यशोदाबेन को लेकर कितने बेदर्द हैं मोदी!

Share Button
Read Time:5 Minute, 39 Second

एक ओर जहां दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी पत्नी मिशेल ओबामा के साथ ओबामा अपनी पत्नी मिशेल का हाथ पकड़े स्पेशल विमान की सीढ़ी से उतर रहे थे और भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उनकी आगवानी करने के लिये नीचे अपनी पलकें बिछाये थे, वहीं दूसरी तरफ यह दृश्य नरेंद्र मोदी की पत्नी जसोदाबेन मोदी को अंदर से झकझोर रहा था।

7612_0बकौल यशोदाबेन, टीवी पर इस दृश्य को नहीं देखना चाहती थीं लेकिन, खुद को रोक पाने में असमर्थ रहीं। उनके मन में यह बात चलती रही कि वह अपने पति मोदी के साथ क्यों नहीं हैं? उन्हें पीएम की पत्नी होने का हक क्यों नहीं मिल रहा?

इस वक्त जसोदाबेन अपनी सुबह की पूजा में लगी थी। नहीं पता कि वह ईश्वर से प्रार्थना में अब क्या मांगती हैं। जसोदाबेन साड़ी पहन तैयार थीं।

जसोदाबेन के मन में ओबामा और मिशेल ओबामा का स्वागत करते वक्त मोदी के साथ रहने की तमन्ना थी लेकिन वह इस तमन्ना को दबाए उत्तरी गुजरात के अपने गांव ब्रहमवाड़ी से 120 किलोमीटर दूर एक शादी में जाने की तैयारी में हैं।

उनके भतीजे ने टीवी ऑन किया तो ओबामा के स्वागत का सीधा प्रसारण चल रहा था। वह अपने पति को गौर से देखने लगती हैं।

मिशेल और बराक ओबामा के साथ मोदी को देखकर उन्होंने बीबीसी से कहा, ‘मुझे पता है कि जब ओबामा का स्वागत हो रहा था तब मुझे भी दिल्ली में होना चाहिए था लेकिन साहेब ऐसा नहीं चाहते। इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।’

जसोदाबेन ने कहा, ‘अगर वह मुझे आज बुलाएंगे तो मैं कल पहुंच जाऊंगी। मैं बिना बुलाए कभी नहीं जाऊंगी। उन्हें मुझे बुलाना होगा। मेरा आत्मसम्मान है जिससे मैं पीछे नहीं हटूंगी। हम दोनों के बीच हैसियत की कोई बात नहीं है, हम दोनों इंसान हैं।’

Jasodabenजसोदाबेन ने कहा, ‘मैं आभारी हूँ कि उन्होंने पिछले साल मुझे अपनी पत्नी माना। मैं सरकार से मांग करती हूं कि वह मुझे हक दे जिसकी मैं हकदार हूं। मैं जानती हूं कि उन्होंने देश के लिए अपने वैवाहिक जीवन का त्याग किया। अगर मैं उनके साथ होती तो वह शायद इतना कुछ नहीं कर पाते। मेरे मन में कोई कड़वाहट नहीं है।’

जसोदाबेन ने कहा, ‘जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने स्वीकार नहीं किया मैं उनकी पत्नी हूं। मैं जब कहती थी कि मोदी की पत्नी हूं तो बीजेपी के लोग मुझे झूठा बताते थे।’

जसोदाबेन की शादी नरेंद्र मोदी से 17 साल की उम्र में 1968 में हुई थी। जसोदाबेन रिटायर्ड स्कूल टीचर हैं और 14 हजार रुपए की पेंशन पर गुजारा करती हैं। उन्होंने बताया, ‘शादी के बाद वे मेरे साथ कुछ महीनों तक रहे। वह सुबह आठ बजे चले जाते थे और देर शाम घर आते थे। एक बार वह गए तो फिर नहीं आए। मैं ससुराल में तीन साल तक रही जिसके बाद मुझे लगा कि अब वह मेरे पास नहीं आएंगे। फिर मैं पढ़ाई करके टीचर बन गई।’

मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद गुजरात सरकार ने उनके घर के बाहर चार कमांडो तैनात किए हैं। वे साये की तरह उनके साथ चलते हैं। यहां तक कि हाल ही में उनके साथ वह मुंबई भी गए थे।

