महिला ने कुख्यात देवर को बचाने की मंशा से थानेदार के खिलाफ यूं बनवाई सुर्खियां

Share Button

“पुलिस-प्रशासन पर आरोप लगते रहते हैं। लेकिन कुछ आरोप ऐसी रहती हैं, जो बेसिर-पैर के होते हैं। मीडिया को ऐसे आरोपों की सुर्खियां बनाने से पहले उससे जुड़े तथ्य की पड़ताल अवश्य कर लेनी चाहिए कि आरोप का असली मकसद क्या है…..”

राजनामा.कॉम। आज पटना से प्रकाशित प्रायः सभी प्रमुख अखबारों के बिहारशरीफ-नालंदा संस्करण(कथित) के पन्नों पर एक खबर प्रकाशित हुई है।

खबर है कि दीपनगर थाना क्षेत्र के मणीचक गांव निवासी विधवा महिला ने पुलिस पर बेरहमी से पिटाई करने का आरोप लगाया है। जख्मी स्व. अंगद पासवान की पत्नी रंजू देवी को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। विधवा महिला को काफी चोटें आयी है। महिला ने अस्पताल में शरीर पर पिटाई से बने जख्मों को दिखाया।

पीड़िता ने बताया कि कुछ दिन पहले गोतिया के लोगों के बीच मारपीट हुई थी। इसमें उसका चचेरा देवर राजेश पासवान आरोपित है। गुरुवार की तड़के थानाध्यक्ष जवानों के साथ आये और राजेश के बारे में पूछने लगे। उसने जानकारी से इनकार किया तो रुल से उसकी पिटाई की गयी।

थानाध्यक्ष धर्मेन्द्र कुमार ने कहा कि उनपर लगाया गया आरोप पूरी तरह से गलत है। सात फरवरी को दो पक्षों के बीच मारपीट हुई थी। महिला के विरोधी पक्ष के चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

बकौल थानाध्यक्ष, जबकि महिला पक्ष के आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है। जिस समय महिला मारपीट का आरोप लगा रही है, उस समय वह वरीय अधिकारी के साथ दूसरे स्थान पर छापेमारी में लगे थे। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद उनकी महिला से भेंट नहीं हुई है।

अब सबाल उठता है कि एक विधवा महिला ने धर्मेंद्र कुमार सरीखे एक थानाध्यक्ष पर ऐसे आरोप क्यों लगाए। क्योंकि जहां तक एक्सपर्ट मीडिया न्यूज के पास जानकारी है, उस आलोक में निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि थानाध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार से इस तरह के ओछी हरकत की कल्पना नहीं की जा सकती।

जब हमारी एक्सपर्ट मीडिया न्यूज की टीम ने इस मामले की पड़ताल की तो बड़े रोचक तत्थ उभरकर सामने आए, जो वुनियादि सुविधाओं की कमी के बीच अपराध नियंत्रण में जुटे एक पुलिस अफसर को मानसिक प्रताड़ना देने की मंशा से अधिक से कुछ नहीं है।

मणीचक गांव निवासी स्व. अंगद पासवान की पत्नी रंजू देवी पक्ष का अपने गोतिया पक्ष से एक जमीन विवाद को लेकर झगड़ा हुआ। इस झगड़े में दोनों पक्षों के लोगों को चोटें आई। जिसमें महिला भी शामिल रही। दोनों पक्ष के लोगों ने थाने में शिकायत दर्ज करवाई।

इसके बाद थानाध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए महिला के विरोधी पक्ष के 4 लोगों को दबोच कर जेल भेज दिया। वहीं दूसरी तरफ वे महिला पक्ष के आरोपी की गिरफ्तारी के लिए भी छापामारी तेज कर दी।

बता दें कि महिला का देवर राजू पासवान एक अपराधिक छवि का व्यक्ति माना जाता है। उसपर आधा दर्जन से उपर गंभीर मामले पहले से ही दर्ज हैं। हाल ही में बहुचर्चित रायफल लूट कांड में भी वह आरोपी है, जिसमें पुलिस ने 4 राइफल बरामद करते हुए कई लोगों को जेल भेज चुकी है। जमीन विवाद को लेकर हुई आपसी मारपीट में भी राजू पासवान आरोपी है। जिसकी तलाश में पुलिस जुटी है।

वेशक अपने देवर को पुलिस से बचाने के लिए महिला एक थानेदार पर दबाव बनाने के लिए मनगढ़ंत आरोप लगा रही है। मीडिया ने इसे चोट के बाद अस्पताल में भर्ती का आरोप लगा तुल तो दे दी, लेकिन उसने मामले की पड़ताल करना उचित नहीं समझा या फिर उसके पिछे की शाजिश छुपाने की खेल में शामिल हो गया। जबकि महिला को चोटें जमीन विवाद के झगड़े में आई है।

जबकि, जिस महिला के आरोप को लेकर सुर्खियां बनाई गई। उसने कहीं भी कोई लिखित शिकायत नहीं की। न किसी वरीय पुलिस पदाधिकारी और न ही न्यायालय में? सीधे महिला मीडिया के सामने आरोप लगाती है!

Share Button

Relate Newss:

ST-MT की गला दबाकर हत्या करने जैसी है CNT-CPT में संशोधन: नीतीश
'महाभारत': नीतीश 'अर्जुन' और शरद बने 'कृष्ण'
जाहिल हैं रघुबर सरकार के शिक्षा मंत्री ?
मांझी ने बनाया हम, नीतिश को बताया दुश्मन नं.1
भाजपा विधायक झूठा है या विभागीय अभियंता?
एनएजे ने सीएम को लिखा पत्र- पत्रकार को तत्काल रिहा कर नालंदा डीईओ पर हो कड़ी कार्रवाई
जरा दैनिक भास्कर और रांची एक्सप्रेस की इस खबर पर गौर फरमाईये!
शिवराज सरकार ने 300 पत्रकारों के मुंह में डाला जमीन का टुकड़ा
सोशल मीडिया के सहारे तेजस्वी का भाजपा पर करारा हमला
मीडिया की विश्वसनीयता पर स्वाभाविक संकट
बिल्डर अनिल सिंह: हरि अनंत हरि कथा अनंता!
पुलिस फायरिंग में दो मधेसियों की मौत, 40 से अधिक घायल
नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार से कुछ सवाल
महिला नागा साधु की एक अदभुत तस्वीर यूं हो रही वायरल
नीतीश सरकार को SC की कड़ी फटकार, कल CS को हाजिर होने का आदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...