फिर से लांच होगें ‘द नेशनल हेराल्‍ड’, ‘कौमी आवाज’ और ‘नवजीवन’ अखबार

Share Button

newsद एसोसिएशन जर्नल्‍स लिमिटेड (AJL) कंपनी ने इसे गैरलाभकारी कंपनी में परिवर्तित करने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही यह कंपनी अपने अखबार ‘द नेशनल हेराल्‍ड’, ‘कौमी आवाज’ और ‘नवजीवन’ को दोबारा से लॉन्‍च करेगी।

एजेएल के एमडी और ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) के कोषाध्‍यक्ष मोतीलाल वोरा की अध्‍यक्षता में लखनऊ के कैसरबाग स्थित कंपनी के मुख्‍यालय पर हुई विशेष आम सभा में यह फैसला लिया गया है।

उन्‍होंने कहा कि लखनऊ नेशनल हेराल्‍ड का मुख्‍यालय रहा है इसलिए इसे प्राथमिकता मिलनी चाहिए। हालांकि इस पर फैसला बाद में होगा। वोरा ने कहा कि कोर्ट केस से इसका कोई संबंध नहीं है।

वोरा ने बताया कि आम सभा में एजेएल का नाम बदलने और प्रकाशनों को फिर शुरू करने का फैसला लिया गया। वोरा ने कहा कि हम 2010 से ही प्रकाशन को शुरू करने के बारे में गंभीरता से विचार करते रहे हैं।

नेशनल हेराल्‍ड की प्रकाशक कंपनी एजेएल की आमसभा कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के तहत गैर व्‍यावसायिक स्‍वरूप देने के लिए 762 शेयरधारकों की रजामंदी लेने के लिए आयोजित की गई थी।

शेयरधारकों ने कंपनी का नया नाम रखने की अपनी मंजूरी भी दे दी है।

गौरतलब है‍ कि धारा 8 के तहत वाणिज्‍य, कला, विज्ञान, खेल, शिक्षा, शोध, समाज कल्‍याण, धर्म, दान तथा पर्यावरण संरक्षण अथवा किसी अन्‍य कल्‍याणकारी उद्देश्‍य के लिए स्‍थापित उपक्रम आते हैं।

इन कंपनियों की गतिविधियों से प्राप्‍त लाभ को सिर्फ कंपनी के उद्देश्‍यों की पूर्ति के लिए ही इस्‍तेमाल किया जा सकता है। एजेएल की स्‍थापना वर्ष 1937 में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने की थी।

कंपनी की ओर से दैनिक समाचार पत्रों नेशनल हेराल्‍ड और नवजीवन ने स्‍वतंत्रा संग्राम में अहम योगदान दिया था।

वोरा ने बताया कि कंपनी का नाम एसोसिएटेड जर्नल्‍स लिमिटेड की जगह एसोसिएटेड जर्नल रखने का फैसला किया गया।

द एसोसिएटेड जर्नल्‍स लिमिटेड के विधिक सलाहकार सीबी पांडेय ने बताया कि मीटिंग का गांधी परिवार के बारे में दायर किए गए मामले से कुछ लेना-देना नहीं था।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...