‘मलमास मेला सैरात भूमि को 3 सप्ताह के अंदर अतिक्रमण मुक्त कराएं राजगीर सीओ’

Share Button
नालंदा जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी संजीव कुमार सिन्हा (फाईल फोटो)

राजगीर (न्यूज डेस्क)। नालंदा जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी संजीव कुमार सिन्हा की प्राधिकार में राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर भू-माफियाओं द्वारा किये गये अतिक्रमण से जुड़े चर्चित मामले की आज अंतिम सुनवाई पुरी हो गई।

श्री सिन्हा ने अपने आदेश में राजगीर अंचलाधिकारी को आदेश दिया है कि राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि की को तीन सप्ताह के भीतर हर हाल में अतिक्रमण मुक्त कर वस्तुस्थिति से अवगत करायें। इस फैसले के साथ वाद को समाप्त कर दिया गया।

हालांकि आदेश के अनुसार तीन सप्ताह 6 जुलाई के बाद निर्धारित है क्योंकि राजगीर अंचलाधिकारी ने आज प्राधिकार को बताया कि उन्होनें मलमास मेला की सैरात भूमि के चिन्हित सभी अतिक्रमणकारियों को 6 जुलाई तक अतिक्रमण हटाने का अंतिम सूचना भे दी है।

इस पर वादी की सहमति से प्राधिकार पदाधिकारी संजीव कुमार सिन्हा ने यह आदेश पारित किया कि 3 सप्ताह की समया सीमा 6 जुलाई के बाद की कार्य दिवस मानी जाये।

नालंदा लोक शिकायत निवारण प्राधिकार कार्यालय से प्रसन्नचित बाहर निकलते वादी एवं आरटीआई एक्टीविस्ट पुरुषोतम प्रसाद

बता दें कि राजगीर के आरटीआई कार्यकर्ता समाजसेवी पुरुषोतम प्रसाद ने राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर भू-माफियाओं द्वारा किये गये अतिक्रमण को लेकर जिला अपीलीय प्राधिकारी में यह अनन्य वाद संख्या-999990124121637691/1A दर्ज कर रखा है।  इसकी अंतिम सुनवाई 17 जून,2017 को होनी तय थी लेकिन, किसी कारणवश सुनवाई नहीं हो पाई थी।

वादी की शिकायत थी कि जिला लोक शिकायत निवारण सह प्रथम अपीलीय प्राधिकारी द्वारा अपने अंतरिम आदेश में राजगीर अंचलाधिकारी के विरुद्ध शास्ति अधिरोपित तक का आदेश दे चुकी है। फिर भी अंचलाधिकारी मामले को लेकर गंभीर नहीं दिख रहे हैं।

नालंदा जिला लोक शिकायत निवारण प्राधिकार के अंतिम फैसले को लेकर काफी संतुष्ट नजर आ रहे वादी पुरुषोतम प्रसाद ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक फैसला है और न्याय की जीत है। जैसा कि उन्हें प्राधिकार पदाधिकारी संजीव कुमार सिन्हा सरीखे से उम्मीद थी।

Share Button

Relate Newss:

रघु’राज एक सचः सुशासन का दंभ और नकारा पुलिस तंत्र
पटना हाई कोर्ट में अब हिंदी में भी दायर होगीं याचिकाएं
टीवी एंकर तनु शर्मा मामले पर चुप क्यों है भारतीय मीडिया
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
बदल गई सोशल मीडिया, गूगल से फेसबुक तक जारी है बदलाव
पत्रकार को निर्भीकता से निष्पक्ष खबर लिखने की जरुरत
इंडियन एक्सप्रेस पर नया इंडिया का कॉलमनिस्ट हमला
राजगीर के कथित जर्नलिस्ट के होटल समेत कईयों को नोटिश, मामला मलमास मेला की जमीन पर अवैध कब्जा का
रघुवर सरकार में मंत्री बने शमरेश सिंह के बौराये 'बाउरी ' !
संयोग या दुर्योग ? सीपी सिंह पर पड़ ही गया मनोज कुमार का साया !
Why one man is unhappy about 290 kilos of Thai gold in bodh gaya
नालंदाः पूजा से पहले मिट्टी में दफन हो गई चार घरों की लक्ष्मी
मुखपत्र नहीं, मूर्खपत्र है संघ का ऑर्गेनाइजरः शिवसेना
रिपोर्टर नही, दलाल है प्रभात खबर का बहेरी रिपोर्टर !
कांग्रेस के ‘बुरे फ़ैसले’ अब बीजेपी के ‘कड़े फ़ैसले’!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...