भला-चंगा आदमी अस्पताल में भर्ती होकर खबर छपवा लिया !

Share Button

prabhat khabar 20 mayसंवाददाता
रांची।
आज कल मीडिया में दूसरों से अलग दिखने की होड़ में खबरों को गढ़ा जा रहा है। छोटे और मध्यम स्तर के अखबार तो इससे बचते हैं लेकिन बड़े स्तर के अखबार यह गोरखधंधा सरेआम करते हैं।

झारखंड की राजधानी रांची से अखबार नहीं आंदोलन की टैगलाइन के साथ प्रकाशित एक  अखबार की बात तो और भी निराली है। इसके रिपोर्टर स्वस्थ्य व्यक्ति को भी फोटो तकनीक से खुद मार-मुरा कर अस्पताल में भर्ती करा डालता है। यदि विश्वास न हो तो  अखबार के 20 मई,2016 प्रकाशित अंक के रांची और आसपास की खबर को देखिए।

prabhat khabar news scandle1इस बात के साफ प्रमाण मिले हैं कि जिस रिपोर्टर ने यह खबर प्रकाशित करवाई उसने एक घायल के साथ मेदांता जैसे अस्पताल में एक और घायल यानि दो घायल की तस्वीर प्रकाशित करवा दी है। जाहिर है कि सिर्फ इसलिए कि उसकी खबर अन्य अखबारों में प्रकाशित खबरों से आगे नजर आए।

यदि विश्वास न हो तो घटना में गंभीर घायल की स्थिति जानने वाले करीबियों में उसकी तस्वीर देखिए। काफी भला-चंगा नजर आ रहा है। अन्य अखबारों के रिपोर्टरों ने यह तस्वीर ली है। अखबार में  जिसे घायल बता अस्पताल में भर्ती बताया गया है, वह भला-चंगा नजर आ रहा है।

 

Share Button

Relate Newss:

दैनिक हिन्दुस्तान के भी कथित अवैध मुगेर संस्करण के जांच का आदेश
चक्रधरपुर पवन चौक पर पत्रकार पवन शर्मा की मूर्ति का अनावरण
मांझी ने बनाया हम, नीतिश को बताया दुश्मन नं.1
IAS एसोसिएशन के खिलाफ पटना हाई कोर्ट में जनहित याचिका
जमशेदपुर प्रेस क्लब दो फाड़, पत्रकारों के बीच अस्तित्व की जंग शुरु
सुशासन बाबू के नालंदा में अराजकता, सिर्फ मीडिया में दिखता है सुशासन !
खरसांवा में सीएम रघुबर दास पर आदिवासियों का बड़ा विरोध, फेंके जूत्ते-चप्पल
अगर डॉक्टरी न करके गुलामी कबूल कर ली होती तो उसके दुधमुहें बच्चे राख न होते
...और इस कारण सोशल मीडिया पर क्रिकेट स्टार धोनी की हो रही थू-थू
'ईटीवी' की रिलाचिंग की तैयारी, 'ईटीवी भारत' होगा सेटेलाइट चैनल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...