मोदी, शाह और राजनाथ ने बिहार चुनाव में रैलियों का लगाया रिकार्ड शतक

Share Button
Read Time:3 Minute, 34 Second

बिहार विधानसभा चुनाव में जीतने के लिए सारे दांव खेलते हुए भाजपा नेतृत्व ने प्रचार अभियान में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के सभी प्रमुख क्षेत्रों में जाकर 26 रैलियां कीं, तो भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी सभाओं का अर्ध शतक लगाते हुए धुआंधार प्रचार किया। वहीं, गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने चुनाव प्रचार के दौरान 37 सभाएं कीं।

amit-modi-rajnathप्रचार अभियान में पार्टी के इन तीन स्टार प्रचारकों के साथ पार्टी के पूर्व अध्यक्ष रहे वेंकेया नायडू एवं नितिन गडकरी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज समेत दो दर्जन केंद्रीय मंत्रियों ने भी हिस्सा लिया।
 
बिहार चुनावों के लिए भाजपा ने प्रधानमंत्री मोदी की बांका में हुई 2 अक्तूबर की रैली से अपना प्रचार अभियान शुरू किया था।

मोदी ने राज्य में नवरात्रि से पहले चार दिन में 9 रैलियां और दशहरा के बाद छह दिनों में 17 चुनावी रैलियां कीं।

चुनाव अभियान समाप्त होने के एक दिन पहले दो नवंबर को मोदी ने दरभंगा में अपनी आखिरी रैली की।

गौरतलब है कि भाजपा ने चुनावों में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार पेश नहीं किया था और नरेंद्र मोदी के चेहरे को सामने रखकर ही पूरा अभियान चलाया।

आडवाणी, जोशी और शत्रुघ्न से नहीं कराया प्रचार
मोदी के साथ चुनाव अभियान में सबसे ज्यादा मेहनत पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने की। शाह ने 18 दिन के धुआंधार अभियान में 54 सभाएं कीं। उन्होंने कई बार एक दिन में चार से पांच सभाएं तक कीं।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दस दिन के प्रचार अभियान में 37 सभाओं को संबोधित किया। उन्होंने भी शाह की तरह एक दिन में चार से पांच सभाएं तक की।

इन नेताओं के अलावा भाजपा के दो दर्जन केंद्रीय मंत्री, केंद्रीय पदाधिकारी, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी प्रचार अभियान में शामिल रहे।

हालांकि, स्टार प्रचारकों में शामिल मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी के साथ सांसद शत्रुघ्न सिन्हा से पार्टी ने प्रचार नहीं कराया।

मोदी की सभाएं
बांका, मुंगेर, बेगूसराय, समस्तीपुर, नवादा, सासाराम, औरंगाबाद, जहानाबाद, भभुआ, छपरा, हाजीपुर, बिहारशरीफ (नालंदा), नौबतपुर (पटना), बक्सर, सीवान, सीतामढ़ी, बेतिया, मोतिहारी, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, मधुबनी, मधेपुरा, कटिहार, पूर्णिया,फारबिसगंज और दरभंगा।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

झारखंड सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के निदेशक का कमाल देखिये
कैलाश सत्यार्थी के नोबल पुरस्कार पर उठे सबाल
वाट्सएप की दो टूकः नहीं कर सकते प्रायवेसी का उल्लंघन
पांकी विधायक विदेश सिंह की आय को लेकर जनहित याचिका
टोल गेट पुंदाग (ओरमांझी) का तमाशा: ठेकेदार का है रोना, यहां होता है भारी नुकसान
अब किस मुंह से फैसले सुनाओगे रजत शर्मा ?
फिर से शुरू होगा कांग्रेस का नेशनल हेराल्ड अखबार : कपिल सिब्बल
ट्रंप ने पत्रकारों को बताया बेईमान और धूर्त
राहुल गांधी को लेकर मीडिया के इस रुख पर एक छात्रा ने जताई नाराजगी
एबीपी न्यूज चैनल के पंकज झा को जान मारने की धमकी के साथ मिल रही भद्दी गालियां
बिहार में भाजपा की हार को लेकर पांचजन्य ने लिखा- देश में खौफ का महौल बना रही है मीडिया
सुप्रीम कोर्ट के सख्त रुख को भांप प्रभात खबर प्रबंधन ने किया समझौता
इधर मौत पर मातम, उधर इन्साफ पर मातम !
न्यूज 11 के मालिक अरुप चटर्जी पर गर्ल्स हॉस्टल संचालिका को ब्लैकमेलिंग का एफआईआर
हे आर्य, तेनु काला चसमा सजदा हे देव जँचता जी रुखड़े मुखड़े पे
दगंलः आमिर खान की एक और बजोड़ फिल्म
रांची कॉलेज को डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी बनाने गवर्नर की सहमति
पत्रकार बलबीर दत्त और कलाकार मुकुंद नायक को पद्मश्री सम्मान
‘इंफाल टाइम्स’ की वायरल वीडियो में विधायक नहीं, उनके पीए व अन्य, देखिए पूरा वीडियो
अपनी हक हकूक के लिये 'हिलसा आंचलिक पत्रकार' का गठन
पीएम नरेन्द्र मोदी की वाराणसी जीत पर फर्जी वोटरों का ग्रहण !
2018 देवर्षि नारद पत्रकारिता सम्मान, श्री चंदन कुमार मिश्र के नाम
लुटेरे थैलीशाहों के लिए ‘अच्छे दिन’ ?
शहरी 4,400 रु. तो ग्रामीण 2,900 रु. देते हैं हर साल रिश्वत!
पत्रकारों के हित झारखंड यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट ने की आज शानदार पहल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...