद्म श्री केपी सक्सेना
गुवाहाटी हाई कोर्ट के फैसले पर रोक, 6 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।