भाजपा के आईटी विंग का फर्जी फेसबुक आईडी से बदनाम करने का प्रयास !

Share Button
Read Time:2 Minute, 46 Second

tp singh1भाजपा के आईटी विंग ने एक फ़र्ज़ी फेसबुक आई डी बनाया कांग्रेस नेता सौरभ नारायण के नाम पर।  उसमें सौरभ नारायण का फोटो भी चोरी कर लगाया और इस फ़र्ज़ी आई डी से मुझ जैसे (टी पी सिंह) पत्रकार की छवि को धूमिल करने का कुत्सित प्रयास किया गया।

हलाकिं मुझे जाननेवाले लोग अच्छी तरह से जानते है की मै क्या हु ,उन बातो का असर उन्ही पर हो सकता है जो मुझे नहीं जानते। अब इस प्रयास को क्या समझा जाये ? किसके इशारे पर हुवा यह सब।

उस पोस्ट में मुझे ब्लैकमेलर कहा गया। बहुत सारी ज़मीनों का मालिक बताया गया। मनीष रंजन का पछ लिया गया।

मैं यह सब जानता था ,क्युकिं जबसे मैंने ज़मीन माफिया ,पत्थर माफिया ,कोयला माफिया के खिलाफ आंदोलन छेड़ रखा है, मुझे पहले खरीदने प्रयास किया गया।

कई ऑफर आये जब मेरा कदम नहीं डगमगाया तो मुझे डराने की कोशिश की गयी। गुंडा मावली और नक्सली भी फोन पर धमकाने का प्रयास किया। उससे भी काम नहीं बना तो शोसल मीडिया के ज़रिये बदनाम करने की कोशिश की गयी।

हालांकि मैंने इसके आई पी अड्रेस की जांच करवाई तो पता चला कि भाजपा का जो काम आई टी का देखते हैं, यह सब उन्हीं की कारस्तानी है।

लेकिन जैसे ही उन्हें यह बात पता चला उनने एकाउंट डिलीट कर दिया। यानी काम भाजपा का नाम कांग्रेस का। ….कैसा खेल है यह ?

और इससे यह भी पता चला कि कैसे भाजपा के लोग इन माफियाओं से नज़दीकी रिश्ता रखते हैं। इनको बचाने के लिए किस स्तर का प्रयास करते है। एक तो उनके खिलाफ एक लफ्ज़ भी नहीं बोलते है दूसरे उनका बचाव भी करते है।

खैर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है क्यूकिं मेरा दामन कोई सफ़ेद चादर नहीं, जो कोई मैला दे। इसमें कही कोई गुंजाइश नहीं।

इससे पहले भी विद्यार्थी परिषद के एक कारिंदे ने मेरे भाई, जो एक दैनिक के पत्रकार है उनकी छवि धूमिल करने प्रयास किया गया था। इससे ज़ाहिर होता है कि इनकी मनसा क्या है ?

……..हजारीबाग के   पत्रकार टीपी सिंह अपने फेसबुक वाल पर।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

अर्जुन मुंडा झूठे हैं या दर्जनों फेसबुक प्रोफाइल-पेज ?
लोकप्रियता में फेसबुक से आगे निकला व्हाट्सएप्प
आखिर रघुवर दास महेन्द्र सिंह धौनी से इतने चिढ़ते क्यों है?
भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल पर बिहार के सीएम की कविता
विनायक विजेता का ‘तरुणमित्र’ के संपादक पद से इस्तीफा, बोले ब्लैकमेलर नहीं बन सकते
संदर्भ झारखंडः एक राजा था...
यहां सीबीआई के पूर्व निदेशक को मिलते हैं ऊंचे ओहदे
...तो इसलिये तनाव और मानसिक पीड़ा में थे कशिश के रिपोर्टर संतोष सिंह
लो,पेड विज़ुअल का आ गया ज़माना
एक यौन शोषण का सच और त्रिया-चरित्र !
उद्घाटन हो चुका है, डिमांड भी बढ़ रही है, उत्पादन में जुट गये हैं कारोबारी !
ब्रजवासी महिलाओं तक नहीं पहुंची है परिवर्तन की किरण
चुप्पी तोड़िये प्रधानमंत्री जी !
नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार से कुछ सवाल
सोशल मीडिया में कही जाने वाली ये आपत्तिजनक बातें है अपराध
फिल्म 'पीके' का विरोध करने वाले घटिया लोग
बिग बी ने सिंगापुर की जिद्दू डॉट कॉम में किया 7.1 करोड़ का निवेश !
महंगी पड़ेगी पीएम के यार से रंगदारी
'इस महापाप में न्यायपालिका, विधायिका, कार्यपालिका, मीडिया,एनजीओ सब शरीक'
नही तो मीडिया को खारिज कर देगी जनता !
जरुरत है Brand Bihar को बेहद सशक्त करने की
सेना कैंटीन का स्वलाभ लेते यूं कैद हुये ईटीवी (न्यूज 18) के एक वरिष्ठ पत्रकार
समाज के लिए खतरा है ऐसे वेबसाइट-पत्रकार
इंडियन मुजाहिदीन का है दैनिक ‘प्रभात खबर’ से कनेक्शन !
.....तो भारत के लोग सिर्फ उड़ ही रहे होते !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...