फैक्स पर निकाल जाता था स्विस बैंक से पैसा

Share Button
Read Time:3 Minute, 7 Second

dabur

 

 

 

 

 

 

 

एक न्‍यूज चैनल ने स्विस बैंक में अकाउंट को लेकर डाबर समूह के पूर्व निदेशक प्रदीप बर्मन के खिलाफ कई खुलासे किए हैं।

चैनल का कहना है कि बर्मन के स्विस बैंक अकाउंट में 18 करोड़ रुपए हैं और उन्‍होंने अपने खाते की जानकारी इनकम टैक्स से छिपाई थी।

यह भी पता चला है कि बिना स्विट्जरलैंड गए प्रदीप बर्मन का खाता खुल गया था। बर्मन का खाता सिर्फ एक फैक्स औऱ फोन कॉल से ऑपरेट होता था। चैनल ने बर्मन का स्विस बैंक अकाउंट नंबर भी जारी किया।

गौरतलब है कि सरकार ने 27 अक्‍टूबर को सुप्रीम कोर्ट में तीन कारोबारियों के नाम बताए थे जिनमें प्रदीप बर्मन भी शामिल थे।

बर्मन ने छिपाई थी जानकारी

प्रदीप बर्मन के खिलाफ आयकर विभाग ने जो आरोप पत्र तैयार किया है उसमें ये सारी बातें कही गई हैं।

दस्तावेजों के मुताबिक, बर्मन ने 2005-06 की अपनी आय मात्र 66 लाख 34 हजार तीन सौ चालीस रुपए बताई थी और आयकर विभाग को दी जानकारी में उन्‍होंने यह नहीं बताया था कि किसी विदेशी बैंक में उनका खाता है।

बिना गए खुला खाता

बर्मन ने आयकर विभाग की पूछताछ में कहा कि एक आदमी जो ख्वाजा (अभी तक यह पता नहीं चला पाया है कि यह शख्‍स कौन है) को जानता था, वह एचएसबीसी बैंक ज्यूरिख का फॉर्म लेकर दुबई आया था और उन्‍होंने दुबई में ही इस फॉर्म को भरकर पहचान के तौर पर अपना फोटो और इंडियन पासपोर्ट लगाया था।

फैक्‍स से निकल जाता था पैसा

यह भी पता चला है कि खाते से पैसा निकालने के लिए बर्मन को कभी ज्यूरिख जाने की जरूरत नहीं पड़ती थी।

बर्मन के मुताबिक, उन्‍होंने बैंक को ये निर्देश दिए हुए थे कि जब भी उन्‍हें पैसा जमा कराना होगा या निकालना होगा तो वह बैंक को एक फैक्स कर देंगे।

फैक्स पहुंचने के बाद बर्मन के पास एक फोन आता था जिससे इस बात की पुष्टि की जाती थी कि पैसे वही निकाल रहे हैं।

उसके बाद उन्‍हें बता दिया जाता था कि वह किस बैंक से पैसे ले सकते हैं।

जब आयकर अधिकारियो ने बर्मन से पूछा कि वह किस नंबर पर फैक्स करते थे तो उन्‍होंने कहा कि अब उन्‍हें याद नहीं है। 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

हसीन वादियों का लुफ्त उठाते बिहार के CM और उनके पिछे भागती-गिरती मीडिया
एक उलगुलान की बेचैनी है आजाद सिपाही !
बिहार चुनाव नतीजा लोकतंत्र की जीत और राहुल गांधी उभरता हुआ सितारा: शत्रुघ्न सिन्हा
नालंदा के थरथरी में निजी बीएड कॉलेज निर्माण के ठेकेदार से मांगी रंगदारी
धड़ाधड़ खुल रहे रीजनल चैनलों की कहानी, एक्सपर्ट वासिंद्र मिश्र की जुबानी
आलोक जी, भड़वे और दलाल हैं हम पत्रकार !
जामा मस्जिद में जल चढ़ाने की घोषक सुदर्शन न्यूज चैनल के मालिक गिरफ्तार
आयकर आयुक्त है या सड़क छाप गुंडा? सुनिए ऑ़डियो टेप
अश्लीलता का अड्डा बन गया है रांची का नक्षत्र वन
प्रेस क्लब रांची चुनावः कमजोर नींव पर बुलंद ईमारत बनाने के जुमले फेंकने लगे प्रत्याशी
विधायक, सेल्फी और दैनिक प्रभात खबर की पत्रकारिता
फर्जी राजगीर पत्रकार संघ का कोषाध्यक्ष मनोज कुमार बना फर्जी हेडमास्टर !
.....और यूं 4 माह बाद जेल से बाहर निकले पत्रकार वीरेंद्र मंडल व उनके पिता
रीजनल न्यूज चैनल कशिश के रिपोर्टर का नेशनल धमाका
‘मुजफ्फरपुर महापाप’ का मछली नहीं, मगरमच्छ है इंसासधारी संजय सिंह उर्फ झूलन
3 दिन से लापता दैनिक जागरण रिपोर्टर की लाश मिली, हत्या की आशंका
‘कॉमेडी नाइट्स विद कपिल’ बंद, स्टारडम नहीं संभाल पाए कॉमेडियन !
ढोंगी रामपाल की काली दुनिया का सच
फेसबुक को है tsu.co वेबसाइट से एलर्जी
समलैंगिक विवाह को स्वीकारने वाला पहला देश बना आयरलैंड
'राम रहीम' को लेकर सिरसा में 144 लागू!
दैनिक हिन्दुस्तान ने किसान का करा दिया हवा में पोस्टमार्टम!
भयभीत मनोरंजन ने राजनामा से कहा, सीएम स्तर से दब रहा है मामला !
मुखपत्र नहीं, मूर्खपत्र है संघ का ऑर्गेनाइजरः शिवसेना
खबर लिखने से पहले सोचें कि समाज पर उसका क्या असर होगाः रघुवर दास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...