मोदी सरकार की नई विज्ञापन नीति को लेकर जंतर-मंतर पर धरना

Share Button

नई दिल्ली स्थित जन्तर मंतर धरना स्थल पर सैकडों की संख्या में अख़बार प्रकाशक, संपादक, पत्रकार एवं हॉकर्स ने धरना दिया। धरने का कारण मोदी सरकार द्वारा DAVP की नई विज्ञापन पॉलिसी जारी करना है। फिलहाल इस पालिसी को कुछ महीने के लिए सरकार ने वापस ले लिया है लेकिन यदि यह पॉलिसी लागू होगी तो लघु एवं मध्यम समाचार पत्र बंद हो जाएंगे।

इसी विषय पर पत्रकारों के संग़ठन आल इंडिया स्माल एंड मीडियम न्यूज़पेपर एसोसिएशन के कार्यकारी सदस्यों श्री शिव शंकर त्रिपाठी, दीपक गोठी, महेश शर्मा कंचन गुप्ता व आरती त्रिपाठी ने गृह मंत्री श्री राज नाथ सिंह जी से मुलाकात की और पॉलिसी लागू होने से अखबारों पर आने वाले संकट की चर्चा की। श्री राजनाथ सिंह ने संग़ठन के पदाधिकारिओ की बैठक तुरंत सूचना प्रसारण राज्य मंत्री श्री राजवर्धन सिंह राठौर से सुनिश्चित करवाई।

श्री राठौर से ज्ञापन की प्रतिलिपि को ध्यान से पढ़ा और अगले 10 या 15 दिनों मे पुनः बैठक के निर्देश अपने सहकर्मी को दिये और आश्वासन दिया की कोई भी ऐसी पॉलिसी नहीं लायी जायेगी जिससे किसी एक व्यक्ति भी नुकसान हो। श्री राठौर से बैठक के बाद धरना समाप्त हो गया।

Share Button

Relate Newss:

...और झारखंड में 'आजाद सिपाही' ने यूं दी हौले से दस्तक
उषा मार्टिन एकेडमी प्रबंधन के खिलाफ 420 का मुकदमा
'ड्रग सिंडिकेट' का बड़ा किंगपिन है बिहार का यह 'बालू किंग'
इन जंगलियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं ?
डीजीपी ने सभी एसपी को मीडियाकर्मियों की सुरक्षा-सहयोग करने का दिया लिखित निर्देश
नवयुवक पत्रकारों के लिये खतरनाक हैं ऐसे प्रयास
धक्का देने के बाद हुई थी जयललिता की मौत: पी.एच. पंडियन
District Administration, Nalanda पर सबिता देवी के मामला का सच
पल्सर पल्सर पल्सर और पल्सर...
क्या हम बिहारी मराठी तमिलियन मणिपुरी नहीं हो सकते ?
दैनिक भास्कर ग्रुप से कार्यमुक्त निदेशक अब चलाएंगे वेबसाइट
शोभना भरतिया ने हिंदुस्तान टाइम्स को पांच हजार करोड़ में मुकेश अंबानी  को बेचा!
उपयोगिता समाप्त हो जाने के बाद छापे गये विज्ञापन
‘इंडियाज़ डॉटर’ से रोक हटे : एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया
जिओ टीवी के ‘खेल’ के सामने फेल रहे भारतीय सेल्फी रिपोर्टर्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...