महिला एसपी ने यूं किये ‘खट्टर’ के स्वास्थ्य मंत्री के दांत खट्टे

Share Button

hariyana minister woman sp

हरियाणा के फतेहाबाद में हेल्थ मिनिस्टर अनिल विज और एसपी संगीता कालिया के बीच नशे की तस्करी पर रोक लगाने की बात पर जमकर बहस हुई। बहस इतनी बढ़ गई कि विज ने महिला एसपी से कहा ‘गेट आउट’. इस पर एसपी भी अपनी बात पर अड़ गईं।

उन्होंने कहा ‘मैं नहीं जाऊंगी. आई विल नॉट लीव.’ इस पर मंत्रीजी ही अपने अफसरों और समर्थकों के साथ बैठक छोड़कर चले गए।

दरअसल कष्ट निवारण समिति की बैठक के दौरान एक शिकायतकर्ता नशे पर रोक लगाने की शिकायत लेकर आया था।

इस शिकायत पर मंत्री अनिल विज ने एसपी संगीता कालिया से सवाल पूछा कि नशे पर रोक क्यों नहीं लगाई जा रही है ?  

इस पर महिला एसपी कालिया का जवाब था कि पुलिस कार्रवाई कर रही है। नशे तस्करी के कई मामले दर्ज किए गए हैं, लेकिन आरोपी जमानत पर बाहर आ जाते हैं और फिर से धंधा शुरू कर देते हैं।

इस बात पर महिला एसपी ने कहा, ‘एक दिन में रोकना संभव नहीं है सर, सरकार इन्हें लाइसेंस देती है। नेताओं का संरक्षण मिलता है। सरकार ही इसे रोक सकती है। हम इन लोगों को गोली तो नहीं मार सकते।’

महिला एसपी का यह जवाब सुनकर विज और भड़क गए. और उन्होने एसपी साहिबा को बोला गेट आउट। आप जाइए यहां से। लीव।

इस पर एसपी संगीता ने कहा कि मेरी कोई गलती नहीं है, तो मैं बैठक से नहीं जाऊंगी। नो आई विल नॉट लीव।

बौखलाए मंत्रीजी ही बीच में बैठक छोड़कर अपने समर्थको के साथ चले गए।

इसके साथ-साथ विज ने कहा कि जब तक इस एसपी का तबादला नहीं हो जाता वे फतेहाबाद में इस समिति की बैठक नहीं लेंगे। इस घटना का सारा हाल मुख्यमंत्री को बताया जाएगा।

देखें वीडियो….. 

Share Button

Relate Newss:

रिस्क नहीं चुनौती है ‘नो निगेटिव न्यूज’ की पहलः अमरकांत
हाईकोर्ट में लगी मनु की मूर्ति के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आन्दोलन का ऐलान
22 फरवरी को सीएम पद की शपथ लेगें नीतिश कुमार
कहीं दूसरा 'हूल’ न बन जाये पत्थलगड़ी ?
दैनिक जागरण के स्थानीय संवाददाता हैं होटल मालिक बब्लु सिंह
सेना की मनमानी से त्रस्त ग्रामीणों की सीएम से गुहार
..और अब यूं वेब न्यूज पोर्टल चलाएंगे वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष
मरांडी जी ने किया था 50 करोड़ रु. माफ
'यार की हार' का बदला यूं ले रहे हैं अंबानी-मोदी के नाथवानी!
भड़काऊ खबरें प्रसारित करने वाले सुदर्शन चैनल के मालिक सुरेश चह्वाणके के खिलाफ मुकदमा
कितना जरूरी है सोशल मीडिया पर अंकुश
प्रधानमंत्री जी के नाम एक दुखियारी भैंस का खुला ख़त
इन अफसरों की भ्रष्ट धूर्तता पर यूं झुंझलाए JMM MLA अमित महतो
पूर्व जजों की जांच के पक्ष में सीबीआइ
भूतों के मेला के नाम पर महिलाओं पर खुला अत्याचार, नीतिश सरकार मूकदर्शक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...