मनगढ़ंत है रिपोर्टरों की वसूली और पिटाई की घटना

Share Button

reporter

दरभंगा जिले के बहेरी प्रखंड के कटराही प्राथमिक विधालय की प्राध्यापिका को सरकार के दिशा निर्देशों का कोई फर्क नही पड़ता।

वह अपने समय के अनुसार विधालय खोलती और बंद करती हैं। कभी कभी पूरे दिन विधालय बंद ही रहता है। मध्याहन भोजन भी यदा कदा ही चलता है।

हमारी टीम को सूचना मिली तो हमारी टीम एक दिन ढाई बजे विधालय पहुँची तो विधालय बंद पाया गया।

अगले दिन वहाँ से 9:45 बजे किसी ने सूचना दी कि विधालय अभी तक बंद है। हमारी टीम 10:10 मे विधालय पहुंची तो विधालय बंद था तथा कोई शिक्षक मौजूद नही थे।

बच्चे वहाँ खड़े थे और ग्रामीणों ने बताया के प्रधानाध्यापिका स्थानीय एव दबंग परिवार की बहू हैं, अतः कोई कुछ नही बोलता और जैसे मन वैसे स्कूल चलाती हैं।

जब हमारे साथी ने प्रधानाध्यापिका को फोन किया तो उनके पति ने उठाया और बताया कि वह स्कूल गयी हैं।

फिर 10:20 मे आती हुए दिखायी दी। हमारे पत्रकार ने कैमरे के सामने पूछा तो उन्होंने स्वीकार किया कि काम ज्यादा रहता है, इसलिये लेट हो जाता है। अन्य शिक्षकों के बारे मे पुछने पर उन्होंने कहा के बाकी सब घर पर ही हैं और वह आ गयी हैं। ये बातें कैमरे के सामने हुई।

इसके बाद कार्यालय में हम बैठे और एक ग्लास पानी माँगा। इतने में प्रधानाध्यापिका के पति 2 लोगो के साथ आये और खुद का परिचय ग्रामीण होने का दिया। उन्होंने यह नही बताया कि वह प्राधानाध्यापिका के पति है।

फिर हमारा पत्रकार के रूप मे परिचय जानते ही वे उग्र हो गए और बाहर निकलने को कहा। इस पर हमने उनसे कहा के स्कूल बंद रहने के कारण का जवाब मैडम से कैमरे के सामने ले कर चले जायेंगे।

पर पता नही क्यूँ वो उग्र हो गए और अभद्र भाषा एवं आक्रमक तेवर अपना लिए एवं हमारे एक साथी से उलझ गए एचएम के पति। बाकि किसी ने कोई हस्तक्षेप नही किया।

फिर हमने ग्रामीणों से मुखिया के बारे पूछा तो मुखिया पति एवं कुछ गणमान्य व्यक्ति आए। उन्होंने मध्यस्ता करते हुए ग्रामीण स्तर से मामले को देखने लेने की बात कही।

फिर हमे कुछ ही देर बाद डीपीआरओ से किसी पत्रकार का फोन गया कि खबर आया है कि पत्रकारों को मारा-पीटा गया है एवं बंधक बनाया गया है। 

सुनिये इस मामले को लेकर एक पत्रकार द्वारा रिकार्ड की गई ऑडियोः ….. सुनने के लिये  यहां क्लिक करे 

यह भी पढ़े  सुलभ इंटरनेशल ने मिथिला पत्रकार समूह को दिया दस लाख का अनुदान

……..दरभंगा से अभिषेक कुमार की रिपोर्ट व ऑडियो

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...