‘माई के तिलाक होखे कि फेर से चुनाव लड़ीं’ !

Share Button

Tiwari_MPभाई लोग उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद है मनोज तिवारी। भोजपुरी गायक हैं। अस्सीये से बीए करके कम्पीटिशन देते रहे हैं। राजनीति के कंपीटिशन में भी आये सांसद बने, लेकिन जब विधायकों को जिताने की बारी आई लिट्टी चोखा और इंटरनेशल धोखाधड़ी वाले जुमले में पड़ गये। कहिन किरण बेदी कैसे बन सकती हैं भाजपा की मुख्यमंत्री पद की दावेदार वो तो थानेदार ठहरीं।

खैर खबर यह है कि कल भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक जब मेयर हाउस में आयोजित किया गया तो भैया मतलब तिवारी बाबा को कार्यकर्ताओं ने बोलने नहीं दिया

manoj_delhiकहा कि ई सांसद हैं लेकिन दिखाई कहां देते हैं। भईया भी कहां पीछे हटने वाले थे..भईया ने कहा कि हम तो राजनीति में आना भी नहीं चाहते थे ..हम तो भोजपुरी स्टार हैं। जबरदस्ती टिकट दे दिया लोग।

भईया यहीं नही रूके थोड़ा उकसाये जाने पर कहिन ” माई के तिलाक होखे कि फेर से चुनाव लड़ीं’ अर्थात अब 5 साला सिर्फ आपके छाती पर बैठके मूंग दलेंगे और माया नगरी से पैसा कमायेंगे।

” इन्हीं लोगों के भरोसे मोदी जी अच्छे दिन ..आएंगे। अच्छे दिन आएंगे का नारा दिलवा रहे थे। हम भी आश्चर्य में थे कि आखिर दिल्ली के लोगों ने झाडू क्यों उठाया..अरे भाई अईसे नेता से तो बेहतर उनको झाडूआ दिया जाये। ठीक फैसला लिया भाई लोग आपने। (साभारःफेसबुक)

Share Button

Relate Newss:

बीजेपी का भ्रष्ट और मोदी का चहेता रक्षा राज्य मंत्री
'धूर्त्तपुरुष' की राह पर 'युगपुरुष' ?
रंगदारी मामले में बंद न्यूज़ पोर्टल का संपादक समेत तीन धराये
सड़क पर गजराज, समझिये इनके गुस्से
कटरा हादसे में मीडिया के हाथों मारी गई पायलट ने फेसबुक पर लिखा- जिंदा हूं मैं
हार्ट अटैक से नहीं हुई भास्कर समूह संपादक कल्पेश की मौत, पुलिस मान रही है सुसाइड
हिलसा के एसडीओ अजीत कुमार सिंह ने न्याय को यूं नंगा कर दिया
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
भारत में रोज़ बिकता है 61 लाख किलो गौ मांस !
इंडिया न्यूज़ की चित्रा त्रिपाठी को एक साथ मिली दोहरी खुशी
प्रेस क्लब की सदस्यता में धांधली के बीच विजय पाठक को लेकर उभरे तत्थ
इधर केंद्रीय गृहमंत्री की बैठक, उधर राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या
रीजनल न्यूज चैनल कशिश के रिपोर्टर का नेशनल धमाका
सीएम नीतिश कुमार का फरमान , ईटीवी को कोई बाईट नहीं दें जदयू नेता !
संजीत के ऐसी ‘संदिग्ध मौत’ के बाद बाइलाइन छापने वाला दैनिक प्रभात खबर ने नहीं माना पत्रकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...