यह अपमान नहीं,देशद्रोह है ‘मियां बुखारी’

Share Button

bukhari

यह निंदनीय ही नहीं देश का अपमान है । यह सही है की इमाम का यह निजी समारोह है पर इसमें दुश्मन देश के प्रधानमत्री को आमंत्रित करना और अपने देश के प्रधान मंत्री के लिए अपमानजनक शब्दों का प्रयोग करना देश के लोकतंत्र का भी अपमान है । देशद्रोह है ..

इससे भी ज्यादा हैरत मुझको इस बात से है की बुखारी के इस कुकृत्य का विरोध उनके कौम के तथाकथित प्रगतिशील वर्ग अथवा तथाकथित सेकुलर वर्ग भी नहीं कर रहा है।

..जबकि शंकराचार्य अथवा कोई धर्माचार्य जब कोई गलत बात कहते है तो उनका हमलोग खुल कर विरोध करते है …

सबसे गन्दा तो यही है की कोई धर्म का ठेकेदार बन कर मंदिर अथवा मस्जिद का जमींदार बन बैठे…. और धर्मार्थ कार्य छोड़के राजनीती करे…

हालाँकि बुखारी से सारे मुसलमानों को जोड़ कर नहीं देखा जा सकता क्यूंकि 2004 में इसने बीजेपी को और 2014 में कौंग्रेस को वोट देने का फतवा दिया जिसे नकार दिया गया.

arun sathi

…….. फेसबुक पर  पत्रकार अरुण साथी की टिप्पणी

 

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *