बिहार महासंग्राम में मोदी का 53 तो सोनिया का 100 रहा चुनावी स्ट्राइक रेट

Share Button
Read Time:2 Minute, 39 Second

बिहार विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद भी भाजपा हाईकमान को कुछ आंकड़ें हमेशा चुभते रहेंगे। 243 सीटों वाली विधानसभा में केवल 53 सीटों पर सिमटने के अलावा पार्टी के लिए ये आंकड़े किसी दुस्‍वप्‍न से कम नहीं है।

sonia-gandhi-narendra-modiदरअसल, कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों के स्‍कोरकार्ड पर नजर दौड़ाएं तो दिलचस्‍प बातें सामने आती है। यहां सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को पीछे छोड़ दिया है।

सोनिया गांधी ने जिन 4 विधानसभा में रैलियां की, सभी में कांग्रेस ने जीत दर्ज की। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुल 26 सीटों पर रैलियां की, जिनमें से बीजेपी केवल 12 सीटें ही जीत पाई। ऐसे में सोनिया का स्‍ट्राइक रेट सौ फीसदी रहा, वहीं पीएम मोदी का 53 फीसदी रहा।

ये आंकड़े और दिलचस्‍प हो जाते हैं जब आप इन रैलियों और उसके असर पर गौर करते हैं. मसलन, पीएम ने हर रैली में आसपास के 5-6 एनडीए प्रत्‍याशी के पक्ष में जनता से वोट मांगा। इसके बावजूद, एनडीए को इसका कुछ खास फायदा नहीं मिला। विपक्ष पहले से ही आरोप लगाते रहा है कि मोदी की सभा में भीड़ प्रायोजित थी।

सोनिया गांधी ने 3 अक्‍टूबर को कहलगांव में पार्टी प्रत्‍याशी सदानंद सिंह और वजीरगंज में अवधेश सिंह के समर्थन में रैलियां की।

इन दोनों सीटों पर महागठबंधन ने जोरदार जीत दर्ज की। सोनिया ने 17 अक्‍टूबर को बक्‍सर और मांझी में चुनावी सभाएं की। बक्‍सर में संजय कुमार तिवारी और मांझी से विजय शंकर दुबे जीतने में सफल रहे।

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 रैलियों में करीब 130 एनडीए उम्‍मीदवारों के लिए वोट मांगा। हालांकि, एनडीए इनमें से 12 सीट- बांका, मुंगेर, बेगूसराय, नवादा, सासाराम, औरंगाबाद, जहानाबाद, मढ़ौरा, नालंदा, बक्‍सर, सीतामढ़ी, बेतिया, मधुबनी और मधेपुरा में हार गई।  

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

सीएम नीतिश कुमार का फरमान , ईटीवी को कोई बाईट नहीं दें जदयू नेता !
मीडिया के विरुद्ध पब्लिक ट्रायल की जरुरतः केजरीवाल
भाजपा सांसद गिरिराज सिंह गायब, नवादा के चौक-चौराहे पर चिपके पोस्टर
जमशेदपुर प्रेस क्लब दो फाड़, पत्रकारों के बीच अस्तित्व की जंग शुरु
चमरा लिंडा की गिरफ्तारी में झलकी तानाशाही मानसिकता
बिहार में पांचवी बार, सीएम बने नीतीशे कुमार
अश्लील चुटकुलों से अजीज, अब शुगली-जुगली के नाम से जाने जाएंगे संता बंता
गुजरात में अब मोदी-शाह का 'रुपानी राज'
नालंदा में गजब हो गया, अंतिम सुनवाई के दिन लोशिनिका से रेकर्ड गायब, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भू...
जामा मस्जिद में जल चढ़ाने की घोषक सुदर्शन न्यूज चैनल के मालिक गिरफ्तार
जशोदा बेन ने मांगी आरटीआई, पीएम मोदी का कैसे बना पासपोर्ट
इंडिया टुडे ग्रुप का एक्जिट पोल से हड़कंप, एनडीए को मात्र 177 सीटें!
इस तरह के भूल से क्यों नहीं बच पा रहा है दैनिक भास्कर   
नंगे पांव एके-47 लेकर सिंघम दिखे रांची एसएसपी, 3 शार्प शूटरों को कराया यूं सरेंडर
दखल-दिहानी के विरोध में सड़क पर उतरे हजारों लोग, राजभवन के समक्ष दिया महाधरना
कोल्हानः एक्सपर्ट मीडिया न्यूज-राज़नामा डॉट कॉम के पाठकों की संख्या में भारी बढ़ोतरी
फेसबुक को है tsu.co वेबसाइट से एलर्जी
ताजा टीवी रिपोर्टर इंद्रदेव यादव हत्याकांडः कौन है बिरेन्द्र ?
क्या फर्जी है बिहार विधान सभा की प्रेस सलाहकार समिति!
251 रुपये में मोबाइल देने का दावा करने वाली कंपनी के खिलाफ 420 का मुकदमा
'लालू मोबाइल खबर' और होटरवार जेल की कुछ हकीकतें
पीएम मोदी को बोलने की तमीज सीखना चाहियेः राहुल गांधी
पटना-नालंदा के अखबारों में यूं छापे जा रहे हैं उपयोगिता विहीन सरकारी विज्ञापन
सोशल मीडिया का यह वायरस मांगता है फिरौती
बिहार में केंद्रीय विश्वविद्यालय की नियुक्तियों पर उठते सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...