बिहार चुनाव हार के बाद मोदी सरकार का बड़ा फैसला, मीडिया में 26 कीजगह 49 फीसदी होगा विदेशी निवेश

Share Button
Read Time:0 Second

खुद को राष्ट्रवादी कहने वाली भाजपा की मोदी सरकार ने मीडिया में विदेशी पूंजी निवेश को बढ़ावा देने का फैसला कर लिया है. अब न्यूज चैनलों में 26 की जगह 49 फीसदी विदेशी निवेश हो सकेगा।

indian_prime_minister_narendra_modi_with_arun_jaitleyकांग्रेसी राज में यही भाजपा कहा करती थी कि न्यूज और मीडिया में विदेशी पैसा लगने से विदेशी संस्कृति को बढ़ावा मिलेगा, राष्ट्रीय संस्कृति और भारतीय समझ को खतरा पैदा होगा लेकिन, इसी पार्टी ने केंद्र की सत्ता में आते ही न्यूज चैनलों में निवेश की सीमा को बढ़ाकर 49 प्रतिशत कर दिया है।

यही नहीं, नान न्यूज चैनलों में सौ फीसदी विदेशी निवेश को ओके कर दिया गया है. इसी तरह डीटीएच में सौ फीसदी विदेशी निवेश की मंजूरी भाजपा सरकार ने दे दी है. माना जा रहा है कि यह कदम भारतीय मीडिया मालिकों को खुश करने के लिए उठाया गया है.

प्रिंट मीडिया के मालिक पहले से ही भाजपा से खुश हैं क्योंकि मजीठिया वेज बोर्ड को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को ये मालिक नहीं लागू कर रहे हैं और इस मसले पर केंद्र सरकार ने भरपूर चुप्पी साध रखी है.

ज्ञात हो कि आज मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले लिए हैं जिसमें न्यूज चैनलों में विदेशी निवेश की सीमा बढ़ाकर 26 से 49 प्रतिशत किया जाना भी है. कहा जा रहा है कि ये सब कुछ देश की अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए मोदी सरकार ने किया है.

मीडिया सहित करीब 15 क्षेत्रों में विदेशी निवेश के नियमों को बदला गया है. कुछ क्षेत्रों में एफडीआई की सीमा बढ़ाई गई है. कुछ क्षेत्रों में विदेश निवेश के नियमों को आसान किया गया है, जिन अहम क्षेत्रों में एफडीआई के नियमों को आसान किया गया है उनमें कंट्रक्शन का काम भी शामिल है.

बिहार में हार के बाद विदेशी निवेश पर मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले लिए हैं. रक्षा समेत 15 क्षेत्रों में निवेश के नियम आसान कर दिए गए हैं. न्यूज चैनल में 26 की जगह 49 फीसदी एफडीआई को मंजूरी मिल गई है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके विदेशी निवेश पर लिए गए फैसलों की जानकारी दी.रक्षा, ब्रॉडकास्टिंग, प्राइवेट बैंकिंग, एग्रीकल्चर, प्लांटेशन, माइनिंग, सिविल एविएशन, कंस्ट्रक्शन डेवलपमेंट, सिंगल ब्रांड रिटेल, कैश एंड कैरी होलसेल और मैन्युफैक्चरिंग समेत 15 सेक्टरों में विदेशी निवेश के नियम आसान किए गए हैं. ब्रॉडकास्टिंग सेक्टर के तहत गैर-खबरिया चैनल में 100 फीसदी विदेशी निवेश की छूट को आसान बनाया गया है.

न्यूज चैनल में विदेशी निवेश की सीमा 26 फीसदी से बढ़ाकर 49 फीसदी कर दी गई है. डीटीएच और केबल नेटवर्क में 100 फीसदी विदेशी निवेश को मंजूरी दी गई है. विदेशी निवेश के लिए पहले से तय कई शर्तें हटाई गई हैं ताकि निवेश आसान हो सके.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ये फैसले एक दो दिन के नहीं हैं महीनों इन पर काम हुआ है. इन्हें बिहार चुनाव में हार से जोड़कर नहीं देखना चाहिए. विदेशी निवेश पर मोदी सरकार के बड़े कदम ने आर्थिक सुधार पर उठ रहे सवालों पर विराम लगा दिया है. कंस्ट्रक्शन सेक्टर में विदेशी निवेश को बेहद आसान बना दिया गया है.

