मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ से यूं प्रमोट हो रहे भू-माफिया अतिक्रमणकारी

Share Button

सवाल उठता है कि राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से जुड़े इतने गंभीर मामले को लेकर शासन-प्रशासन के लोग वाकई इतने अज्ञान हैं या फिर वे किसी ‘अज्ञात’ दबाब में भू-माफियाओं-अतिक्रमणकारियों के आगे लाचार विवश।”

राजनामा न्यूज। बिहार के सीएम नीतिश कुमार के कर कमलों द्वारा उद्घाटित नालंदा जिला प्रशासन की राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ में उन होटलों को भी प्रमोट किया गया है, जो शासकीय तौर पर मलमास मेला सैरात भूमि की जमीन को अतिक्रमण कर बनाया गया है। उसमें एक होटल के मालिक समेत दोषी तीन सरकारी-कर्मी को खिलाफ स्थानीय थाना में एफआईआर भी दर्ज हो चुका है।

मोबाइल एप्प के लिस्ट ऑफ होटल्स इन राजगीर ऑपश्न में कुल 6 होटलों का जिक्र किया गया है। उसके दो होटल शासकीय सीमाकंण नापी में राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर अतिक्रमण कर बनाए जाने की पुष्टि हो चुकी है। वे होटल हैं- राजगीर गेस्ट हाउस और सिद्धार्थ होटल।

राजगीर गेस्ट हाउस का स्थान कॉलेज रोड, राजगीर कुंड और उसके सिंगल एसी रुम तथा डबल नन एसी रुम का किराया 1000 रुपया प्रतिदिन एवं संपर्क मोबाईल नंबर- 7781860495 बताया गया है।

वहीं, दूसरे सिद्धार्थ होटल का स्थान अपोजिट ओल्ड जापानीज मंदिर और उसके सिंगल एसी रुम का किराया-2450, डवल एसी रुम का किराया- 2900, नन एसी सिंगल रुम का किराया- 1250, नन एसी डबल रुम का किराया-1500 रुपये प्रति दिन एवं संपर्क मोबाईल नंबर-9304013642 बताया गया है।

बता दें कि आरटीआई एक्टीविस्ट पुरुषोतम प्रसाद द्वारा दायर लोक शिकायक निवारण अन्यन्न वाद की सुनवाई के बाद प्रथम अपीलीय प्राधिकार सह प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर ने जिला प्रशासन को दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के अंतिम आदेश दिये थे।

इस आदेश के आलोक में राजगीर के वर्तमान भूमि उप समाहर्ता प्रभात कुमार ने राजगीर गेस्ट हाउस के मालिक एवं उसके फर्जीबाड़ा के शासकीय सहयोगी तात्कालीन राजगीर अंचलाधिकारी, भूमि उप समाहर्ता और राजस्व कर्मचारी के खिलाफ स्थानीय थाना में कांड संख्या-85/2018 कर रखा है।

इस संबंध में जब एक्सपर्ट मीडिया न्यूज की ओर से राजगीर के वर्तमान एसडीओ संजय कुमार ने राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ में दी गई जानकारी की बाबत पूरी तरह से अनभिज्ञता प्रकट किया। वहीं मलमास मेला सैरात भूमि का अतिक्रमण कर बने राजगीर गेस्ट हाउस और उसके मालिक पर हुई हालिया एफआईआर पर नो कमेंट का लिबादा चढ़ा दिया।

उधर नालंदा जिला प्रशासन के आईटी सेल इन्चार्य आशीष कुमार ने बताया कि राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ में जो जानकारी दी गई है, वे राजगीर भूमि उप समाहर्ता और नगर प्रबंधक द्वारा उपलब्ध आकड़ों पर आधारित है। अगर कोई ऐसी आपत्तिजनक जानकारी है तो उसे जल्द ही संशोधित कर लिया जायेगा।

बहरहाल, एसडीओ को राजगीर मलमास मेला नामक ‘मोबाईल एप्प’ की जानकारी न होना और राजगीर गेस्ट हाउस से जुड़े मामले पर बारंबार नो कमेंट के जुमले से ढकना तथा दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने वाले भूमि समाहर्ता-नगर प्रबंधक द्वारा आपत्तिजनक विवादित सूचनाएं उपलब्ध कराने के आखिर क्या मायने हैं?

Share Button

Relate Newss:

पलामू के हुसैनाबाद में अब तक एचआइवी के 173 मरीज मिले
वसूली के आरोप में कथित राजगीर अनुमंडल पत्रकार संघ के अध्यक्ष की पिटाई!
जी न्यूज और न्यूज नेशन के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचे धोनी
मीडिया-दलाली का कच्चा चिठ्ठा है दैनिक भास्कर रिपोर्टर का यह वायरल ऑडियो
'बदलते समय में मीडिया की भूमिका' पर पत्रकारों की कार्यशाला
चुनाव हारने के बाद रोते हुए फर्श पर गिर पड़े थे केजरीवाल !
Delhi journo to become first to be arrested for Twitter trolling
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
गुमला में माफियाओं को मिला सोने का खजाना!
नालंदा से दो भ्रष्ट अफसर पकड़ पटना ले गये निगरानी वाले
पल्सर पल्सर पल्सर और पल्सर...
दीपक चौरसिया की राइट हैंड निधि कौशिक इंडिया न्यूज से हुई टर्मिनेट!
1857 की महागाथा को सेल्यूलाईड पर्दे पर उतारने में जुटे तनवीर
पत्रकार की पिटाई करने वाले पूर्व विधायक के खिलाफ जांच करायेगी भाजपा
रेलवे की जमीन से जारी पशुओं की अवैध खरीद-बिक्री पर प्रशासन की वैध मुहर !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...