महुआ की मालकिन ने हाथ जोड़ा, कर्मचारियों ने कहा शेम-शेम

Share Button

mahuaमहुआ न्यूज के आफिस पर कब्जा कर चुके सवा सौ हड़ताली कर्मचारियों के बीच आज सबुह महुआ के मालिक पीके तिवारी की पत्नी मीना तिवारी यानि महुआ की मालकिन पहुंचीं और रणनीतिक तौर पर कुछ ऐसे बयान दिए जिससे कर्मचारियों का मनोबल टूट जाए.

उन्होंने हाथ जोड़कर हड़ताली कर्मचारियों से कहा कि वे लोग संकट में हैं और अगले तीन महीने तक कोई सेलरी नहीं दे पाएंगे. इसलिए हड़ताली कर्मचारियों को जो करना है करें, वे यहां से जा रही हैं और उनकी कोई भी मांग मान पाने में असमर्थ हैं.

सूत्रों का कहना है कि हजारों करोड़ रुपये की बैंकों से ठगी करने वाले महुआ के मालिक पीके तिवारी और उनकी पत्नी मीना तिवारी और इनके परिजनों के नाम सैकड़ों करोड़ की अघोषित संपत्ति है.

महुआ एंटरटेनमेंट चैनल पर करोड़ों रुपये का रियल्टी शो प्रसारित किया जा रहा है और इसकी शूटिंग भी महुआ आफिस के आधे हिस्से में बने स्टूडियो में कल से की जा रही है.

इसमें करोड़ों रुपये देकर रवि किशन, कल्पना, मालिनी अवस्थी जैसे कलाकारों को जज के रूप में बिठाया गया है. इन्हें देने के लिए पैसे हैं, महंगी गाड़ियों पर चलने के लिए पैसे हैं, दूसरी अय्याशियों के लिए पैसे हैं, दुनिया भर में फैले सेंचुरी ग्रुप के आफिसों के लिए पैसे हैं लेकिन सवा सौ कर्मचारियों को देने के लिए पैसे नहीं हैं. मालकिन की इस धूर्तता पर हड़ताल कर रहे कर्मचारियों ने शेम शेम कहा है.

सूत्रों का कहना है कि कर्मचारियों से निपटने का मोर्चा संभाल रहीं मीना तिवारी की पूरी कोशिश है कि पहले कर्मचारियों को हताश-निराश करो फिर समझौते लिए इतना नीचे गिरा दो कि वे सिर्फ महीने भर की सेलरी लेकर आफिस छोड़ने के लिए राजी हो जाएं या फिर पोस्ट डेटेड चेक (जो कि अंततः बाउंस हो जाते हैं, जैसा कि कई चैनलों का पुराना इतिहास बताता है) लेकर आफिस छोड़कर चले जाएं.

पर हड़ताली कर्मचारियों ने कह दिया है कि वे न तो एक महीने की सेलरी पर मानेंगे और न ही पीडीसी (पोस्ट डेटेड चेक) लेकर घर जाने वाले. उन्हें पूरे तीन महीने की बकाया सेलरी और अगले दो महीने की एडवांस सेलरी चाहिए, तभी आफिस छोड़ेंगे वरना आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए बाहर के मीडिया संगठनों को बुलाएंगे और महुआ न्यूज के आफिस के बाकी आधे हिस्से में चल रहे महुआ एंटरटेनमेंट के कामकाज को भी ठप कराकर यहां झंडा बैनर लगवाकर परमानेंट आंदोलन शुरू कर देंगे.

Share Button

Relate Newss:

‘महापाप’ की रिपोर्टिंग से रोक हटाएं मी लार्ड :एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया
रांची के जीवन में यूं उमंग भर रहा है एफ़एम रेनबो
जर्नलिस्ट रवीश कुमार को मिला 'रैमॉन मैगसेसे' अवार्ड’2019
धड़ाधड़ खुल रहे रीजनल चैनलों की कहानी, एक्सपर्ट वासिंद्र मिश्र की जुबानी
काटजू जी, देखिये झारखंडी मीडिया की चाल-चरित्र
‘मास्टर स्ट्रोक’- ABP न्यूज से मिलिंद के बाद पुण्य प्रसून का भी इस्तीफा, अभिसार को छुट्टी!
महज 500 से रिस्क फ्री लाखों का धंधा करना हो तो दरभंगा में खोल लीजिये लोकल चैनल!
मीडिया के विजय माल्या यानी महुआ चैनल के पीके तिवारी की 112 करोड की सम्पति जब्त
सुप्रीम कोर्ट ने लगाई जी न्यूज के सुधीर चौधरी को कड़ी फटकार
दोहरे चरित्र के प्राणी हैं पत्रकार
बढ़ी साझेदारी के बीच अब CNN IBNTV के रुप में दिखेगा tv18 और CNN
सबाल पत्रकारिता के जातिगत ताने-बाने का
रेंगने को मजबूर क्यों हुआ एन डी टीवी ?
इस न्यूज़ चैनल का यह कैसा एक्सक्लुसिव
बिहार में बच्चों की मौत पर रिपोर्टिंग करती टीवी पत्रकारिता को टेटनस हो गया है, टेटभैक का इंजेक्शन भी...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...