मुरादाबाद  में जलती चिता से शव के मांस खाते युवक धराया

Share Button

यूपी के मुराबादाबाद में लोगों ने श्‍मशान घाट से एक युवक को चिता से शव निकालकर खाते हुए रंगे हाथों पकड़ा है. इतना ही नहीं पुलिस को ताश के पत्ते, कंडोम के खाली पैकेट भी मिले हैं.

Muradabad_upयह घटना मुरादाबाद के सुरजननगर में फीका नदी पर स्थित श्मशान घाट की है. जहां लोगों ने एक युवक को अधजली चिता से शव को निकालकर खाते हुए रंगे हाथ पकड़ा है. इस घटना की सूचना लोगों ने पुलिस को दी तो युवक को पूछताछ के बाद हिरासत में ले लिया गया.

 मुरादाबाद के गांव कनकपुर के लोग एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार करने के लिए सुरजननगर में फीका नदी के पास स्थित श्मशान घाट पर पहुंचे. वहां उन्होंने मृतक का अंतिम संस्कार कर उसकी चिता को आग लगा दी.

आग लगाने के बाद ग्रामीण जैसे ही वहां से चले तो श्मशान घाट में छिपा बैठा एक युवक चिता की ओर दौड़ा और वहां से वापस आकर छिप गया.

इस पर लोगों को संदेह हुआ तो उन्होंने युवक को पकड़ लिया. वह अपने ऊपर चादर ढककर कुछ खा रहा था. लोगों ने उससे कड़ाई से पूछताछ की तो उसने उन्हें बताया कि यह मांस उसने पहली जली चिता से निकाला था. जिस पर लोगों ने युवक को पकड़ लिया और उसकी पिटाई की.

इस घटना की सूचना मिलने पर जब पुलिस टीम मौके पर पहुंची तो युवक से पूछताछ की तो उसने अपना नाम अखिलेश बताया. सही नाम पता नहीं बता रहा था. कभी अपने को सुल्तानपुर का निवासी बता रहा था.

बाद में पुलिस उसे चौकी पर ले गई वहां पर मौके से पुलिस को ताश के पत्ते, कंडोम के खाली पैकेट मिले. वहां उसका बिस्तर भी लगा मिला.

गांव रामपुर घोघर, सुरजननगर, कनकपुर निवासी मास्टर संजय सिंह, रामसरन सिंह, यत्येंद्र सिंह, महिपाल सिंह आदि ने बताया कि इस युवक को उन्होंने 15 दिन से श्मशान में देखा है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

सीओ एसएन सिंह का कहना है कि युवक मानसिक रूप से विक्षिप्त लग रहा है. उसकी जेब से अस्सी रुपये और करीब आधा किलो अधजला मांस भी मिला है. युवक का पहले मेडिकल परीक्षण कराया जाएगा यदि उसमें कोई मानसिक बीमारी पाई जाती है तो अधिकारियों की अनुमति लेने के बाद उसे आगरा मेंटल हॉस्पिटल भेजा जाएगा.

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.