मन की बात के लिए भारत सबसे मुश्किल देश : करन जौहर

Share Button
Read Time:2 Minute, 24 Second

karan-johar

जयपुर में लिटरेचर फेस्टिवल की शुरुआत विवादों से हुई है। राइटर्स-सेलिब्रिटीज के बीच इन्टॉलरेंस का मुद्दा हावी हो रहा है। करन जौहर का कहना है कि फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन भारत में सबसे बड़ा जोक है और डेमोक्रेसी उससे भी बड़ा मजाक है।

जैसे हमेशा कोई लीगल नोटिस मेरा पीछा करता रहता है

‘अनसूटेबल ब्वॉय’ सेशन में शोभा डे से बातचीत के दौरान करन ने कहा, ”आप मन की बात कहना चाहते हैं या अपनी निजी जिंदगी के राज खोलना चाहते हैं तो भारत सबसे मुश्किल देश है।”

”मुझे तो लगता है जैसे हमेशा कोई लीगल नोटिस मेरा पीछा करता रहता है। किसी को पता नहीं कब उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज हो जाए।”

उन्‍होंने कहा, ’14 साल पहले मैंने नेशनल एंथम के अपमान का केस को झेला है। अपना पर्सनल ओपिनियन रखना और डेमोक्रेसी की बात करना, ये दोनों ही मजाक हैं। हम फ्रीडम ऑफ़ स्पीच की बात करते हैं, पर अगर मैं एक सेलिब्रिटी होने के नाते अपनी राय रख भी दूं तो एक बड़ी कॉन्ट्रोवर्सी बन जाती है।”

फेस्टिवल में उठा इन्टॉलरेंस का मुद्दा…

दरअसल, इन्टॉलरेंस के मुद्दे पर अवॉर्ड लौटाने वाले राइटर्स और अवॉर्ड वापसी का विरोध करने वाली हस्तियों को खास तौर पर जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में इनवाइट किया गया है।

इस फेस्टिवल में अशोक वाजपेयी, उदय प्रकाश और नंद भारद्वाज जैसे राइटर्स को बुलाया गया जो साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटा चुके हैं।

वहीं रस्किन बॉन्ड, शोभा डे और अनुपम खेर जैसी हस्तियों को भी बुलाया गया जो इन्टॉलरेंस पर लेकर चल रही बहस को बेकार बता चुके हैं। लिहाजा जेएलएफ में इन्टॉलरेंस का मुद्दा हावी होना तय माना जा रहा था।   

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

चुनाव आयोग की रडार पर आए राहुल , लालू और अमित
भस्मासुर बन गये रामकृपाल यादवः लालू प्रसाद
BBC Hindi: निष्पक्ष पत्रकारिता के 75 वर्ष !
" झारखण्डी नृत्य की विविधता , उराँव जनजाति की महत्ता के साथ "
मदर डेयरी के दूध में डिटरजेंट और जमी हुई चर्बी !
नहीं रहीं वरिष्ठ पत्रकार रजत गुप्ता की अर्द्धांग्नि रविन्द्र कौर
हर डाल पर रघुवर बैठा है, अंजामे झारखण्ड क्या होगा...
रघुवर सरकार से बिल्कुल मायूस  हूं, अफसरों की चल रही मनमानी
पत्रकारिता नहीं, राजनीति रही हरिवंश जी के रग-रग में !
न्यूज वेब साइट पोर्टल को फर्जी कहने वाले की करें शिकायत, वे सीधे नपेगें
सीएम रघुवर दास ने धनबाद के पत्रकार की विधवा को 5 लाख दिया
गोड्डा के पत्रकार नागमणि को मारपीट कर किया गंभीर रुप से घायल
आलोक कुमार बनाये गये Etv बिहार के ब्यूरो हेड
वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र ने अपनी पोस्ट के आलोचको को यूं दिया करारा जवाब
न्यूज चैनलों के लिए वीडियो रिपोर्टिंग के कारगर नुस्ख़े
दखल-दिहानी के विरोध में सड़क पर उतरे हजारों लोग, राजभवन के समक्ष दिया महाधरना
किसान चैनल की काउंटडाउन शुरु, 26 को मोदी करेगें लांच !
सीएम रघुबर और मंत्री सरयू के झंझट में पिट गए जमशेदपुर के पत्रकार !
गद्दार हैं ‘70 वर्षों में देश में कुछ नहीं हुआ’ कहने वाले
वसूली के आरोप में कथित राजगीर अनुमंडल पत्रकार संघ के अध्यक्ष की पिटाई!
बीडीओ को निशाना बनाकर विधायक ने करा ली अपनी किरकिरी
कंप्यूटर क्रांति वनाम कैशलेस इकोनॉमी की बेहतरी
प्रशासन से अधिक चुनौतीपूर्ण है मीडिया की भूमिकाः डीएम योगेन्द्र सिंह
गुजरात के 'प्रेस वाहन' से नालंदा में शराब की यूं तस्करी होना गंभीर बात
मद्रास हाई कोर्ट के जज ने कहा- मुझे भारत में पैदा होने पर आती है शर्म !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...