भाजपा का चुनावी झंडा ढो रहा है झारखंड सरकार का लापता सचिव

Share Button

रांची (प्रमुख संवाददाता)। पिछले चार महीनों से झारखंड के सीएम रघुवर दास का सलाहकार रजत सेठी राजधानी रांची से गायब है। किसी ने सेठी का चेहरा तक नहीं देखा है। यहां तक कि सरकार के मंत्री भी इस पर अनभिज्ञता प्रकट करते हैं। मीडिया में भी इसकी कोई चर्चा नहीं है।

कहते हैं कि सेठी इन दिनों हो रहे विधानसभा चुनावों में भाजपा के पक्ष में हवा बनाने में लगे हुए हैं। उन्हें खास कर उत्तर प्रदेश और मणिपुर विधानसभा चुनाव में सोशल मीडिया के जरिये भाजपा की छवि बेहतर करने में लगया गया है। इनके फीडबैक के आधार पर वरिष्ठ नेता आगे काम करते हैं।

रजत सेठी भाजपा नेतृत्व के काफी विश्वस्त माने जाते हैं। वे राष्ट्रीय महासचिव राम माधव के भी करीबी हैं। साल 2015 में उन्हें पहली बार असम विधानसभा चुनाव में लगाया गया था, जिसमें वे सफल रहे थे।

रजत सेठी को 2016 में मुख्यमंत्री रघुवर दास का सलाहकार नियुक्त किया गया। राज्य सरकार उन्हें सचिव स्तर का वेतन एवं अन्य सुविधाएं दे रही है।

उन्होंने रघुवर दास सरकार के कामकाज को आम आदमी तक पहुंचाने के लिए भी रणनीति तैयार की है। सोशल मीडिया के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल की उनकी अनुशंसा को धरातल पर उतारने के लिए कैबिनेट ने सूचना जन संपर्क विभाग में नए पदों का सृजन किया है। लेकिन वे कभी किसी खास मौके पर कभी राजधानी रांची में भी नहीं देखे गये।

उल्लेखनीय है कि रजत सेठी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के कानपुर के रहने वाले हैं। वे आइआइटी खडग़पुर से स्नातक हैं। उन्होंने अमेरिका के एमआइटी और हावर्ड कैनेडी विश्वविद्यालय में भी पढ़ाई की है। वे पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा की सफलता के बाद प्रशांत किशोर के साथ चर्चा  में आये थे। हालांकि, बिहार चुनाव के वक्त प्रशांत किशोर ने भाजपा से  रिश्ता तोड़ लिया। इसके बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा के करीब होने के कारण उन्होंने 2015 में भाजपा के लिए काम करना शुरू कर दिया।

Share Button

Relate Newss:

मामला डीएमसीएच दरभंगा काः अंधे क्यों बने हैं पुलिस वाले ?
विनय हत्याकांड में आया नया मोड़, शक के घेरे में अब लेडी टीचर !
चक्रधरपुर पवन चौक पर पत्रकार पवन शर्मा की मूर्ति का अनावरण
पत्रकार नहीं, प्रखंड कांग्रेस अध्यक्ष है पंकज मिश्रा,पत्रकारिता नहीं है गोली मारने की वजह
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
दैनिक जागरण के इस इंटरनल मेल ने खोली मीडिया की यूं कलई
विवाद ‘धर्मनिरपेक्ष’ और ‘समाजवाद’ रहित संविधान के विज्ञापन का
लखन सिंह के बहाने राज्यपाल सलाहकार को चुनौती देने वाला कौन है भाजपा नेता ?
अम्मा के निधन के बाद चाय बेचने वाले पनीरसेल्वम बने तमिलनाडु सीएम
अध्यक्ष अमित शाह के नसीहत पर भाजपा की झाड़ू
बदलाव की आंधी में उड़े या खुद को नहीं आंक पाये सुदेश ?
1857 की महागाथा को सेल्यूलाईड पर्दे पर उतारने में जुटे तनवीर
भाजपा शासित राज्‍यों में दालों की जमकर जमाखोरी
जेल में ऐश कर रहे महापापी ब्रजेश ठाकुर की बड़ी ‘मछली’ है ‘रेड लाइट एरिया’ की उपज मधु
स्वंय प्रकाश सरीखे चरणपोछु संपादक हो सकते हैं, पत्रकार नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...