मुंगेर के वयोवृद्ध स्तंत्रतासेनानी व पत्रकार काशी प्रसाद जी नहीं रहे

Share Button

राजनामा.कॉम। बिहार के मुंगेर के वरिष्ठ पत्रकार, अधिवक्ता एवं शिक्षक काशी प्रसाद का निधन बीती देर रात लगभग 12 बजे मंगल बाजार स्थित निवास पर हो गया।

वे विगत दो माह से हृदय रोग से जूझ  रहे थे। वे 94 वर्ष के थे  और अंतिम सांस तक  द टाइम्स आफ इंडिया से संवाददाता के रूप में जुड़े रहे।

काशी प्रसाद जी ने अपने पत्रकारीय जीवन में देश के ख्यातिप्राप्त अंग्रेजी और हिन्दी अखबारों द स्टेट्समैन, द सर्चलाइट, द इंडियन नेशन, प्रदीप, आर्यावर्त, नवभारत टाइम्स, आज, सन्मार्ग, राष्ट्रवाणी से संवाददाता के रूप में जुड़े रहे। वे आकाशवाणी से भी जुड़े रहे।

उन्होंने मुंगेर के सरकारी श्रीदुर्गा संस्था उच्च विद्यालय में अंग्रेजी शिक्षक के रूप नौकरी कीं और प्रधानाध्यापक पद पर अवकाशग्रहण किया ।

शिक्षा-सेवा से सेवानिवृत होने के बाद उन्होंने मुंगेर सिविल कोर्ट में वकालत की प्रैक्टिस शुरू कीं और अंतिम सांस तक वकालत के पेशे से जुड़े रहे ।

मुंगेर में गंगा नदी पर आज दौड़ रही ट्रेन में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल निर्माण के लिए ‘जागृति‘ संस्था के बैनर तक चलाए गए दशक पुराने आंदोलन का नेतृत्व उन्होंने अध्यक्ष के रूप में किया।

उन्होंने आम सभा में पुल न बनने पर सरकार को आत्मदाह की खुली घोषणा की थीं।

वे स्वतंत्रता-सेनानी  भी रहे और भारत छोड़े आंदोलन में  अह्म भूमिका निभाईं ।परन्तु, उन्होंने स्वतंत्रता-सेनानी पेंशन लेने से इन्कार कर दिया।

वे अपने पीछे पुत्र श्रीकृष्ण प्रसाद (अधिवक्ता व पत्रकार), आचार्य पी. संजय (ज्योतिषाचार्य),  अजय कुमार (अधिवक्ता), और बिजय कुमार समेत भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं।

Share Button

Relate Newss:

सुशासन बाबू के MLA की घिनौनी करतूत तो देख लीजिये
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
जब डॉ. मिश्र ने महज इंदिरा जी को खुश करने के लिए इस बिल से देश में मचा दिया था तूफान
मढ़वा के दिन प्रेमी संग फरार प्रेमिका ने ग्राम कचहरी में रचाई शादी !
कोई नहीं ले रहा ललमटिया कोल खदान के विस्थापितों की सुध !
...तो इसलिये तनाव और मानसिक पीड़ा में थे कशिश के रिपोर्टर संतोष सिंह
रांची के सन्मार्ग को फिर नए संपादक की तलाश !
आइएएनएस के ब्यूरो प्रमुख का गोरखधंधा, बीबी के नाम पर लूट रहा है झारखंड आइपीआरडी
केस रियल रिट्रीट होटल काः पूल पार्टी या नशा-सेक्स कारोबार ?
फर्जी डिग्री देती है मैनेजमेंट गुरु अरिंदम चौधरी की IIPM
संसद में चर्चा हुई तो पहले पन्ने पर छपा तबरेज, पहले होता था उल्टा !
पत्रकारिता के नाम पर फ्रॉडगिरी
पर्यावरण को यूँ नष्ट कर रहे हैं खनन माफिया
प्रभात खबर से जुड़ा है IM का संदिग्ध आतंकी उजैर अहमद
युवा निर्भीक आदिवासी रिपोर्टर अमित तोपनो की हत्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...