बिहार विधानसभा चुनाव की मंझधार में जी पुरवईया !

Share Button

बिहार में विधान सभा के चुनाव की तारीख की घोषणा के बाद जी पुरवैया की नाव बीच मंझधार में हिचकोले लेने लगी है। वजह चुनावी मौसम है। अपनी अपनी जेबे भरनी है।

Z purwaiyaअंदरुनी खबर यह है कि जी पुरवैया अंदरखाने में में दो खेमों में बटा हुआ है। एक खेमा का नेतृत्व चैनल हेड शिवपूजन झा कर रहे है तो दूसरे खेमा का नेतृत्व ज़ी न्यूज़ नेशनल के ब्यूरो चीफ ब्रजेश मिश्रा कर रहे है। दोनों खेमा एक दूसरे को नीचे दिखाने और एक दूसरे की टांग खीचने में लगे हुए है।

खेमा बटना लाजिमी है। विधानसभा का चुनाव …चुनाव हर पांच साल में आता है। जाहिर सी बात है पैसा दोनों को कमाना है कोई मौका क्यों गवाए?  कोई बात नहीं चुनावी त्यौहार के मौसम में दोनों खेमा चुनावी विज्ञापन के बहाने अपने अपने सूत्रों की मदद से अपने अपने जेबे गर्म करने में जुटे है जी मीडिया की साख को दाव पर रख कर।

इन दोनो खेमो के खींचतान का खामियाजा जी मीडिया को उठाना पड़ा अभी हाल में सभी नेशनल चैनल ने पटना में विधानसभा चुनाव पर कॉन्क्लेव का आयोजन किया जिसमें बिहार के सभी दिग्गज सभी चैनल में आये लेकिन, जी मीडिया ने भी कॉन्क्लेव की तैयारी कर रखी थी लेकिन, बिहार के राजनीती के टी आर पी मटेरियल नितीश कुमार और लालू यादव ने ज़ी मीडिया को इसके लिए समय नहीं दिया और आखिरकार जी मीडिया को कार्यक्रम रद्द करना पड़ा जो अपने काफी चौकाने वाली बात है।

जी मीडिया के कोहिनूर और जी पुरवैया के चैनल हेड शिवपूजन झा और जी न्यूज़ पटना में लम्बे समय से काम कर रहे ब्रजेश मिश्रा जैसे दिग्गज पत्रकार दोनों नेताओं को अपने चैनल में नहीं ला पाये जो काफी शर्मनाक है चाहे मामला जो भी हो।

जी न्यूज़ नेशनल का झुकाव तो एक खास पार्टी की तरफ है जगजाहिर है। लेकिन वही जी पुरवैया का झुकाव एक ख़ास पार्टी की तरफ ज्यादा है, जो आपसी खीचतान की वजह से और दोनों खेमो में एक दूसरे को शह मात की वजह से जी मीडिया का रीजनल चैनल जी पुरवैया बिहार और झारखण्ड में अपनी पहचान और साख नहीं बना पाया।

जिसका उदहारण झारखण्ड चुनाव के समय जेएमएम से बहुत बड़ा विज्ञापन का पैसा आया था।

अभी पिछले महीने शिवपूजन झा रांची गए थे हेमंत सोरेन से चुनावी विज्ञापन के बकाये पैसे की उगाही करने। वे रांची के फाइव स्टार होटल में ठहरे और हेमंत सोरेन से मिलने के लिए समय माँगा लेकिन, हेमंत सोरेन ने आइना दिखा दिया।

शिवपूजन झा बैरंग रांची से पटना लौटे और अब बिहार विधान सभा चुनाव में दो क्षेत्रीय चैनल (ई टी वी और कशिश न्यूज़ ) के मुकाबले चुनावी विज्ञापन लाने में पसीने छूट रहे है। चैनल दो खेमो में बटे रहने के कारन अभी तक अपना टारगेट सालाना रेवेन्यू भी पूरा नहीं कर पाया है। अब देखना है बिहार के विधान सभा चुनाव में क्या गुला खिलाता है जी पुरवैया। (साभारः मीडया दरबार)

Share Button

Relate Newss:

दैनिक हिन्दुस्तान विज्ञापन फर्जीवाड़ा में लालू लालू की दिलचस्पी !
नहीं भुलाए जा सकते महापुरुष कलाम के ये 10 अनमोल बचन
यूं 'लेफ्ट' होना समस्या का हल नहीं है नालंदा के डीएम साहेब
सीबीआई और दिल्ली पुलिस ने छोटा राजन को लेकर बनाया मीडिया वालों को बेवकूफ
खो गए राजनीतिक ख़बरों के महारथी दीपक चौरसिया?
झारखण्ड जनसम्पर्क निदेशालय में पहली बार यौन उत्पीड़न आंतरिक शिकायत समिति का गठन
भला-चंगा आदमी अस्पताल में भर्ती होकर खबर छपवा लिया !
मुश्किल में रघुबर, दुर्गा उरांव ने दायर की जनहित याचिका
सावधान ! नई दिल्ली से हर तरफ फैला है पत्रकार बनाने का यह गोरखधंधा
मीडियाई चुप्पी के इस षड्यंत्र को तोड़ने की चुनौती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...