यशवंत ने अपनाया केजरीवाल स्टाइल, गये जेल

Share Button

हजारीबाग(मंटू सोनी)। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता पुर्व केन्द्रीय वित्त व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा कई घंटे तक चले हाई वोल्टेज ड्रामा के बाद  मंगलवार को हजारीबाग के जय प्रकाश नारायण केन्द्रीय कारागार भेज दिया ।

yashwantउनका जेल जाने का अंदाज अरविंद केजरीवाल को बेल बान्ड भर जमानत न लेने के जैसा रहा। यहां भी श्री सिन्हा को बान्ड भर कर थाने से ही जमानत लेने को कहा गया लेकिन इन्होंने पुलिस से बिना शर्त जमानत देने नही तो जेल भेजने की माँग पर अडे रहे।

अंततः पुलिस ने इनके साथ समर्थकों को न्यायालय मे पेश किया जहाँ से सभी को न्याययिक हिरासत मे भेज दिया। बिजली समस्या को लेकर श्री सिन्हा के नेतृत्व मे भाजपा नेताओ- कार्यकर्ताओं ने बिजली विभाग के जीएम कार्यालय मे तालाबंदी की थी।

जिसके बाद नेताओं से वार्ता करने पहुँचे जीएम धनेश झा को महिला कार्यकर्ताओं ने उन्हें रस्सी से बाँध दिया और अधीक्षण अभियंता रामव्यास मिश्रा से बदसुलूकी भी की गयी ।

sinha_bagबाद में पुलिस के हस्तक्षेप से जीएम को मुक्त कराया गया ।साथ ही सैकड़ों लोगों को हिरासत मे ले लिया गया। घटना से गुस्साये बिजली कर्मी बिजली आपूर्ति बंद कर हड़ताल पर चले गये। जीएम धनेश झा के बयान पर हिरासत मे लिए गये लोगों पर पुलिस ने यशवंत सिन्हा सहित दर्जनो नामजद व सैकड़ों अज्ञात लोगों पर सदर थाना मे मामला दर्ज कर लिया गया।

जीएम श्री झा ने बताया कि वार्ता के लिए बुलाकर मेरे साथ धक्का-मुक्की कर मुझे रस्सी से बांध दिया। उन्होंने कहा कि हमलोगों पर बेबुनियाद आरोप लगाया जाएगा तो हम सभी हड़ताल पर जाने को विवश हो जायेगे।

जीएम के विरोध मे महिला कार्यकर्ताओं ने भी बदतमीजी व अपशब्दो का प्रयोग करने के आरोप मे थाना मे आवेदन दिया है।

इधर हिरासत मे लिए जाने के बाद  भाजपा नेताओं ने पुलिस के खिलाफ थाना मे ही नारेबाजी शूरु कर दी। पुलिस व प्रशासनिक पदाधिकारियों के समझाने के बाद सभी से बेल पत्र भरने को कहा गया।

भाजपा नेताओं ने बेल बान्ड भरने से इंकार कर जेल भेजने की माँग पर अड़ गये। अंततः मंगलवार को न्यायालय मे प्रस्तुत कर सभी को जेल भेज दिया गया ।

क्या यशवंत मुख्यमंत्री बनने का बना रहे खेल !

yashwant_woman_bjpइधर, राजनीतिक गलियारों में यशवंत की अचानक जन समस्याओं पर सक्रिय होने का राज क्या है ।

वह भी धरना-प्रदर्शन,  इस सक्रियता के कई क्यास लगाए जा रहे है ।केन्द्र में भाजपा नीत नवगठित सरकार मे तवज्जो न मिलने के इनकी नजर, मोदी लहर मे पुत्र जयंत सिन्हा को केन्द्र की राजनीति मे भेजने मे सफल होने के बाद ये खुद को राज्य के मुखिया बनने पर नजर गडाए हो।

पहले भी इनकी इस इच्छा की चर्चाए होती रही है ।आम जनता तक मे ये चर्चा का विषय है कि जो नेता बड़े ओहदे मे रहने के बाद जन समस्याओं पर इतना मुखर नही रहा।

अचानक इतना सक्रिय होना लोगों को हजम नही हो रहा है ।जो काम सांसद जयंत को करना था उसका कमान अपने हाथों मे लेना सचमुच यशवंत का ये रुप लोगों मे आश्चर्यचकित करने वाला है। इनका मुख्यमंत्री बनने का दावा तो नही पर इच्छा की पुष्टि दबी जुबान से इनके समर्थक भी करते है ।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.