मराठी समाचार पत्र लोकमत के दफ्तर पर मुस्लिमों का हमला, अखबार की प्रतियां जलाई 

Share Button

muslim_lokmat

मराठी समाचार पत्र लोकमत (Lokmat) पर एक अपमानजनक तस्‍वीर प्रकाशित करने का आरोप लगाते हुए मुसलमानों के एक दल ने उसके कार्यालय पर धावा बोल दिया और काफी हंगामा किया।

प्रदर्शनकारियों का कहना था कि अखबार ने इस तरह की तस्‍वीर प्रकाशित कर उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। महाराष्‍ट्र के विभिन्‍न शहरों में प्रदर्शनकारियों ने अखबार की प्रतियां भी जलाईं।

प्रदर्शनकारी अखबार के संपादक के साथ ही उस चित्र को बनाने वाले कलाकार की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे।

बताया जा रहा है कि अखबार के दो कार्यालयों पर हमला भी किया गया, इसके बाद अखबार के संपादक ने तत्‍काल माफी मांग ली है।

महाराष्‍ट्र और इसके विभिन्‍न शहरों में अखबार का बहिष्‍कार करने को लेकर सोशल मीडिया पर अभियान भी चलाया जा रहा है।

हालात को नियंत्रण में रखने के लिए पुलिस ने अखबार के संपादक और आर्टिकल के लेखक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

वहीं अखबार ने अगले संस्‍करण में पहले पेज पर माफीनामा प्रकाशित किया है। हालांकि अभी यह पता नहीं चला है कि इस माफीनामे के बाद प्रदर्शनकारियों ने अपनी एफआईआर वापस लेने का निर्णय लिया है अथवा नहीं।

दरअसल, मुस्लिमों का समूह अखबार के रविवार के संस्‍करण में प्रकाशित एक आर्टिकल को लेकर गुस्‍से में था।

इस आर्टिकल में बताया गया था कि कुख्‍यात आतंकी संगठन आईएसआई अपने कार्यों को अंजाम देने के लिए किस प्रकार धन एकत्रित कर रहा है।

इस आर्टिकल में विभिन्‍न देशों की मुद्रा भी छापी गई थी, ताकि यह बताया जा सके कि संगठन को अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर धन मिल रहा है।

आर्टिकल में इस करेंसी को पिगी बैंक में डालते हुए दिखाया गया था जिस पर आईएसआई के झंडे जैसा रंग हो रखा था। इसका रंग काला था और इसमें आतंकी ग्रुप की सील अरबी भाषा में दर्शाई गई थी।

मुस्लिम संगठनों का कहना था कि इस चित्र से उनकी भावनाएं आहत हुई हैं।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...