बिहार विधानसभा चुनाव की मंझधार में जी पुरवईया !

Share Button
Read Time:4 Minute, 13 Second

बिहार में विधान सभा के चुनाव की तारीख की घोषणा के बाद जी पुरवैया की नाव बीच मंझधार में हिचकोले लेने लगी है। वजह चुनावी मौसम है। अपनी अपनी जेबे भरनी है।

Z purwaiyaअंदरुनी खबर यह है कि जी पुरवैया अंदरखाने में में दो खेमों में बटा हुआ है। एक खेमा का नेतृत्व चैनल हेड शिवपूजन झा कर रहे है तो दूसरे खेमा का नेतृत्व ज़ी न्यूज़ नेशनल के ब्यूरो चीफ ब्रजेश मिश्रा कर रहे है। दोनों खेमा एक दूसरे को नीचे दिखाने और एक दूसरे की टांग खीचने में लगे हुए है।

खेमा बटना लाजिमी है। विधानसभा का चुनाव …चुनाव हर पांच साल में आता है। जाहिर सी बात है पैसा दोनों को कमाना है कोई मौका क्यों गवाए?  कोई बात नहीं चुनावी त्यौहार के मौसम में दोनों खेमा चुनावी विज्ञापन के बहाने अपने अपने सूत्रों की मदद से अपने अपने जेबे गर्म करने में जुटे है जी मीडिया की साख को दाव पर रख कर।

इन दोनो खेमो के खींचतान का खामियाजा जी मीडिया को उठाना पड़ा अभी हाल में सभी नेशनल चैनल ने पटना में विधानसभा चुनाव पर कॉन्क्लेव का आयोजन किया जिसमें बिहार के सभी दिग्गज सभी चैनल में आये लेकिन, जी मीडिया ने भी कॉन्क्लेव की तैयारी कर रखी थी लेकिन, बिहार के राजनीती के टी आर पी मटेरियल नितीश कुमार और लालू यादव ने ज़ी मीडिया को इसके लिए समय नहीं दिया और आखिरकार जी मीडिया को कार्यक्रम रद्द करना पड़ा जो अपने काफी चौकाने वाली बात है।

जी मीडिया के कोहिनूर और जी पुरवैया के चैनल हेड शिवपूजन झा और जी न्यूज़ पटना में लम्बे समय से काम कर रहे ब्रजेश मिश्रा जैसे दिग्गज पत्रकार दोनों नेताओं को अपने चैनल में नहीं ला पाये जो काफी शर्मनाक है चाहे मामला जो भी हो।

जी न्यूज़ नेशनल का झुकाव तो एक खास पार्टी की तरफ है जगजाहिर है। लेकिन वही जी पुरवैया का झुकाव एक ख़ास पार्टी की तरफ ज्यादा है, जो आपसी खीचतान की वजह से और दोनों खेमो में एक दूसरे को शह मात की वजह से जी मीडिया का रीजनल चैनल जी पुरवैया बिहार और झारखण्ड में अपनी पहचान और साख नहीं बना पाया।

जिसका उदहारण झारखण्ड चुनाव के समय जेएमएम से बहुत बड़ा विज्ञापन का पैसा आया था।

अभी पिछले महीने शिवपूजन झा रांची गए थे हेमंत सोरेन से चुनावी विज्ञापन के बकाये पैसे की उगाही करने। वे रांची के फाइव स्टार होटल में ठहरे और हेमंत सोरेन से मिलने के लिए समय माँगा लेकिन, हेमंत सोरेन ने आइना दिखा दिया।

शिवपूजन झा बैरंग रांची से पटना लौटे और अब बिहार विधान सभा चुनाव में दो क्षेत्रीय चैनल (ई टी वी और कशिश न्यूज़ ) के मुकाबले चुनावी विज्ञापन लाने में पसीने छूट रहे है। चैनल दो खेमो में बटे रहने के कारन अभी तक अपना टारगेट सालाना रेवेन्यू भी पूरा नहीं कर पाया है। अब देखना है बिहार के विधान सभा चुनाव में क्या गुला खिलाता है जी पुरवैया। (साभारः मीडया दरबार)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

विलुप्त होती प्रजाति के पत्रकार थे विनोद मेहता !
नीतीश-लालू का खूंटा उखाड़ने के फेर में दांव लगे मोदी
नागालैंड में बेगुनाह फरीद की हत्या के पीछे का षड्यंत्र !
प्रभात खबर के आरा ब्यूरो चीफ के तबादले पर सुप्रीम कोर्ट की रोक
फेसबुक फ्रेंड्स फ्री में तुरंत भेजें पैसे !
15 हजार लेकर थानाध्यक्ष ने कराई नाबालिग छात्रा की शादी, कतिपय पत्रकार देख ले VEDIO
ताला मरांडी को लेकर पार्टी-संघ गंभीर, मुन्ना मरांडी हुआ भूमिगत !
16 टन का भार दांतो से खींचने वाले राजेन्द्र ने दी खुली चुनौती
बिहारी बाबू ने अब पीएम मोदी के डीएनए पर साधा निशाना
यूं उठा हर राज़ से पर्दा, लेकिन फैसला सुरक्षित, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि का
तस्वीरे झूठ नहीं बोलती मंत्री जी, पप्पु यादव को 10 करोड़ का ऑफर!
800 अखबारों को अब नहीं मिलेंगे सरकारी विज्ञापन, 270 पर FIR दर्ज
नई दिल्ली डीएवीपी और पटना सूचना जनसम्पर्क विभाग के अफसर अरेस्ट होंगे!
प्रतिमा विसर्जन के दौरान बवाल,एसडीओ-एसडीपीओ की गाड़ी फूंके
मंत्री की टिप्पणी पर हाय तौबा मचाने वाले, इस आंचलिक पत्रकार की सुध कौन लेगा?
बांका डीएम ने हिन्दुस्तान रिपोर्टर के दफ्तरों में प्रवेश पर लगाई रोक !
राजगीर के इस खबर की पड़ताल ने मीडया समेत पूरी सिस्टम को यूं नंगा कर दिया
वाह री मीडिया! खुद की खबर को न छापा और न दिखाया !
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से अतिक्रमण हटाने में भेदभाव, आत्मदाह करेगें महादलित
NDTV इंडिया के प्रसारण पर 24 घंटे की सरकारी रोक !
न्यूज़ रूम में अब पीएमओ से फोन पर निर्देश आते हैं : पुण्य प्रसून वाजपेयी
सावधान! जमशेदपुर-सरायकेला के ग्रामीण ईलाकों में ‘केसरी गैंग’ ने मचा रखा है यूं कोहराम
10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक
टोल गेट पुंदाग (ओरमांझी) का तमाशा: ठेकेदार का है रोना, यहां होता है भारी नुकसान
रांची के सन्मार्ग को फिर नए संपादक की तलाश !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...