फिर से शुरू होगा कांग्रेस का नेशनल हेराल्ड अखबार : कपिल सिब्बल

Share Button

kapil congress news papperनेशनल हेराल्ड मामले कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने एक बड़ा बयान दिया है।

दरअसल उन्होंने कहा कि नेशनल हेराल्ड अखबार फिर से शुरू किया जाएगा, क्योंकि यह अखबार कांग्रेसी विचारधारा से संबंधित अखबार है।

इंडिया टुडे के ‘एजेंडा आज तक’ के दौरान जब कपिल सिब्बल से ये पूछा गया कि यंग इंडिया कंपनी के शेयर होल्डर्स को सूचना क्यों नहीं दी गई, उन्हें धोखा दिया गया है, तो उन्होंने इस पर सफाई देते हुए कहा कि हर किसी को बताया गया था। जो लोग यह दावा कर रहे हैं कि उन्हें सूचना नहीं दी गई, वे असल में शेयर होल्डर ही नहीं हैं।

जस्टिस मार्कण्डेहय काटजू के सवाल पर उन्होंने कहा कि काटजू ने कभी शेयर होल्डर बनने के लिए आवेदन ही नहीं किया है।

सिब्बल ने यह आरोप सिरे से नकार दिया कि कांग्रेस ने नेशनल हेराल्ड की संपत्ति हड़पने के लिए यंग इंडियन नाम की कंपनी बनाई।

उन्होंने कहा कि यंग इंडियन बनाने की जरूरत इसलिए पड़ी ताकि नेशनल हेराल्ड को रिवाइव किया जा सके, लोन खत्म हो जाए और शेयर अलॉट हो जाएं।

उन्होंने कहा कि यंग इंडियन के शेयर होल्डर नेशनल हेराल्ड के मालिक नहीं हैं। सेक्शन 25 कंपनी में शेयर होल्डर को पैसा नहीं मिलता। नेशनल हेराल्ड केस भ्रष्टाचार से संबंधित नहीं है। यहां तक कि सुब्रह्मण्यम स्वामी ने भी इसे भ्रष्टाचार का मामला नहीं बताया, उन्होंने इसे धोखाधड़ी बताया है।

सिब्बल ने पलटवार में सवाल किया कि क्या किसी कांग्रेस नेता ने कहा कि उनके साथ धोखा हुआ है। ऐसे अखबार की मदद करने में कुछ भी बुरा नहीं है, जो कांग्रेस की विचारधारा के करीब हो। हम 100 फीसदी गारंटी देते हैं कि नेशनल हेराल्ड अखबार को फिर से शुरू करेंगे।

Share Button

Relate Newss:

‘मुजफ्फरपुर महापाप’ का मछली नहीं, मगरमच्छ है इंसासधारी संजय सिंह उर्फ झूलन
नालंदा में सामंतवादियों ने महादलितों को लक्ष्मी पूजा से रोका और मारपीट की
एक्जिट पोल न्यूज 24 के संपादक अजीत अंजुम ने फेसबुक पर लिखा  “चाणक्य अंडरग्राउंड ”
सीएम के प्रेस एडवाइजर को शोभा नहीं देता ऐसा प्रोफाइल फोटो लगाना
वार्डन की मेहरबानी, बेटी की जगह 3 साल तक पढ़ाता रहा सेवानिवृत बाप
अखबारों-टीवी चैनलों के लिए टर्निंग पॉइंट है बिहार चुनाव
मोदी जी, परिवारवाद का विरोध या समर्थन ?
अनुचित है रांची कॉलेज का नाम बदलना
मजीठिया‬ वेज बोर्ड को लेकर सुप्रीम कोर्ट नाराज, 15 दिन के भीतर मांगी रिपोर्ट
टोल गेट पुंदाग (ओरमांझी) का तमाशा: सरकारी निर्धारण प्रति किमी और ठेकेदार वसुल रहा है एकमुश्त
सुप्रीम कोर्ट ने मजीठिया बोर्ड के फ़ैसले को सही ठहराया, अखबार मालिकों को झटका
कर्नाटक के सीएम सिद्दारमैया ने कमिश्नर को सरेआम चांटा मारा
"पायनियर" चला रहे हैं झारखंड पीआरडीए के अधिकारी ?
आजादी के हनन  को लेकर  नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया के 6 प्रमुख अखबारों  के एडिटोरियल स्‍पेस ब्लैंक्स
43 साल से सेक्स-टैक्स ले रही है अमेरिकी सरकार !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...