मीडिया के लिए नहीं होना चाहिए कोई दिशा-निर्देशः चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा

Share Button

राजनामा.कॉम। ‘लोकतांत्रिक समाज में प्रेस की आजादी तमाम आजादी की जननी है। इसमें कोई शक नहीं कि ये संविधान में दिए गए सबसे मूल्यवान अधिकारों में से एक है। इसमें जानने का अधिकार और सूचित करने का अधिकार भी समाहित है’

यह कहना है देश के मुख्य न्यायधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा का।

उन्होंने कहा कि मेरा अटूट विश्वास है कि ‘(मीडिया के लिए) कोई दिशा-निर्देश नहीं होना चाहिए। उन्हें (मीडिया) को खुद पर नियंत्रण के लिए अपनी गाइडलाइंस बनानी चाहिए। प्रेस के निजी या समन्वित दिशा-निर्देश से बेहतर और कुछ नहीं हो सकता। किसी भी प्रकार से कुछ थोपना नहीं चाहिए लेकिन स्व-नियंत्रण होना चाहिए।’

इंटरनेशनल लॉ एसोसिएशन के एक समारोह में अध्यक्ष के तौर पर अपने संबोधन के दौरान उन्होंने ये बता कही। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के एक अन्य जस्टिस ए.एम खानविलकर भी मौजूद रहे।

सीजेआई मिश्रा ने अपने संबोधन के दौरान कहा, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता राष्ट्रीय महत्व के मामलों में आम जनता की राय निर्मित करने में प्रमुख भूमिका निभाती है। साथ ही कहा कि इससे जानकार नागरिक तैयार होते हैं। 

सीजेआई ने आगे कहा कि मीडिया को नागरिकों की भावना को भड़काने वाले मामलों की रिपोर्टिंग करते समय निष्पक्षता बनाए रखने की जिम्मेदारी उठानी चाहिए।

वहीं, इस समारोह में मशहूर न्यायविद एन.आर. माधव मेनन ने ‘कोर्ट्स, मीडिया और फेयर ट्रायल गारंटी’ विषय पर व्याख्यान दिया।

उन्होंने कहा कि मीडिया कवरेज तीन पायदानों पर किसी भी मामले के निष्पक्ष ट्रायल को प्रभावित करती है- ट्रायल से पहले, ट्रायल के दौरान और ट्रायल पूरा होने के बाद।

उन्होंने इस तरफ इशारा किया कि गवाहों और आरोपी की पहचान का खुल जाना कई तरीके से ट्रायल को प्रभावित कर सकता है।

मेनन ने कहा, मीडिया की तरफ से समानांतर ट्रायल चलाए जाने से जांच एजेंसी को गिरफ्तारी करने के लिए प्रेरित कर सकता है और गवाहों के पलट जाने का भी कारण बन सकता है।

उन्होंने आगे जोड़ा कि ट्रायल खत्म हो जाने के बाद यदि मीडिया किसी जज की सत्यनिष्ठा पर सवाल उठाता है तो इससे न्यायपालिका की स्वतंत्रता को भी खतरा पैदा होता है। 

Share Button

Relate Newss:

नीतिश सरकारः मीडिया में महज चेहरा चमकाने पर फूंक डाले 500 करोड़
'सांप्रदायिकता' के ज़हर को छोड़कर एकता को गले लगाइए
पूँजीवादी कारपोरेट मीडिया का राजनीतिक अर्थशास्त्र
..और ऐसे ‘पौर’ विहीन हुआ गया नगर निगम
अगर साईज पता हो तो पाठकों को अंडरगार्मेंटस भी बांट दे अखबार
दैनिक खबर मन्त्र कर्मी देवानंद साहू की सड़क दुर्घटना में मौत
राजगीर में बना फर्जी पत्रकार संघ, नियोजित शिक्षक बना कोषाध्यक्ष
नालंदा एसपी ने जागरण रिपोर्टर को भेजा जेल, अखबार ने बताया निजी मामला
यशवंत को साक्षी के मामले में जमानत
न्यूज वेब साइट पोर्टल को फर्जी कहने वाले की करें शिकायत, वे सीधे नपेगें
HC से एम.जे. अकबर मामला में 'NDTV' को कड़ा झटका
सीएम ने कहा- ए भागो..मीडिया वाले सब भागो, सब निकल गये, लेकिन दुबके रहे दो बड़े वेशर्म पत्रकार
इंडिया टुडे की इस बेशर्मी पर चुप क्यों हैं काटजू
बिना IT Act ज्ञान के पत्रकार के खिलाफ धुर्वा थाना प्रभारी की चल रही यूं अनुसंधान !
अजीत डोभाल का इंटरव्यू से इन्कार, भास्कर डॉट कॉम पर जारी ऑडियो क्लिप अस्पष्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...