मोदी की सुरक्षा के लिए तैनात नया ‘रैंबो’ आईपीएस अतुल करवाल

Share Button

अतुल करवालवे दुनिया की सबसे ऊंची माउंट एवरेस्ट की चोटी को फतह कर चुके हैं. लेकिन उनके इस नए एसाइनमेंट पर देश भर की नज़रें टिकी हैं. गुजरात पुलिस के आईपीएस अधिकारी अतुल करवाल पर नरेंद्र मोदी की पटना यात्रा के दौरान सुरक्षा की जिम्मेदारी थी।

करवाल ने से बातचीत में कहा है कि वे अपने दस्ते के साथ पटना में मौजूद हैं, लेकिन सुरक्षा संबंधी तैयारियों पर उन्होंने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया.

करवाल बिहार में नए रैंबो की भूमिका में हैं. सात डीआईजी, सात एसपी और पांच बम दस्तों सहित गुजरात पुलिस अधिकारियों की 150 लोगों की फौज के साथ करवाल बिहार में मोदी की सुरक्षा सुनिश्चित की।करवाल को मोदी की पटना यात्रा के लिए सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी दी गई थी.

27 अक्टूबर को भाजपा की ‘हुंकार’ रैली के दौरान सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद, बिहार पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर भाजपा और गुजरात पुलिस ने सवाल उठाए थे.

करवाल गुजरात के वैसे पुलिस अधिकारी जो अपनी फ़िटनेस वाली छवि के लिए मशहूर हैं. 1988 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी करवाल अभी गुजरात पुलिस अकादमी के संयुक्त निदेशक हैं.
अतुल करवाल की पहचान बेहद फ़िट रहने वाले पुलिस अधिकारी की है.

हालांकि उनकी पहचान माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले पहले भारतीय पुलिस सेवा के पहले अधिकारी की है. 2008 में उन्होंने 15 पुलिसकर्मियों की टीम के साथ दुनिया के सबसे ऊंची माउंट एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचने का कारनामा दिखाया था.

इस वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को अहमदाबाद की सड़कों पर 22 किलोग्राम के भारी भरकम बस्ते को पीठ पर लादे हुए दौड़ते देखना आम है. करवाल के दिलचस्पी एडवेंचर्स स्पोर्ट्स में हमेशा से रही है.

वे स्कूबा डाइविंग बखूबी जानते हैं और स्काई डाइविंग का लुत्फ़ भी उठाते रहे हैं. इतना ही नहीं करवाल कराटे में ब्लैक बेल्ट चैंपियन हैं. करवाल की ख़ूबियां यहीं खत्म नहीं होतीं, वे घुड़सवारी के भी चैंपियन हैं.
इन सबके बीच करवाल लिखने पढ़ने का वक्त भी निकालते रहे हैं. उन्होंने ‘थिंक एवरेस्ट’ नाम से एक किताब भी लिखी है.करवाल की पत्नी अनीता करवाल भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी हैं और गुजरात की मुख्य चुनाव अधिकारी हैं.

अतुल करवाल माउंट एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ने वाले भारतीय पुलिस सेवा के पहले अधिकारी हैं. ये पुलिसकर्मी नरेंद्र मोदी के उस सुरक्षा दस्ते में शामिल थे, जिन पर शनिवार को मोदी की पटना यात्रा के दौरान सुरक्षा व्यवस्था का जिम्मा था।

Share Button

Relate Newss:

दैनिक भास्कर-हिन्दुस्तान-सहारा,बिहारशरीफ संस्करण का संवाददाता-संपादक है या जज?
नरेन्द्र मोदी को संघ का पिछड़ा बताने के मायने
बिहार का हक है विशेष राज्य का दर्जा :राज्यपाल
नीतीश के लिए बड़ा मुश्किल रहा है इंजीनियर से सीएम तक का सफर
मनीषा दयाल की कार्यों की तरह उसके पजेरो में भी है काफी झोल-झाल !
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन
पीएलआईफ नक्सलियों के "बिहार बंद" के पर्चे से सनसनी
फुहर है आज की मीडिया, आरोपी को इस तरह बचा रही है एसआईटी !
हिलसा के एसडीओ अजीत कुमार सिंह ने न्याय को यूं नंगा कर दिया
इस विधानसभा चुनाव में मोदी लहर नहीं, EVM मशीन लहरः राबड़ी देवी
बिहार चुनाव हार के बाद मोदी सरकार का बड़ा फैसला, मीडिया में 26 कीजगह 49 फीसदी होगा विदेशी निवेश
दैनिक हिंदुस्तान के जिलावार अवैध संस्करणों में सरकारी विज्ञापन पर रोक
पूर्व-ब्यूरो चीफ के बीच आफिस में मारपीट के बाद काउंटर एफआईआर!
बिहार के मंत्री परवीन अमानुल्लाह के इस्तीफे का गेम प्लान
भाजपा के 160 रथों को टक्कर देगा लालू का 1000 टमटम !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...