बिहार में जारी है ‘सृजन’ से भी बड़ा विज्ञापन घोटाला

Share Button
Read Time:1 Minute, 43 Second

कार्यक्रम बीत जाने के बाद छपाए जाते रहें हैं सरकारी विज्ञापन

घोटालों का राज्य बिहार में अगर प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया को मिलने वाले सरकारी विज्ञापनों और उसके भूगतान की जांच की जाए तो यह बहुचर्चित भागलपुर के सृजन घोटाले से भी एक बड़ा घोटाला साबित होगा।

इसका एक बड़ा उदाहरण बीते 14 अक्टूबर को पटना से प्रकाशित एक हिन्दी दैनिक में कृषि विभाग का एक बड़ा विज्ञापन है।

13 अक्टूबर को ‘रबी अभियान सह महोत्सव’ में कृषि रथों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा हरी झंडी दिखाकर विदा करने से संबंधित है।

नियमानुकूल इस विज्ञापन को 12 अक्टूबर या 13 अक्टूबर को प्रकाशित होना चाहिए था पर कई अखबारों में यह विज्ञापन कार्यक्रम समाप्ति के एक दिन बाद यानी 24 अक्टबर को प्रकाशित हुआ।

ऐसा नहीं कि ऐसा मामला पहली बार हुआ है। अगर जनसंपर्क विभाग और विभिन्न विभागों द्वारा जारी और अखबारों में बीते 16 वर्षो से प्रकाशित हो रहे विज्ञापनों और और उसके एवज में हुए भूगतान की जांच हो तो ‘सरकारी विज्ञापन’ का घोटाला ‘सृजन घोटाला’ से भी बड़ा घोटाला साबित हो सकता है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

सरकारी पैसे से राजनेताओं की मार्केटिंग पर सुप्रीम कोर्ट की रोक
हाकिमों-नेताओं के दलाल बन गए हैं अखबारों के प्रखंड रिपोर्टर
चाय पर चर्चा के बहाने पीएम मोदी की विपक्ष संग अच्छी पहल
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि को अतिक्रमणमुक्ति के योद्धा पुरुषोतम को जान-माल का खतरा
प्रबंधन के निर्देश पर दैनिक जागरण के सारे संपादक भूमिगत!
आदिवासी इलाकों में पंचायत चुनाव नहीं होने देंगे स्वामी अग्निवेश
नीतीश सरकार ने क्यों की अमीरदास आयोग को भंग
'ईटीवी' की रिलाचिंग की तैयारी, 'ईटीवी भारत' होगा सेटेलाइट चैनल
नालंदा में अपराधियों का नंगा नाच, एन एच 31 पर मुखिया के देवर को गोली मार पांच राइफल लूटे
मेरे लेवल का नहीं है पद्म श्री सम्मान :सलीम खान
कटरा हादसे में मीडिया के हाथों मारी गई पायलट ने फेसबुक पर लिखा- जिंदा हूं मैं
चैनल-कर्मियों को वेतन नहीं, कंपनी खोल रहा है होटल
जशोदा बेन ने मांगी आरटीआई, पीएम मोदी का कैसे बना पासपोर्ट
‘हम भारत के लोग’ और नेताओं के बीच यह अंतर क्यों ?
खुलासे के साथ भूमिगत हुआ ‘केसरी गैंग’ का रिंग मास्टर
जमशेदपुर प्रेस क्लब का चुनाव हास्यास्पद ,बली का बकरा बने श्रीनिवास
आंखों देखी फांसीः एक रिपोर्टर के रोमांचक अनुभव का दस्तावेज
IANS न्यूज एजेंसी  ने जारी न्यूज में नरेंद्र मोदी को ‘बकचोद’ लिखा, गई कइयों की नौकरी
आग लगी हमरी झोपड़िया में-हम गावैं मल्हार
पांच जजों की बेंच करेगी सीता सोरेन मामले की सुनवाई
'लिव इन रिलेशन' रेप के दायरे से बाहर नहीं :हाई कोर्ट
सावधान! झारखंड में चार शिक्षण संस्थान फर्जी, उषा मार्टिन अकादमी को AICTE से नहीं है मान्यता
नहीं रहे दैनिक भास्कर समाचार पत्र समूह के चेयरमैन रमेशचंद्र अग्रवाल
जो हुकुम सरकारी, वही पके तरकारी !
पीएम मोदी को पीछे छोड़ बिगबी बने ट्वीटर के बादशाह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...