मीडिया के लिए नहीं होना चाहिए कोई दिशा-निर्देशः चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा

Share Button
Read Time:3 Minute, 16 Second

राजनामा.कॉम। ‘लोकतांत्रिक समाज में प्रेस की आजादी तमाम आजादी की जननी है। इसमें कोई शक नहीं कि ये संविधान में दिए गए सबसे मूल्यवान अधिकारों में से एक है। इसमें जानने का अधिकार और सूचित करने का अधिकार भी समाहित है’

यह कहना है देश के मुख्य न्यायधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा का।

उन्होंने कहा कि मेरा अटूट विश्वास है कि ‘(मीडिया के लिए) कोई दिशा-निर्देश नहीं होना चाहिए। उन्हें (मीडिया) को खुद पर नियंत्रण के लिए अपनी गाइडलाइंस बनानी चाहिए। प्रेस के निजी या समन्वित दिशा-निर्देश से बेहतर और कुछ नहीं हो सकता। किसी भी प्रकार से कुछ थोपना नहीं चाहिए लेकिन स्व-नियंत्रण होना चाहिए।’

इंटरनेशनल लॉ एसोसिएशन के एक समारोह में अध्यक्ष के तौर पर अपने संबोधन के दौरान उन्होंने ये बता कही। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के एक अन्य जस्टिस ए.एम खानविलकर भी मौजूद रहे।

सीजेआई मिश्रा ने अपने संबोधन के दौरान कहा, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता राष्ट्रीय महत्व के मामलों में आम जनता की राय निर्मित करने में प्रमुख भूमिका निभाती है। साथ ही कहा कि इससे जानकार नागरिक तैयार होते हैं। 

सीजेआई ने आगे कहा कि मीडिया को नागरिकों की भावना को भड़काने वाले मामलों की रिपोर्टिंग करते समय निष्पक्षता बनाए रखने की जिम्मेदारी उठानी चाहिए।

वहीं, इस समारोह में मशहूर न्यायविद एन.आर. माधव मेनन ने ‘कोर्ट्स, मीडिया और फेयर ट्रायल गारंटी’ विषय पर व्याख्यान दिया।

उन्होंने कहा कि मीडिया कवरेज तीन पायदानों पर किसी भी मामले के निष्पक्ष ट्रायल को प्रभावित करती है- ट्रायल से पहले, ट्रायल के दौरान और ट्रायल पूरा होने के बाद।

उन्होंने इस तरफ इशारा किया कि गवाहों और आरोपी की पहचान का खुल जाना कई तरीके से ट्रायल को प्रभावित कर सकता है।

मेनन ने कहा, मीडिया की तरफ से समानांतर ट्रायल चलाए जाने से जांच एजेंसी को गिरफ्तारी करने के लिए प्रेरित कर सकता है और गवाहों के पलट जाने का भी कारण बन सकता है।

उन्होंने आगे जोड़ा कि ट्रायल खत्म हो जाने के बाद यदि मीडिया किसी जज की सत्यनिष्ठा पर सवाल उठाता है तो इससे न्यायपालिका की स्वतंत्रता को भी खतरा पैदा होता है। 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

न्यूज वेब साइट पोर्टल को फर्जी कहने वाले की करें शिकायत, वे सीधे नपेगें
एक था ‘अखबारों की नगरी’ मुजफ्फरपुर का 'ठाकुर'
जी न्यूज और न्यूज नेशन के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचे धोनी
बिहार सूचना जनसंपर्क विभाग की लूट का नया तरीका
इन भ्रष्ट IAS अफसरों पर कार्रवाई की फाइल विभाग से गायब !
दुनिया की चौथी सबसे खूबसूरत महिला ऐश्वर्या बच्चन
मीडिया की 'पाप-पंचायत' और कठघरे में राजा भइया !
शाहरुख खान को लेकर अनाप-शनाप न बोलें BJP के नेता :अनुपम खेर
DC का अंतिम फैसलाः भू माफियाओं के खिलाफ राजगीर CO जाएं कोर्ट, SDO हटाएं अतिक्रमण
IANS न्यूज एजेंसी  ने जारी न्यूज में नरेंद्र मोदी को ‘बकचोद’ लिखा, गई कइयों की नौकरी
अपने-अपने 'औरा' को लेकर टकरा रहे हैं मोदी और प्रियंका !
जनप्रतिनिधि निकाल रहे नालंदा में शराबबंदी की हवा, मुखिया और पैक्स अध्यक्ष समेत 7 धराये
साम्प्रदायिकता को हक-हुकूक की लड़ाई से जोड़ना होगा
नालंदा थाना पर्यटक सुविधा क्रेंद पर एक कथित पत्रकार का यूं सजा होटल बोर्ड
बिहार चुनाव में शर्मनाक हार के लिए अमित शाह का 'पाकिस्तानी पटाखा' एक बड़ा कारण :मांझी
...और इस कारण सोशल मीडिया पर क्रिकेट स्टार धोनी की हो रही थू-थू
नहीं नपे झारखंड के जमीन माफिया-दलाल-पुलिस
जवाबहीन लोग होते हैं सवाल से चिढ़ने वाले :रवीश कुमार
कोल्हान में फर्जी पत्रकारों की बाढ़, यूं एक और सरगना आया सामने!
बिहार चुनाव में नकली और विदेशी मुद्राओं का हुआ जमकर इस्तेमाल
समस्तीपुर में चिमनी मालिक पत्रकार की गोलियों से भून डाला
केजरीवालः व्यवस्था बदलने की जिद में छोड़ी सत्ता
मोदी जी, स्मृति जी से रिक्वेस्ट कर दुष्ट तुलसीदास को सिलेबस से हटाएँ
जाहिल हैं रघुबर सरकार के शिक्षा मंत्री ?
संसद को लेकर आडवाणी व्यथित, बोले- इस्तीफा देने को मन कर रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...