मुंगेर की घटना वनाम बिहारी मीडिया

Share Button

खुद इस घटना की जांच-पड़ताल-आत्म मंथन करे दैनिक जागरणः

बिहार के मुंगेर से एक बड़े मीडिया हाउस की रीढ़ जला देने वाली खबर आई है। ऐसे सरेआम सड़क पर अब तक किसी राजनीतिक दलों या समाजिक संगठनों द्वारा अखबार जलाने की सूचनायें मिलती है। शायद देश में एक बार फिर तेजी से उभर रहे बिहार की यह पहली घटना है कि गांव वालों ने अपनी समस्याओं को लेकर किसी बड़े समाचार पत्र ग्रुप के कार्यालय के सामने अखबार की सैकड़ों प्रतियां जलाई हो। 

गांव वालों का कहना है कि एक सिगरेट कंपनी के प्रदुषण से वे नाना प्रकार के समस्याओं से जूझ रहे हैं और अखबार इसकी सूचना तक नहीं छापती। जबकि उस अखबार में उल-जलुल खबरों की भरमार रहती है।

इस घटना का विश्लेषण करने के पहले बचपन की वह कहावत यूं ही याद आ जाती है कि ” बड़ा हुआ तो क्या हुआ-जैसे पेड़ तार खजुर। पथिक को छाया नहीं-फल लगे अति दूर।। ”  आज बिहार में कई बड़े मीडिया हाउस अपना कारोबार कर रहे हैं और साम-दंड-भेद की नीति अपना कर करोड़ों का मुनाफा कमा रहे हैं। और इस मुनाफा का एक बड़ा हिस्सा सरकारी विज्ञापनों का है। जो आम जनता की गाढ़ी कमाई से सरकारी खजाने में जमा होता है। किसी मीडिया हाउस को यह बताने की जरुरत नहीं है कि उसका मूल कार्य सरकार और जनता के बीच एक मजबूत कड़ी बनना है।

लेकिन,यदि हम आज बिहारी मीडिया का आंकलन करें तो उसके प्रायः स्वंयभू कहीं भी खड़े नजर नहीं आते। राजधानी से लेकर गांव गली तक फैले उसके पत्रकार-संवाददाता के झूंड उन तत्वों की झंडागिरी करते नजर आते हैं, जिन्होंनें आज गांवों तक को अपनी शोषण-दमन की चपेट में ले रखे हैं। सच भी है कि आखिर जनता संयम बरते तो कब तक ? इस यक्ष प्रश्न का जबाब तो जनता की गाढ़ी कमाई को लूट कर अपनी तिजोरियों में भरने वाले कॉरपोरेट मीडिया घराने भी  अच्छी तरह जानते हैं। 

कथार्थ, जब स्थानीय स्तर पर आम जनता की समस्याओं को शासन तंत्र के नुमाइंदे नहीं  सुनते। अपनी कान में ठेंठी डाल लेते हैं। तब आज उन्हीं के बीच का एक जागरुक तबका मीडिया के मार्फत अपनी बात सरकार तक पहुंचाने की कोशिश करते हैं। और अगर उसकी यहां भी अवहेलना हो तो मीडिया को लेकर भी एक नया घटना क्रम शुरु होगा ही।  जैसा कि मुंगेर की सड़कों पर दैनिक जागरण सरीखे अखबार सरेआम जलाये जाने की घटना है। 

सबसे बड़ी बात कि इस घटना में अखबार के प्रति ग्रामीणों का फूटा आक्रोश स्वभाविक है। इसके पीछे किसी संगठन की रणनीति सामने नहीं आई कि दोष कहीं और फेंक कर अखबार अपना दामन बचा ले। अब ऐसे अखबार को खुद चाहिये कि वे खुद इस घटना की जांच-पड़ताल-आत्म मंथन करे ।    ………. मुकेश भारतीय

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...