बाजारू मीडिया को त्याग पत्रकार विनय ने खोला ढाबा

Share Button

लखनऊ। बाजारू मीडिया की जो हालत है, उससे संवेदनशील पत्रकार परेशान हैं। खासकर युवा पत्रकारों ने मीडिया में कुछ साल रहने के बाद अपना खुद का अलग रास्ता तय करने का इरादा बनाना शुरू कर दिया है। ऐसे ही एक नौजवान पत्रकार विनय पांडेय ने मीडिया को गुडबाय बोलकर अपना ढाबा खोल लिया है।

कई मीडिया घरानो में काम कर चुके विनय पाण्डेय ने जब अपना ढाबा नेशनल हाईवे-28 पर ‘मिडवे यात्री प्लाजा’ नाम से खोला तो लोग हंसने लगे। लेकिन ढाबे की सफलता और विनय की लगन देखने के बाद यही लोग उनकी सराहना करने में जुट गए हैं।

विनय ने पत्रकारिता का कोर्स दिल्ली के एक नामी गिरामी कालेज से किया था। उसके बाद उन्होंने इंडिया न्यूज़, mh1 news, समाचार प्लस, न्यूज़ एक्सप्रेस जैसे मीडिया संस्थानों में काम किया। कुछ सालों बाद विनय के घर की स्थिति अचानक बिगड़ गयी। पत्रकारिता की हालत खराब देख विनय पहले से ही परेशान थे।

उन्होंने पिता जी के लाख मना करने पर भी अपना मीडिया का करियर पीछे छोड़ अपने घर लौट आए और अपने गांव कुछ दिन खेती की। उसके बाद विनय ने अपना ढाबा खोला। तब लोगों ने कहा कि ये पत्रकारिता नहीं है, ये ढाबा है, नहीं टिक पाओगे।

विनय ने सबकी बातों को अनसुना करते हुए ढाबे के काम में दिन रात लगे रहे। अब विनय का ढाबा नंबर एक पर है। विनय के ढाबे को परिवहन विभाग ने 5 साल के लिए अनुबंधित कर दिया है।

आज यह ढाबा विनय की सफलता की कहानी बना हुआ है। विनय ने अपना इस्तीफा मीडिया संस्थान को मेल कर जो घर लौटे तो आजतक वापस नहीं आए। उन्होंने घर के पास ही अपने ढाबे के जरिए नई पारी की सफल शुरुआत कर दी है।

Share Button

Relate Newss:

मोदी मुर्दाबाद और गो बैक मोदी के नारों के बीच भावुक हुए पीएम
'राम रहीम' को लेकर सिरसा में 144 लागू!
जेजेए ने पत्रकार हरी प्रकाश की मौत को लेकर डीजीपी को सौंपा ज्ञापन
झारखंड सरकार के संरक्षण में अमेरिका से चल रही है फर्जी 'आपका सीएम.कॉम' वेबसाइट
मोदी मंत्रिमंडलः भाजपा को मलाई, औरों को मिली छाछ
कतरीसराय डाकघर में पुलिस छापा, 6बोरा दवा समेत 12धराये
बिल्डर अनिल सिंह: हरि अनंत हरि कथा अनंता!
दैनिक जागरण के प्रतिनिधि की गोली मार कर हत्या, सगा भाई भी जख्मी
तवायफ की शूटिंग करने पहुंची विद्या बालन संग सपरिवार सेल्फी में मस्त रहे दुमका के डीएम-एसपी
राष्ट्रीय अस्मिता से जुड़ा है हिन्दी का सवाल
मेरे लेवल का नहीं है पद्म श्री सम्मान :सलीम खान
चाऊ एन लाई द्वारा प्रदत्त बौद्ध ग्रंथ त्रिपिटक को देख अह्लादित हुए चीनी पत्रकार दल   
रघु’राज में झारखंडी मीडिया को धिक्कार, कोई नहीं समझता बिटियों की पीड़ा
'न तू अंधा है, न अपाहिज है, न निकम्मा है तो फिर ऐसा क्यूं'?
आजादी के हनन  को लेकर  नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया के 6 प्रमुख अखबारों  के एडिटोरियल स्‍पेस ब्लैंक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...