प्रेस फ्रीडम पर ऑनर फ्रीडम हावीः अरुण कुमार

Share Button
Read Time:2 Minute, 2 Second

arun

प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य अरुण कुमार ने देश में पत्रकारों की आजादी पर लगे अंकुश पर गंभीर चिंता प्रकट की है।

उन्होंने राजनामा.कॉम के साथ सीधी बातचीत में कहा कि आज देश में भारतीय संविधान के तहत पत्रकारों की आजादी को लेकर जिस तरह की बातें सामने आ रही है, दरअसल उसे प्रेस फ्रीडम नहीं कहा जा सकता है। यह एक तरह से मालिकानों का फ्रीडम है।

उन्होंने कहा कि आज एक पत्रकार जो कुछ भी खबरें लेकर मीडिया हाउस लाता है, उसका प्रकाशन मालिकों की इच्छा पर निर्भर करता है। बात चाहे प्रिंट मीडिया की हो या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की, हर जगह एक ही माहौल है।  गंभीर स्थिति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अच्छे से अच्छे पत्रकारों को भी मीडिया हाउस के बाहर खड़े गेट गार्ड अपने मासिक के ईशारे पर कभी भी अंदर आने पर रोक लगा देता है, उसे मीडिया हाउस से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है। अगर कोई पत्रकार हिम्मत जुटा कर माननीय न्यायालय का दरबाजा खटखटाता है, तो उसे कान्ट्रैक्ट बेस के आधार का  पैसा देकर इतिश्री कर दिया जाता है।

उन्होनें स्पष्ट शब्दों में कहा कि प्रेस काउंसिल चाहती है कि देश की मीडिया के हर हिस्से में एक ऐसा माहौल बने, जिसमें एक पत्रकार जो देख रहे हैं, जो महसूस कर रहे हैं, उसे निर्भिकता से लिख सके और वो प्रकाशित-प्रसारित हों।

 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

भला-चंगा आदमी अस्पताल में भर्ती होकर खबर छपवा लिया !
डीएनए से भास्कर समूह की छुट्टी, जी ग्रुप ने किया टेकओवर, जगदीश चंद्रा देखेंगे सारे एडिशन्स
उपयोगिता समाप्त हो जाने के बाद छापे गये विज्ञापन
वेशक चार आने की धनिया है “एशिया” के ये लफंगे पत्रकार
अखबारों-टीवी चैनलों के लिए टर्निंग पॉइंट है बिहार चुनाव
दैनिक हिन्दुस्तान के भी कथित अवैध मुगेर संस्करण के जांच का आदेश
धनबाद प्रेस क्लब का निर्णय-300 रुपये दें और सदस्य बनें
पत्रकार रंजन हत्याकांड के आरोपी को सीबीआई कोर्ट से जमानत
पत्रकारिता का यह कैसा वीभत्स चेहरा !
पत्रकार विनायक विजेता ने भड़ास4मीडिया के यशवंत सिंह से कहा- तथ्यों पर आधारित है उनकी खबर
अब नहीं रहे आउटलुक के संस्थापक संपादक विनोद मेहता
पत्रकार संतोष ने फेसबुक पर लिखा- वीरेन्द्र मंडल केस में भावनाओं पर काबू रखना थी बड़ी चुनौती
12 को उद्घाटित होगा ‘खबर मंथन’, विनायक विजेता होंगे प्रधान संपादक
पत्रकार हत्याकांड: आशा रंजन को केस वापस नहीं लेने पर टुकड़े-टुकड़े कर डालने की धमकी
मीडिया कॉनक्लेव में ख़बरों की राजनीति पर जोरदार बहस
उत्तराखंड सीएम ने पत्रकारों को बांटे ‘दिवाली बोनस’
मीडिया के विजय माल्या यानी महुआ चैनल के पीके तिवारी की 112 करोड की सम्पति जब्त
इंडिया टीवी की यह कौन सी जर्नलिज्म है अमित शाह जी ?
जरुरी है PCI की वित्‍तीय एवं वैधानिक शक्तियों में बढ़ोतरी :न्‍यायमूर्ति सीके प्रसाद
मुर्गी लदे वाहन से कुचल कर प्रेस फोटोग्राफर मंजन की मौत
काफी आहत हैं PGI लखनऊ में भर्ती देवघर के कैंसर पीड़ित पत्रकार आलोक संतोषी
बिहार चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजे गलत साबित होने पर NDTV के चेयरमैन ने मांगी माफी
किस लालच-दबाव में रिपोर्टर नीरज के पिछे पड़ी है नालंदा पुलिस?
बिल्कुल बदल गई है पत्रकारों की दिशा और दशा
पत्रकारिता की आड़ में राष्ट्रव्यापी दलाली का नमुना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...