सरकार ने कंस्ट्रक्शन सेक्टर में विदेशी निवेश पर ज्यादा जोर दिया है. विदशी निवेश के लिए प्रोजेक्ट का आकार कम से कम 20 हजार वर्ग मीटर होने की शर्त हटा दी गयी है.

विदेशी निवेशकों पर कम से कम 50 लाख डॉलर यानी करीब 32.5 करोड़ लाने की शर्त नहीं होगी. एक प्रोजेक्ट में निर्माण के हर चरण में अलग-अलग विदेशी निवेश हो सकता है.

प्रोजेक्ट पूरा होने के पहले विदेशी निवेशक अपना पूरा पैसा निकाल कर ले जा सकता है, बशर्तें हर चरण में पैसा लगाए कम से कम तीन साल हुआ हो. निजी बैंक में कोई भी विदेशी निवेशक 74 फीसदी तक पैसा लगा सकता है.

देसी या विदेशी निर्माता सरकार की मंजूरी के बगैर अपना सामान वेबसाइट के जरिए बेच सकेंगे. रीजनल एयरलाइंस में 49 फीसदी तक विदेशी निवेश की इजाजत दी गयी है.

साभारः दिल्ली से भड़ास के विशेष संवाददाता राजीव शर्मा की रिपोर्ट

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

गोड्डाः  सरकारी पुल निर्माण में बाल श्रम कानून की उड़ रही धज्जियां
प्रभात खबर से जुड़ा है IM का संदिग्ध आतंकी उजैर अहमद
'व्यापमं घोटाला' में मप्र के सीएम भी शामिल
बीबी के गहने और अपनी जमीनें पाने के लिए मंत्री बनेगें नवीन!
रघु’राज में भी कम नहीं हो पा रहा है भ्रष्टाचार :रामटहल चौधरी
आपके बोल से चिढ़ हो रही है सुशासन बाबू !
 जिन्दगी झण्ड बा....फिर भी घमण्ड बा....
बीपीओ की एक तमाचा ने खोल दी मनरेगा की पोल !
गूगल कंपनी में करीब 200 बकरियां नौकरी, वेतन सहित मिलती हैं अन्य सुविधाएं
लालू के सामाजिक न्याय और नीतिश के विकास को मुंह चिढ़ा रहा है इनायतपुर
नीतीश सरकार को SC की कड़ी फटकार, कल CS को हाजिर होने का आदेश
कर्नाटक सरकार की टीपू जयंती समारोह का विरोध करेगी RSS
बिहारः नीतिश कुमार के आगे सब बौने
40 के दशक में दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश होगा भारत : भटकर
टोल गेट पुंदाग (ओरमांझी) का तमाशा: ठेकेदार का है रोना, यहां होता है भारी नुकसान
आरक्षण नहीं मिला तो धर्म परिवर्तन कर लेंगे पटेल समुदाय
चमरा लिंडा की गिरफ्तारी में झलकी तानाशाही मानसिकता
दैनिक जागरण के पटना इनपुट और स्टेट हेड का तबादला, कई अन्य भी हुए इधर-उधर
Ex PM नेहरू और अटल जी भी रहे हैं IFWJ के सदस्य !
एनजीओ का मकड़जाल और प्रशासन की जिम्मेदारी
अर्नब गोस्वामी पर 500 करोड़ के मानहानि का दावा
न्यूज़ चैनलों के लिए अभी भी कौतुक है गांव का मतलब
सिर्फ गुटबाजी के बल प्रेस क्लब रांची को कब्जाने की होड़ में मीडिया मठाधीश
 पोर्न वीडियो दिखाकर गर्ल रेप के आरोपी राजद विधायक फरार
छीनी 'दिल्ली स्पीकर' की शक्तियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
mgid.com, 259359, DIRECT, d4c29acad76ce94f
Close
error: Content is protected ! www.raznama.com: मीडिया पर नज़र, सबकी खबर।