मीडिया के लिए नहीं होना चाहिए कोई दिशा-निर्देशः चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा

Share Button

राजनामा.कॉम। ‘लोकतांत्रिक समाज में प्रेस की आजादी तमाम आजादी की जननी है। इसमें कोई शक नहीं कि ये संविधान में दिए गए सबसे मूल्यवान अधिकारों में से एक है। इसमें जानने का अधिकार और सूचित करने का अधिकार भी समाहित है’

यह कहना है देश के मुख्य न्यायधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा का।

उन्होंने कहा कि मेरा अटूट विश्वास है कि ‘(मीडिया के लिए) कोई दिशा-निर्देश नहीं होना चाहिए। उन्हें (मीडिया) को खुद पर नियंत्रण के लिए अपनी गाइडलाइंस बनानी चाहिए। प्रेस के निजी या समन्वित दिशा-निर्देश से बेहतर और कुछ नहीं हो सकता। किसी भी प्रकार से कुछ थोपना नहीं चाहिए लेकिन स्व-नियंत्रण होना चाहिए।’

इंटरनेशनल लॉ एसोसिएशन के एक समारोह में अध्यक्ष के तौर पर अपने संबोधन के दौरान उन्होंने ये बता कही। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के एक अन्य जस्टिस ए.एम खानविलकर भी मौजूद रहे।

सीजेआई मिश्रा ने अपने संबोधन के दौरान कहा, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता राष्ट्रीय महत्व के मामलों में आम जनता की राय निर्मित करने में प्रमुख भूमिका निभाती है। साथ ही कहा कि इससे जानकार नागरिक तैयार होते हैं। 

सीजेआई ने आगे कहा कि मीडिया को नागरिकों की भावना को भड़काने वाले मामलों की रिपोर्टिंग करते समय निष्पक्षता बनाए रखने की जिम्मेदारी उठानी चाहिए।

वहीं, इस समारोह में मशहूर न्यायविद एन.आर. माधव मेनन ने ‘कोर्ट्स, मीडिया और फेयर ट्रायल गारंटी’ विषय पर व्याख्यान दिया।

उन्होंने कहा कि मीडिया कवरेज तीन पायदानों पर किसी भी मामले के निष्पक्ष ट्रायल को प्रभावित करती है- ट्रायल से पहले, ट्रायल के दौरान और ट्रायल पूरा होने के बाद।

उन्होंने इस तरफ इशारा किया कि गवाहों और आरोपी की पहचान का खुल जाना कई तरीके से ट्रायल को प्रभावित कर सकता है।

मेनन ने कहा, मीडिया की तरफ से समानांतर ट्रायल चलाए जाने से जांच एजेंसी को गिरफ्तारी करने के लिए प्रेरित कर सकता है और गवाहों के पलट जाने का भी कारण बन सकता है।

उन्होंने आगे जोड़ा कि ट्रायल खत्म हो जाने के बाद यदि मीडिया किसी जज की सत्यनिष्ठा पर सवाल उठाता है तो इससे न्यायपालिका की स्वतंत्रता को भी खतरा पैदा होता है। 

Share Button

Relate Newss:

चीनी ऑनलाइन वाणिज्य कंपनी अलीबाबा ने घंटे भर में की 3.9 अरब की शापिंग
प्रभात खबर ने छापी बेवुनियाद खबर
शोसल नेटवर्किंग का विस्तार और मानवीय अलगाव के खतरे
वोफ्फर  :ई-कॉमर्स व्यापारियों की नयी सीढ़ी
टीआरपी की होड़ में मर गई मीडिया की नैतिकता!
पुलिस फायरिंग में दो मधेसियों की मौत, 40 से अधिक घायल
फोटाग्राफर नहीं, बल्कि ग्राफिक हिस्टोरियन थे 'किशन'
22 साल बाद संघ गणवेश पहन पथ संचलन करेगें सदानंदन मास्टर
टाइम्स नाऊ से अर्बण गोस्वामी का इस्तीफा, लांच करेंगे खुद का चैनल
जद(यू) से बिहार के मंत्री और झारखंड के अध्यक्ष का इस्तीफा
गुजरात में अब मोदी-शाह का 'रुपानी राज'
एडीएम ने महिला सहायक को फेसबुक-ईमेल से लगातार भेजे अश्लील फोटो, FIR दर्ज
जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनका भी अपराध
संकट में सुबोध, नहीं मान रहे युवराज !
सड़क हादसे में दैनिक हिन्दुस्तान के उप संपादक की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...