बिहार आईएस एसोसिएशन के आंदोलन से नीतिश के गुड गवर्नेंस पर उठे सबाल

Share Button

पटना (संवाददाता)। बीएसएससी पेपर लीक मामले में अध्यक्ष आईएएस सुधीर कुमार की गिरफ्तारी  को लेकर बिहार आईएसएस एसोसिएशन के  आंदोलन ने सीएम के गुड गवर्नेंस पर कई सबाल खड़े कर दिये हैं। आईएस संघ ने बिहार में पुलिस के कथित मनमाने कार्रवाई में केंद्र सरकार से दखल देने की मांग की है। 

बिहार में कार्यरत आईएस ऑफिसर के समर्थन में उतरी आईएस केंद्रीय संघ ने राज्य सरकार और साथ ही साथ केंद्र सरकार से आग्रह किया है कि पुलिस मशीनरी द्वारा किसी भी निर्दोष सिविल सर्वेंट के साथ मनमानी या दुर्भावनापूर्ण व्यवहार नहीं किया जाए।

आईएस संघ के बिहार खेमा द्वारा कड़े शब्दों में लिखे गए स्टेटमेंट के बाद अब आईएस सेंट्रल एसोसिएशन ने भी बिहार में हुए बीएसएससी पेपर लीक मामले की जांच किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराने की मांग का समर्थन किया है।

सेंट्रल आईएस एसोसिएशन के सचिव संजय रेड्डी का कहना है कि बिहार में पुलिसकर्मियों के द्वारा मनमाना व्यवहार किया जा रहा है और यहां कानून के नियमों का पालन करने की जरूरत है।

उन्होंने आईएस सुधीर कुमार और जितेंद्र गुप्ता की संलिप्तता की गहन जांच एक स्वतंत्र एजेंसी से कराने की मांग की।

आईएस बिहार खेमा के ज्ञापन पत्र में बैठक के बाद पारित प्रस्ताव में आईएस सुधीर कुमार को रिहा करने की मांग की गई है। इस ज्ञापन की एक प्रतिलिपि बिहार के राज्यपाल और  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी सौंपी गई है।  जिसमें स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि आईएस अफसर अब मुख्यमंत्री तक के कोई भी मौखिक आदेश नहीं मानेंगे।

बिहार आईएस खेमा ने यह तय किया है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं की जाती है तब तक वे सभी काला पट्टा बांधे रहेंगे।

इस संदर्भ में  अविभाजित बिहार-झारखंड पूर्व मुख्य सचिव  वी एस दूबे ने भी माना कि सिविल सर्वेंट को हरासमेंट से बचाने के लिए एक संस्थागत तंत्र की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि कोई भी सिविल सर्वेंट कोई भी निर्णय कैसे ले पाएगा, जब उन्हें मामूली से आरोप पर बिना किसी ठोस सबूत के गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

इस मामले में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा में पहले ही कह चुके हैं कि अधिकारियों के ज्ञापन की कानूनी जांच पड़ताल के बाद वे नौकरशाहों पर ऐतिहासिक निर्णय लेगें।

Share Button

Relate Newss:

मोदी-सरकार की आलोचना के शिकार बने पंकज श्रीवास्तव !
न्यूज़ 18 संवाददाता पर जानलेवा हमला, डीएम से मिले पत्रकार
जनप्रतिनिधि निकाल रहे नालंदा में शराबबंदी की हवा, मुखिया और पैक्स अध्यक्ष समेत 7 धराये
दीपक चौरसिया की राइट हैंड निधि कौशिक इंडिया न्यूज से हुई टर्मिनेट!
जेएनयू में सफ़ाई अभियान की ज़रूरत है
बांका डीएम ने हिन्दुस्तान रिपोर्टर के दफ्तरों में प्रवेश पर लगाई रोक !
व्यवस्था देने में फेल रहे केजरीवाल
सीएम रघुवर दास के बेटे के कथित 'SEX AUDIO' -3
सुलगते सवालों का अजायब घर है अवनीन्द्र झा की 'मिस टीआरपी' पत्रकारिता
योगा डे एक साजिश :ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड
श्रीकांत प्रत्युष ने जी न्यूज़ से इस्तीफा दिया
बिहार महासंग्राम में मोदी का 53 तो सोनिया का 100 रहा चुनावी स्ट्राइक रेट
महज 500 से रिस्क फ्री लाखों का धंधा करना हो तो दरभंगा में खोल लीजिये लोकल चैनल!
जमशेदपुर प्रेस क्लब दो फाड़, पत्रकारों के बीच अस्तित्व की जंग शुरु
कंप्यूटर क्रांति वनाम कैशलेस इकोनॉमी की बेहतरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...