फॉक्स न्यूज का दावा: भाषण के दौरान प्याज लगाकर रोए ओबामा  

Share Button
Read Time:3 Minute, 33 Second

obama

अमरीका में बंदूकों पर नियंत्रण के दौरान भाषण के वक्त राष्ट्रपति ओबामा की आंखों से निकले आंसू पर फोक्स न्यूज टीवी चैनल ने निशाना साधा है।


चैनल ने दावा किया है कि ओबामा ने आंसू निकालने के लिए प्याज के रस का इस्तेमाल किया था। आपको बता दें कि पिछले हफ्ते गन कंट्रोल पर स्पीच देते वक्त ओबामा की आंख से आंसू निकल आए थे।

न्यूज चैनल की एंकर एंड्रिया टंटारोस ने कहा कि नेता ने जैसा इमोशन दिखाया, उस पर भरोसा नहीं किया जा सकता। मैं पोडियम चेक करती, कहीं उन्होंने कच्चा प्याज तो नहीं रखा था या फिर कुछ और नो मोर टीयर्स (जॉनसन बेबी शैम्पू)। मैं बस यही कहना चाहती हूं कि ये भरोसे के लायक नहीं था, क्योंकि ये अवॉर्ड सीजन जैसा है।

इस दौरान को हॉस्ट मेलिसा फ्रैंसिस ने ओबामा के इमोशन को बैड पॉलिटिकल थिएटर करार दिया। उन्होंने कहा कि उस फायरिंग में जो बच्चे मारे गए थे, उन्हें लेकर मैं बुरा सोचती हूं, लेकिन वे केवल इसे लेकर ही दुखी होते हैं, कभी टेरर को लेकर नहीं।

मेरे आंखों से आंसू कैसे निकले मुझे खुद नहीं पता  :बराक ओबामा

इससे पहले अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा था कि वे हैरान है कि बंदूक नियंत्रण उपायों की बात करने के दौरान वह सबके सामने रो कैसे पड़े। उन्होंने कहा कि शायद उनकी इस प्रतिक्रिया से कई लोग उस वक्त भौंचक्के रह गए थे।

बंदूक नियंत्रण नीति पर बात करते हुए ओबामा ने कहा कि इसकी निजी बिक्री के दौरान जरूरी है कि ग्राहक की पृष्ठभूमि की अच्छे से और अनिवार्य रूप से जांच की जाए।

कनेक्टिकट हादसे को याद करते हुए ओबामा ने कहा कि हमले के दो दिन बाद जब वह न्यू टाउन गए तो वहां उन्होंने पहली बार सीक्रेट सर्विस कर्मियों को रोते हुए देखा। जरा सोचिए उन बच्चों के बारे में जो यह समझ ही नहीं सके कि अब उनके भाई बहन कभी घर नहीं आएंगे।

ओबामा का कहना है कि उनके पास कभी भी गन नहीं रही है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह बाकी सभी अमरीकी लोगों के बंदूक खरीदने के संवैधानिक अधिकार को किसी साजिश के तहत छीनना चाहते हैं।

उधर, रिपब्लिकन पार्टी से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की दौड़ में शामिल डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि वह बंदूक नियंत्रण पर ओबामा के उपायों से असहमत हैं, लेकिन इस मामले पर बात करने के दौरान अमरीकी राष्ट्रपति के आंसू बह जाना काफी स्वाभाविक और उनकी कोशिशों के पीछे की अवधारणा न ही गलत है, न ही उनकी भावना।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

कोर्ट ने फर्जी खबर छापने के मामले में दैनिक जागरण के मालिक को भेजा जेल
फर्जी शिक्षकों को पटना हाई कोर्ट का ऑफर, 7 दिन में पद छोड़े या अंजाम भुगतें !
बिहार डीजीपी से सीधी बात के बाद पीड़ित पत्रकार ने यूं तोड़ा आमरण अनशन
आर्गेनाइजर ने लिखा, हिंदू विरोधी हैं FTII प्रदर्शनकारी छात्र !
ऑर्गनाइजर के जरिए संघ की नसाहत- 'संगठन का पुनर्गठन करे भाजपा'
अमृता के डांस कांसेप्ट से वेडिंग और कार्पोरेट इवेंट्स में मस्ती का डबल डोज
प्रेरणा नहीं, पीड़ा बन गई है राजेन्द्र का यह विश्व रिकार्ड
बढ़ी एफडीआई से प्रिंट मालिक मायूस, वहीं न्‍यूज ब्रॉडकास्‍टर्स गदगद
देखिए वीडिओ, गुमला अंचल का नाजिर लेता है सरेआम रिश्वत !
बीयर पीते दिखे जदयू के पूर्व MLA अरेस्ट, पार्टी से भी सस्पेंड
मोदी जी की आय की खबर प्रायः अखबारों में गोल, भास्कर के शीर्षक में झोल
JAJ का 'सनकी' प्रदेश अध्यक्ष फिर सुर्खियों में, जमशेदपुर जिलाध्यक्ष ने चटाई धूल
बोलिये सूचना भवन के शुक्राचार्य की जय...
विधान परिषद चुनाव से 'नमो राग' पर सवाल
भयभीत मनोरंजन ने राजनामा से कहा, सीएम स्तर से दब रहा है मामला !
जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनका भी अपराध
CBI DIG के इस नए खुलासे में केन्द्रीय मंत्री से लेकर अजीत डोवल तक फंसे
अभी दिल्ली के मुख्यमंत्री बने रहेंगे अरविंद केजरीवाल
ड्रग माफिया के खिलाफ आवाज उठाई तो हाथ-पैर काट डाले !
नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स का द्विवार्षिक 'रांची सम्मेलन' सम्पन्न
तवायफ की शूटिंग करने पहुंची विद्या बालन संग सपरिवार सेल्फी में मस्त रहे दुमका के डीएम-एसपी
अजीत जोगी ने  किया इंडियन एक्सप्रेस के उपर मानहानि का मुकदमा
नहीं नपे झारखंड के जमीन माफिया-दलाल-पुलिस
सीबीआई ने किया मधु कोड़ा की जमानत का विरोध
बिहारः नीतिश कुमार के आगे सब बौने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...