बूथ कैप्चर की तस्वीरें ले रहे टाइम्स नाउ के रिपोर्टर को जदयू वालों ने पीटा, EC ने DM-SP को दिए FIR के आदेश

Share Button

“चुनाव आयोग ने लखीसराय के डीएम-एसपी को इस मामले में एफआईआर दर्ज करने का आदेश जारी किया है। मुंगेर लोकसभा क्षेत्र में जदयू के उम्मीदवार ललन सिंह हैं…..”

राजनामा.कॉम। बिहार के मुंगेर लोकसभा क्षेत्र में जबरन बूथ कैप्चरिंग और एक पत्रकार को पीटने का मामला सामने आया है।

अंग्रेजी चैनल टाइम्स नाउ के पत्रकार जबरन बूथ कैप्चर कर रहे कुछ लोगों की तस्वीर ले रहे थे। इससे नाराज़ जदयू समर्थकों ने पत्रकार को पीट दिया।

दरअसल, लखीसराय जिले के हलसी थाना क्षेत्र अंतर्गत घोंघसा गांव में कुछ लोग वहां जबरदस्ती पोलिंग करा रहे थे। यह बूथ संख्या 333, 334, 339, 340 पर हो रही थी।

वहां कवरेज करने से मना किया गया। जब रिपोर्टर श्याम सुंदर सहगल ने तस्वीरें कैप्चर करना जारी रखा, इससे गुस्से में जदयू समर्थकों ने जमकर मारपीट की।रिपोर्टर का शर्ट फट गया और कान से ब्लड निकलने लगा।

बता दें कि मुंगेर के सूर्यगढ़ा स्थित बूथ नंबर 222, 223 पर पुलिस-पब्लिक के बीच पथराव हुआ था। इसके अलावा मुंगेर के लखीसराय स्थित पिपरिया के बूथ संख्या 6,7,8 पर अधिकारियों से नाराज मतदाता हंगामा पर उतर आए।

Share Button

Relate Newss:

कशिश चैनल की कसाईगिरी चालू आहे
न्यूज पोर्टलो में निष्पक्षता का अभाव
कुशासन की कीमत बसूल रहे हैं बिहार के अखबार
जेजेए का वार्षिक अधिवेशन में पत्रकार सुरक्षा कानून पर बनी रणनीति
रांची प्रेस क्लब में शादी का आयोजन कमिटी का फैसला  : सचिव
रांची कॉलेज को डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी यूनिवर्सिटी बनाने गवर्नर की सहमति
तबादले पर बवाल है-उठते कई सवाल हैं
मोहर्रम जुलूस में बुर्का पहन महिला से छेड़छाड़ करते धराया VHP नेता !
जमशेदपुर प्रेस क्लब दो फाड़, पत्रकारों के बीच अस्तित्व की जंग शुरु
अपने कुत्ते को एडिटर बुलाते थे विनोद मेहता !
नोटबंदी से जन्मा देश में अपूर्व भ्रष्टाचार
टीवी जर्नलिस्ट सुनील कुमार नाग का ब्रेन हैमरेज से निधन
तेजस्वी यादव ने फेसबुक के जरिये दी सुशील मोदी को चुनौती
हिन्दुस्तान की कुराह चला भास्कर, नालंदा एसपी के हवाले से छाप दिया ऐसी मनगढ़ंत खबर
बिहार में है प्रशासनिक खौफ का राज, सीएम तक होती है अनसुनी

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...