जसोदाबेन ने सूचना के अधिकार के तहत दो बार आवेदन किया है कि उन्हें इस सुरक्षा व्यवस्था के बारे में जानकारी दी जाए। लेकिन उन्हें जानकारी नहीं दी गई कि वह गोपनीय है।

yashoda-benसोदाबेन ने अपने आवेदन में कहा, ‘मैं मंदिर जाती हूं तो ये मेरे पीछे आते हैं। अगर मैं बस पर चढ़ती हूं तो ये पीछे-पीछे कार से आते हैं। उनकी मौजूदगी मुझे डराने वाली लगती है। इंदिरा गांधी को तो उनके गार्डों ने ही मार डाला था, मैं जानना चाहती हूं कि किसके निर्देश पर इनकी तैनाती की गई है।’

जसोबाबेन ने कहा, ‘इन वजहों से गांव में मेरा मजाक बन गया है। इनके साथ मुझे आते देखकर लोग मजाक उड़ाते हुए कहते हैं, ‘देखो, मोदी की बारात जा रही है।’

ये कमांडो हर उस आदमी का अता-पता दर्ज करते हैं जो जसोदाबेन से मिलने आता है, जसोदाबेन के रिश्तेदारों को लगता है कि ये कमांडो सुरक्षा के लिए नहीं, बल्कि उन पर नजर रखने के लिए तैनात किए गए हैं।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

युवा पत्रकार मनोज सिंह ने लिखा- मीडिया में 'तल्लूचट्टू' भी एक बीट है!
नीतिश के गृह क्षेत्र में नवनिर्वाचित महिला मुखिया की हत्या
झारखंड में एसएआर कोर्ट खत्म करने की तैयारी
नालंदा पत्रकार संघ के बैनर तले हिलसा अनुमंडल पत्रकार संघ का गठन
'बदलते समय में मीडिया की भूमिका' पर पत्रकारों की कार्यशाला
सीबीआई कॉन्फ्रेंस में बोले मोदी, भ्रष्टाचार के खिलाफ होगी निर्मम कार्रवाई
गुत्थी संग योग गुरु बाबा रामदेव ने की नाच-कॉमेडी
भड़काऊ खबरें प्रसारित करने वाले सुदर्शन चैनल के मालिक सुरेश चह्वाणके के खिलाफ मुकदमा
ताला मरांडी के मामले में कहां है भाजपा की नैतिकता
लालू प्रसाद के फर्जी ट्वीटर एकाउंट से जातीय उन्माद फैलाने की कोशिश
3 साल बाद भी CID को नहीं मिला शरतचंद्र हत्या कांड का सुराग, CBI जांच की मांग
पत्रकारों के लिए एशिया का पाक-अफगानिस्तान से खतरनाक देश है भारत !
साधना न्यूज़ के बंद ऑफिस में मिली सगे भाई की लाश, बकाया राशि मांगने पर हत्या की आशंका
हाय री नालंदा की मीडिया, भ्रष्ट्राचार के विस्फोटक न्यूज को यूं पचा गये!
NDA जीती तो प्रेम कमार होगें भाजपा के CM
देश में बढ़ती असहिष्णुता के खिलाफ आमिर खान भी प्रबुद्ध वर्ग में शामिल
गलत रस्सी खींच गई महबूबा, श्रीनगर में फहराने से पहले नीचे गिर गया तिरंगा!
उत्तराखंड के सीएम हरीश रावत ने कहा, गौ-हत्यारों को नहीं है भारत में रहने का अधिकार
मामला पहुंचा महिला आयोगः महज 11 साल की है ताला मरांडी की बहू !
मीडिया की परेशानी और चुनौतियों को भारत सरकार तक पहुंचाए पीआईबी
आजसू ने जारी किया ‘युवा विजन डॉक्यूमेंट्सट’
रघु’राज में मीडिया पर अंकुश, केवल फोटोग्राफ कवर करने के निर्देश
मामला डीएमसीएच दरभंगा काः अंधे क्यों बने हैं पुलिस वाले ?
....जाहिलों का पत्रकार संगठन कहेगें तो बुरा लगेगा
महज 500 से रिस्क फ्री लाखों का धंधा करना हो तो दरभंगा में खोल लीजिये लोकल चैनल!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...